You are here : HomeExplanationeSIM Technology

eSIM क्या है? यह कैसे काम करती है? और इसके क्या-क्या फायदे हैं?

eSIM-Technology-Kya-Hai

जब भी हम कोई Phone खरीदते हैं, तो उसमें SIM Card जरूर डालते हैं। क्योंकि बिना सिम कार्ड के न तो हम फोन से कॉल कर सकते हैं, न मैसेज भेज सकते हैं और न ही इंटरनेट सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। ऐसे में SIM Card जरूरी है। लेकिन अब हमें फोन में सिम कार्ड डालने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि Phone के अंदर पहले से ही eSIM (ई-सिम) इंस्टॉल की हुई आएगी। जो बिल्कुल एक Physical SIM Card की तरह ही काम करेगी। लेकिन सवाल यह है कि यह eSIM है क्या? और यह काम कैसे करती है? साथ ही इसे एक्टिवेट और डिएक्टिवेट करने की Process क्या है? आइए, विस्तार से जानते हैं।

eSIM (ई-सिम)

शुरुआत में हम Mini SIM Card इस्तेमाल करते थे। लेकिन समय के साथ SIM Card का आकार छोटा होता चला गया। और Mini SIM से Micro SIM और फिर Nano SIM का चलन शुरू हो गया। लेकिन अब Nano SIM का भी छोटा रूप, यानि कि eSIM Card आ गया है। जो कि एक Virtual SIM Card (वर्चुअल सिम कार्ड) है।

eSIM-Kaise-Kaam-Karti-Hai
eSIM

कहने का मतलब यह है कि आकार के साथ-साथ SIM Card की टेक्नोलॉजी भी पूरी तरह बदल चुकी है। और Physical SIM Card अब गुजरे जमाने की बात हो चुकी है। अब जमाना है Virtual SIM Card का। यानि कि eSIM Card का, जो एक नई Technology है। यह इस्तेमाल करने में काफी आसान और एडवांस्ड है। साथ ही फिजिकल सिम कार्ड की जगह लेने के लिए पूरी तरह तैयार है। लेकिन सवाल यह है कि आखिर यह eSIM है क्या? और यह Physical SIM Card को किस तरह रिप्लेस करेगी? आइए, जानते हैं।

eSIM क्या है?

eSIM का अर्थ है Embedded SIM (इम्बेडेड सिम)। यानि कि Embedded Subscriber Identity Module. (इम्बेडेड सब्सक्राइबर आइडेंटिटी मॉड्यूल)। यह दरअसल एक Virtual SIM Card है, जो एक Chip के रूप में फोन के साथ इम्बेडेड होता है। यानि कि फोन के साथ जुड़ा हुआ होता है। या कह लीजिए कि फोन का ही एक हिस्सा होता है, जिसे आप फोन से अलग नहीं कर सकते। और चूंकि eSIM एक वर्चुअल सिम कार्ड है। इसीलिए यह Software की मदद से काम करता है।

अवश्य पढ़ें: Phone Hack करने के कौन-कौनसे तरीके हैं व इनसे कैसे बचें?

आसान भाषा में कहें तो eSIM Card फोन के Internal Storage की तरह होता है। जिसमें आप कोई भी Data Write कर सकते हैं। यानि कि यह Rewritable होता है। साथ ही फोन के अंदर पहले से इंस्टॉल किया हुआ आता है। ऐसे में आप इसे एक फोन से निकालकर दूसरे फोन में नहीं डाल सकते। लेकिन अगर आप अपना फोन बेचने जा रहे हैं, तो उसमें मौजूद eSIM वाले नम्बर को Deactivate करके दूसरे फोन में Activate कर सकते हैं। आपको बता दें कि eSIM Card को किसी भी नेटवर्क ऑपरेटर के साथ Configure किया जा सकता है।

ई-सिम कैसे काम करती है?

जब आप कोई eSIM युक्त फोन खरीदते हैं, तो उसमें मौजूद ई-सिम पूरी तरह खाली होती है। ऐसे में उसे एक्टिवेट करने के लिए सर्विस प्रोवाइडर (Airtel, Jio आदि) से सम्पर्क करना पड़ता है। सर्विस प्रोवाइडर आपको एक QR Code देता है, जिसे स्कैन करते ही फोन में मौजूद eSIM Activate हो जाती है। और आप तमाम सुविधाओं का लाभ उठा सकते है। इस पूरी प्रक्रिया में लगभग 2 घंटे का समय लगता है।

अवश्य पढ़ें: Smartphone कम्पनियाँ हमें किस तरह बेवकूफ बनाती हैं? और क्यों?

आपको बताना चाहूँगा कि इस वक्त भारत में सिर्फ Airtel और Jio ही ऐसे सर्विस प्रोवाइडर्स हैं, जो eSIM सेवा उपलब्ध करवा रहे हैं। बाकी टेलीकॉम कंपनियों के पास यह सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे में अगर आप Airtel अथवा Jio के ग्राहक नहीं हैं। तो आपको अपना नम्बर एयरटेल/जियो में Port करवाना होगा। तभी आप eSIM सेवा का लाभ उठा पाऐंगे। लेकिन सवाल यह है कि eSIM को एक्टिवेट करने का Process क्या है? और इसके लिए कौन-कौनसे डॉक्यूमेंट्स चाहिए? तो इसके लिए Airtel और Jio दोनों का ही अलग-अलग तरीका है। आइए, दोनों के बारे में जानते हैं।

How To Activate eSIM?

सबसे पहले तो आपको यह तय करना है कि आप नया नम्बर लेना चाहते हैं? या फिर अपने मौजूदा नम्बर को ही eSIM में बदलना चाहते हैं? अगर आप मौजूदा नम्बर को ई-सिम में बदलना चाहते हैं। और आपके पास Airtel अथवा Jio का सिम कार्ड नहीं है। तो आप अपना मौजूदा नम्बर एयरटेल अथवा जियो में Port करवा सकते हैं। लेकिन अगर आप अपना नम्बर पोर्ट नहीं करवाना चाहते तो Airtel अथवा Jio का नया नम्बर भी खरीद सकते हैं। मर्जी आपकी है। खैर, अब बारी है eSIM को Activate करने की। तो यह कोई ज्यादा मुश्किल काम नहीं है। बल्कि बहुत ही आसान है।

How To Activate Airtel’s eSIM?

अगर आप Airtel के Customer हैं। और अपने मौजूदा Number को eSIM में बदलना चाहते हैं। तो टाईप कीजिए eSIM<space>Registered Email ID और भेज दीजिए 121 पर। जैसे कि अगर आपकी ईमेल आईडी example@gmail.com है तो टाईप कीजिए eSIM example@gmail.com और भेज दीजिए 121 पर। जैसे ही आप यह मैसेज भेजेंगे, आपको एक Confirmation Message प्राप्त होगा। जिसमें आपसे पूछा जाएगा कि क्या आप वाकई अपने फिजिकल सिम कार्ड को ई-सिम में बदलना चाहते हैं? जवाब में आपको 1 लिखकर भेजना है, जिसका मतलब है ‘हाँ’। और यह जवाब आपको 60 सैकण्ड के भीतर-भीतर देना है। क्योंकि 60 सैकण्ड के बाद मैसेज Expire हो जाएगा।

अवश्य पढ़ें: नया और पुराना Phone खरीदते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

खैर, Confirmation के बाद आपकी Email ID पर एक मेल आएगा, जिसमें आपको एक QR Code मिलेगा। इसी QR Code को स्कैन करके आपको अपनी eSIM Activate करनी है। लेकिन सवाल यह है कि कैसे? तो इसका जवाब बहुत ही आसान है। अगर आप iPhone User हैं तो अपने फोन की Settings में जाइए और Mobile Data पर टैप कीजिए। उसके बाद Add Data Plan पर टैप कीजिए। और अंत में Scan QR Code पर टैप करके Camera की मदद से क्यूआर कोड को स्कैन कर लीजिए।

अगर आप Android User हैं तो अपने फोन की Settings में जाइए। और Network & Internet > Mobile Network > Advanced > Carrier और Add Carrier पर टैप कीजिए। और अंत में Scan QR Code पर टैप करके Camera की मदद से QR Code को स्कैन कर लीजिए।

How To Activate Jio’s eSIM?

अगर आप Jio User हैंं। तो अपना eSIM युक्त फोन लेकर नजदीकी Jio Store अथवा Reliance Digital Outlet पर जाइए। और वहाँ अपना CAF Form भरकर सबमिट कीजिए। फॉर्म में अपना Jio Number और फोन का IMEI Number जरूर लिखें। क्योंकि यह जरूरी है। फॉर्म सबमिट करने के बाद जियो एक्जीक्यूटिव ऑफिसर आपका फॉर्म चैक करेगा। और आपके द्वारा दी गई Details को Verify करेगा। और उसके बाद POS (Point-of-Sale) Machine के जरिए एक QR Code Generate करेगा। इस QR Code को आपके Phone से स्कैन किया जाएगा। और उसके बाद आपका eSIM Activate हो जाएगा।

eSIM के फायदे

ई-सिम को अगर भविष्य की Technology कहें, तो कुछ गलत नहीं होगा। क्योंकि आने वाले समय में हर Smartphone में सिर्फ eSIM ही देखने को मिलेगी। अब आप पूछेंगे कि ऐसा क्यों? तो ऐसा इसलिए, क्योंकि eSIM के बहुत सारे फायदे हैं। कौनसे फायदे? चलिए, बताते हैं।

अवश्य पढ़ें: Reselling से कमाइए घर बैठे 50,000 रूपये महीना। Top-5 Reseller Apps

1. Space Saving : ई-सिम की वजह से डिवाइस में अलग से SIM Card Tray नहीं देना पड़ता। इससे जगह की बचत होती है। और इस बची हुई जगह को दूसरे महत्वपूर्ण कंपोनेंट्स के लिए उपयोग में लिया जा सकता है।

2. Anti-Theft : ई-सिम कार्ड का सबसे बड़ा फायदा यह है. कि न तो यह गुम हो सकता है और न ही चोरी। हाँ, अगर फोन चोरी हो जाए, तो बात अलग है। लेकिन इसका भी एक फायदा है। दरअसल चोर, फोन से SIM Card को निकाल नहीं सकता। और इसीलिए उसे पकड़ना आसान होता है।

3. Less Battery Consuption : ई-सिम सॉफ्टवेयर की मदद से काम करती है। इसीलिए यह फिजिकल सिम कार्ड की बजाय कम बैटरी खर्च करती है।

4. Network Switching : ई-सिम की मदद से सर्विस प्रोवाइडर बदलना काफी आसान होता है। जैसे कि अगर आप एयरटेल के ग्राहक हैं। और Jio की सर्विस लेना चाहते हैं। तो आप बिना अपना नम्बर बदले और बिना सिम कार्ड बदले Jio की सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Truecaller का उपयोग करना कितना घातक हो सकता है? और कैसे?

5. Best For Travlers : देश-विदेश में यात्रा करने वाले Travellers के लिए eSIM किसी वरदान से कम नहीं है। क्योंकि यह Travellers को Roaming Charges से बचाती है।

6. Better Security : अगर एक्सपर्ट्स की मानें, तो ई-सिम, फिजिकल सिम से ज्यादा Secure होती है। ऐसे में अगर सुरक्षा के लिहाज से देखें, तो भी eSIM एक बेहतर विकल्प है।

Conclusion

कुल मिलाकर eSIM के कई सारे फायदे हैं। लेकिन एक नुकसान भी है। दरअसल इसे एक फोन से निकालकर दूसरे फोन में नहीं डाला जा सकता। क्योंकि यह फोन के साथ जुड़ी हुई होती है। ऐसे में अगर आपका फोन Battery Low होने की वजह से बंद होने वाला हो। और आप चाहें कि SIM Card को निकालकर दूसरे फोन में डाल लें। ताकि जरूरी Calls और Messages मिस ना हों। तो यह मुमकिन नहीं है। हालांक Call Forwarding के जरिए इसका हल निकला जा सकता है। लेकिन इसके लिए भी एक दूसरा फोन और सिम कार्ड होना जरूरी है।

उम्मीद करता हूँ इस आर्टिकल के जरिए आपको eSIM Kya Hai? और यह कैसे काम करती है? इस विषय में काफी उपयोगी जानकारी मिली होगी। अगर अब भी इस टॉपिक को लेकर आपके मन में कोई सवाल है। तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही और ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम को सब्सक्राइब कर लीजिए। ताकि जब भी हमारा नया आर्टिकल प्रकाशित हो, आपको उसका Notification मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

Comment