Naaptol से लीक हो रहा है आपका Personal Data, भूलकर भी न करें Shopping

Naaptol-Fraud-And-Data-Leak

आपने Naaptol का नाम तो जरूर सुना होगा। अगर नहीं सुना है तो मैं बता देता हूँ। यह दरअसल एक Teleshopping Company है, जो TV Channel के जरिए अपना सामान बेचती है। टीवी चैनल के साथ-साथ इसकी एक वेबसाइट और मोबाइल ऐप भी है, जिसके जरिए यह Online सामान बेचती है। लेकिन यह पूरा सच नहीं है। क्योंकि सामान बेचने की आड़ में यह कंपनी कुछ और ही गुल खिला रही है। जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैंं। अगर आपने Naaptol से Shopping की है तो आपको पता ही होगा कि मैं किस बारे में बात कर रहा हूँ। खैर, आइए जानते हैं Naapto की असलियत।

Naaptol Data Leak

अगर मैं आपसे पूछूँ कि 21वीं सदी की सबसे महंगी और कीमती वस्तु क्या है? तो शायद आपका जवाब सोना-चांदी, हीरे-जवाहरात या कोई और महंगी वस्तु हो सकता है। लेकिन मैं आपको बता दूँ कि यह कुछ भी नहीं है। इससे कहीं महंगा आपका डाटा (Data) है। और यही डाटा 21वीं सदी की सबसे महंगी और कीमती वस्तु है। जी हाँ, आपका, मेरा और हम सबका Personal Data बहुत कीमती है। इसकी Security के लिए कंपनियां सलाना अरबों रूपये खर्च करती हैं। मगर नापतौल इसी Data के साथ घपला करके लोगों की प्राइवेसी और सुरक्षा के साथ खेल रही हैं।

Naaptol का असली खेल

जब आप Naaptol से Online Shopping करते हैं तो आपकी Personal Details नापतौल के पास चली जाती है। जैसे कि आपका नाम, पता, मोबाइल नम्बर, Device ID, Geo Location, Payment Details आदि। यहाँ तक तो फिर भी ठीक है। क्योंकि Amazon, Flipkart, Snapdeal और यहाँ तक कि हर शॉपिंग पोर्टल का यही सिस्टम है। यानि कि हर शॉपिंग पोर्टल पर आपकी पर्सनल डिटेल्स को Store करके रखा जाता है। लेकिन Naaptol और बाकी Shopping Portals में बहुत बड़ा फर्क है।

अवश्य पढ़ें: Truecaller का उपयोग करना कितना घातक हो सकता है? और कैसे?

दरअसल बाकी कंपनियां अपने ग्राहकों का डाटा Hackers से बचाकर रखती हैं। और उसकी सुरक्षा के लिए हर साल अरबों रूपये खर्च करती हैं। लेकिन Naaptol अपने ग्राहकों का डाटा Online Fraud करने वालों को बेच देती है। जिसकी मदद से वे भोले-भाले लोगों को बेवकूफ बनाकर उनकी सारी जमापूँजी ठग लेते हैं। और मुझे तो शक है कि इस गौरखधंधे में नापतौल के खुद के कर्मचारी भी शामिल हैं। क्योंकि बिना अंदर के व्यक्ति के इतना बड़ा खेल संभव नहीं है। और यह मैं ऐसे ही नहीं कह रहा, बल्कि मेरे पास इसका Proof भी है।

Naaptol के दो चेहरे

दरअसल Naaptol के दो चेहरे हैं। एक सफेद झक्क तो दूसरा काला स्याह! सफेद चेहरा जहाँ दूध का धुला नजर आता है। वहीं काला चेहरा Fraud, Scam और Data Breaching की कालिख से पुता है। “हाथी के दांत खाने के और, दिखाने के और” यह महज एक कहावत नहीं है। बल्कि Naaptol जैसी कंपनियों की हकीकत है। नापतौल खुद को हमेशा बेदाग दिखाती है। साथ ही Fraud Call करने वालों को पैसे ट्रांसफर न करने और उनके खिलाफ शिकायत करने की सलाह देती है। लेकिन जब आप शिकायत करते हैं, तब आपकी बात कोई सुनता तक नहीं।

Naaptol Customer Care

तीन साल पहले होली के मौके पर मैंने पहली बार Naaptol से Shopping की थी। सामान डिलीवर होने के अगले ही दिन मेरे पास कॉल आ गया। कॉल करने वाले ने बताया कि वह नापतौल से बोल रहा है। और होली के मौके पर उनके यहाँ एक कॉन्टेस्ट चल रहा है, जिसमें हर रोज लॉटरी द्वारा तीन Lucky Winners को चुना जाता है। इस कॉन्टेस्ट में 1st Prize जीतने पर उसने मुझे बधाई दी और पूछा कि आप ईनाम में जीती हुई कार लेना चाहेंगे या फिर कार की कीमत? कार की कीमत उसने 7,60,000 (सात लाख साठ रूपये) बताई।

अवश्य पढ़ें: अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन की कड़ी सुरक्षा के लिए अपनाऐं ये 10 जरूरी टिप्स

साथ ही यह भी बताया कि अगर आप कार लेंगे तो 15 से 20 दिन का समय लगेगा और Paper Work का चार्ज 12,000 रूपये अलग से देना होगा। वहीं कार की कीमत लेने पर हाथों-हाथ आपके Bank Account में ट्रांसफर कर दी जाएगी। और इसके लिए आपको सिर्फ 3500 रूपये बतौर Tax देने होंगे। और ये 3500 रूपये एडवांस में जमा करवाने होंगे। उसके बाद उसने मुझे एक अकाउंट नम्बर दिया और उसमें जल्द से जल्द पैसे ट्रांसफर करने को कहा। ताकि वह मेरे 7,60,000 जल्द से जल्द मेरे अकाउंट में ट्रांसफर कर सके।

Who Leaked Order Details?

हालांकि मुझे पहले से मालूम था कि यह एक Fraud Call है। इसलिए मैंने कोई पैसे ट्रांसफर नहीं किए। लेकिन मेरे दिमाग में एक सवाल उठा कि कॉल करने वाले को कैसे पता कि मैंने Naaptol से क्या ऑर्डर किया था? और उसको मेरा नम्बर किसने दिया? इस सवाल का जवाब जानने के लिए जब मैंने Naaptol Customer Care Number पर कॉल किया तो उन्होंने पहले तो यह मानने से ही इनकार कर दिया कि ऐसा हुआ भी है। और उन्होंने यह कहते हुए कॉल डिस्कनेक्ट कर दी कि हम इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दे सकते।

अवश्य पढ़ें: दुनिया की 10 सबसे फालतू और वाहियात Apps, जो हर फोन में देखने को मिल जाती हैं

उसके बाद मैंने फिर से कॉल किया और इस बार मेरे नाम बताते ही उन्होंने फिर से कॉल डिस्कनेक्ट कर दी। लेकिन जब मैंने कॉल पर कॉल करना शुरू किया तो तंग आकर उन्होंने बताया कि Naaptol की वेबसाइट Hack हो गई थी। और कुछ Customers का Data Hackers के हाथ लग गया था। लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है। क्योंकि अब सब कुछ नॉर्मल है। और इस तरह बात आई-गई हो गई।

Naaptol Cash Winner

कुछ महीने बाद एक बार फिर मैंने Naaptol से Shopping की। और इस बार भी Same वही हुआ जो पहले हुआ था। फर्क बस इतना था कि इस बार कॉल करने वाले ने गाड़ी की बजाय सीधे एक लाख रूपये Cash जीतने की बात कही। साथ ही Tax और Processing Fees के नाम पर 2500 रूपये एडवांस जमा कराने को कहा। लेकिन चूँकि मुझे पता था कि यह एक Fraud Call है। इसलिए मैंने Naaptol Customer Care में कॉल किया और उन्हें पूरी बात बताई। जवाब में उन्होंने Fraud Call होने की बात कहकर झट से फोन काट दिया।

अवश्य पढ़ें: नया और पुराना Phone खरीदते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

मैंने फिर से कॉल किया और इस बार फोन उठाते ही सबसे पहले मैंने यही पूछा कि “सर! Fraud Call करने वाले उस ठग के पास मेरे Order की Details कहाँ से आई? और उसको मेरा नाम, पता और Mobile Number किसने दिया? क्योंकि यह सब जानकारी तो मैंने Naaptol को दी थी! फिर उस ठग के पास यह जानकारी कैसे पहुंची? क्या इसमें नापतौल….” अभी मेरी बात पूरी भी नहीं हुई थी कि उधर से जवाब आया, “सॉरी सर! इस संबंध में हम आपकी कोई मदद नहीं कर सकते।” इतना कहकर उसने कॉल डिस्कनेक्ट कर दी।

जवाब देने में आनाकानी

मतलब! न तो पूरी बात सुनी और न ही ठीक से जवाब दिया। पर मैंने भी पीछा नहीं छोड़ा। कॉल पर कॉल करता रहा। अंतत: हारकर उन्हें जवाब देना पड़ा। लेकिन इस बार भी वजह वही बताई गई जो पिछली बार बताई थी। यानि कि Website Hack होने की वजह से Data Leak हो गया था। पर जवाब सुनकर मन को ज़रा भी संतुष्टि नहीं मिली। क्योंकि एक तो जवाब देने में इतनी आनाकानी और उपर से वही रटा-रटाया जवाब। मन में शक हुआ कि कुछ तो गड़बड़ है।

अवश्य पढ़ें: फोन की स्क्रीन से निकलने वाली Blue Light क्या है और इसके क्या-क्या नुकसान हैं?

इसलिए मैंने अलग-अलग नाम-पत्ते और मोबाइल नम्बर से चार बार और शॉपिंग की। और हर बार मेरे पास Fraud Call आया। जाहिर-सी बात है, रोज-रोज तो Website Hack होती नहीं। फिर हर बार मेरा नाम, पता और मोबाइल नम्बर ठगों तक कैसे पहुँचा? जाहिर-सी बात है इसमें कंपनी के ही लोगों का हाथ था। क्योंकि जब भी मैंने Naaptol Customer Care में इसकी शिकायत की, हर बार उन्होंने मुझे इग्नोर किया। यानि कि न तो मेरी पूरी बात सुनी और न ही कोई संतोषजनक जवाब दिया। पर मैंने भी पीछा नहीं छोड़ा।

घर तक पहुँचे Naaptol के ठग

इस बार जब मैंने Naaptol से Shopping की तो मेरे पास कोई Fraud Call नहीं आया। मुझे लगा नापतौल वाले सुधर गए। लेकिन नहीं, मैं गलत था। क्योंकि 4 दिन बाद ही मेरे घर के पत्ते पर Naaptol की डाक आ गई। यह स्पीड पोस्ट से भेजा गया एक लिफाफा था, जिसमें एक लेटर और एक Scratch Coupon था। और स्क्रैच कूपन में मेरी उम्मीद के मुताबिक 1st Prize और 6,50,000 Cash Prize लिखा था। साथ ही Naaptol Prize Helpline के नाम से एक मोबाइल नम्बर दिया गया था, जिस पर कॉल करके Cash प्राप्त करने के लिए कहा गया था।

अवश्य पढ़ें: Developer Options क्या है? इसका हमारे फोन में क्या उपयोग है? टॉप फीचर्स

जब मैंने Naaptol Customer Care में कॉल करके पूछा तो उन्होंने वही बताया, जो हर बार बताते हैंं। यानि कि हमारे यहाँ ऐसा कोई कॉन्टेस्ट नहीं चल रहा। कृपया इसे इग्नोर करें और कोई भी पैसे जमा न करवाऐं। यह एक Fraud Call है। लेकिन जब मैंने कहा कि यह कोई Call नहीं है, बल्कि डाक है। और मेरे घर के पत्ते पर भेजी गई है। अब आप यह बताइए कि Fraud करने वालों के पास मेरा यह Address कहाँ से आया? क्योंकि यह एड्रेस तो मैंने Naaptol को दिया था, डिलीवरी के लिए! इस पर जनाब ने झट से फोन काट दिया।

फिर वही जवाब

दुबारा कॉल किया तो फिर कॉल डिस्कनेक्ट कर दी। लेकिन मैं भी पीछे पड़ गया। क्योंकि मुझे जानना था कि इस बार ये लोग क्या बहाना बनाते हैं? वही रोज वाला बहाना ही चिपकाऐंगे या फिर कोई नया बहाना ढूँढ लिया है? चौथी बार कॉल करने पर एक सज्जन ने रहम खाकर जवाब का कष्ट किया और बताया कि Naaptol का इससे कोई लेना-देना नहीं है। साथ ही उन्होंने नापतौल की रेपुटेशन, घर-घर तक पहुंच और भरोसे की ऐसी बिरदावली गाई कि एक क्षण को तो मुझे भी लगा कि यार! नापतौल से अच्छी और भरोसेमंद कंपनी तो पूरी पृथ्वी पर नहीं है।

अवश्य पढ़ें: बच्चों को फोन से दूर रखने का सही तरीका क्या है? उन्हें किस उम्र में फोन देना चाहिए?

लेकिन जब मैंने उन सज्जन को बीच में ही टोकते हुए यह पूछा कि Naaptol से Customers का Data लीक क्यों होता है? और यह कौन करता है? तो उन्होंने सारा इल्जाम Courier Company के सिर मढ़ दिया और खुद साफ-साफ बच गए। उन्होंने बताया कि कूरियर कंपनी हमारी अपनी नहीं होती। हम प्राइवेट कंपनियों की सेवा लेते हैं। और यही कंपनियां और इनके Courier Boys कस्टमर्स का डाटा लीक करते हैं। इस बार बहाना नया था और विश्वास करने लायक भी, इसलिए न चाहते हुए भी विश्वास कर लिया।

Delivery Boy Leaks Data?

लेकिन जब मैंने देखा कि मेरे Area में तो एक ही Courier Company है। और वही Amazon, Flipkart और बाकी सारी कंपनियों के भी ऑर्डर डिलीवर करती है। साथ ही जो Courier Boy Amazon, Flipkart और Snapdeal के Order लेकर आता है, वही Naaptol के Order लेकर आता है। फिर अकेले Naaptol Customers का ही Data Leak क्यों होता है? मैंने Amazon, Flipkart और Snapdeal से भी सैंकड़ों बार Shopping की है, लेकिन इनकी तरफ से तो कभी कोई Fraud Call नहीं आया।

अवश्य पढ़ें: Android 10 (Android Q) आधिकारिक रूप से लॉन्च। ये हैं टॉप-10 फीचर्स

आज तक कभी भी किसी ने Call करके यह नहीं कहा कि सर! आपने Amazon या Flipkart या Snapdeal से फलां-फलां चीज ऑर्डर की थी। उसकी वजह से आपका नाम Lucky Draw में निकला है। यानि कि इन कंपनियों के Orders की Details तो आज तक कभी Leak नहीं हुई। अगर Courier Boy ही डिटेल्स लीक करता तो इनकी डिटेल्स भी तो लीक होनी चाहिए? हाँ, मैं यह नहीं कह रहा कि सारे के सारे Courier Boy दूध के धुले हैं। लेकिन मैं बस इतना जानता हूँ कि हमारे Area में जो लड़का डिलीवरी देने आता है, वह ऐसा नहीं करता। मैंने कई बार परखा है।

Naaptol Leaks Data?

तो वास्तव में Naaptol Customers का Data कहाँ से Leak हो रहा है और कौन कर रहा है? इसका पता लगाने के लिए मैंने न चाहते हुए भी एक बार फिर नापतौल से Shopping की। लेकिन इस बार सामान डिलीवर होने से पहले ही मेरे पास एक डाक आ गई। मेरे दिए हुए Address पर एक लिफाफा भेजा गया। मगर लिफाफे के उपर भेजने वाले का कोई भी नाम-पता नहीं था। जैसा कि आप इस तस्वीर में देख सकते हैं…

Naaptol-Fraud-Post
Naaptol Fraud Post

इस लिफाफे के उपर सिर्फ मेरा नाम-पता और मोबाइल नम्बर लिखा है। साथ ही एक सील लगी है, जिसमें PIN Code – 743127 लिखा है। यह दरअसल श्यामनगर, उत्तरी 24 परगना (पश्चिम बंगाल) के किसी एरिया का पिन कोड है। खैर, जब मैंने लिफाफे को खोला तो उसमें एक लैटर और एक Scratch And Win Coupon निकला। लैटर में 2020 Dhamaka और Naaptol की 11th Anniversary का विशेष रूप से जिक्र किया गया था। जैसा कि आप इस तस्वीर में देख सकते हैं….

Naaptol-Fraud-Letter
Naaptol Fraud Letter

इस लैटर में नापतौल की 11वीं सालगिरह के मौके पर आयोजित Random Lucky Draw Contest का जिक्र है। साथ ही कंपनी को इस बात की बहुत खुशी है कि उसके द्वारा चुने हुए Lucky Customers में से मैं भी एक हूँ। उसके बाद इनाम के रूप में कुछ पॉपुलर और महंगे Products का नाम लिखा है। और अंत में निर्देश दिया गया है कि इस Contest की जानकारी के लिए Naaptol Customer Care Number पर कॉल न करें। क्योंकि इसकी जानकारी सिर्फ Naaptol Prize Helpline Number पर ही उपलब्ध है। यहाँ आप नापतौल के दोनों चेहरे एक साथ देख सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: आखिर Xiaomi और Samsung के फोन इतने ज्यादा गर्म क्यों होते हैं?

इस लैटर में कुछ नियम-कायदे भी लिखे हैंं। जैसे कि Courier का खर्चा Winner से वसूला जाएगा और वह भी एडवांस में। और अगर आप Cash Prize जीतते हैं तो सारा पैसा डायरेक्ट आपके Bank Account में ट्रांसफर किया जाएगा। साथ ही सरकारी टैक्स और सारा खर्चा एडवांस में वसूला जाएगा और इनामी राशि में से नहीं काटा जाएगा। क्योंकि इनामी राशि तो कुछ है ही नहीं, काटेंगे क्या? इसलिए यह विशेष रूप से लिखा है ताकि कस्टमर यह न कह सके कि आप अपना सारा खर्चा इनामी राशि में काटकर बचे हुए पैसे भेज दीजिए।

Scratch & Win Coupon

लिफाफे में लैटर के साथ एक खूबसूरत-सा रंग-बिरंगा स्क्रैच कूपन भी था। जिस पर Naaptol का Original Logo और इनामी गाड़ियों का फोटो छपा था। जब मैंने कूपन को स्क्रैच किया तो उसमें वही निकला, जिसकी मुझे उम्मीद थी। यानि कि 1st Prize, एक Maruti Alto 800 कार। साथ में लिखा था एक SMS Code, जो कि दिए गए मोबाइल नम्बर पर SMS करना था। जैसा कि आप इस तस्वीर में देख सकते हैं…

Naaptol-Scratch-And-Win-Coupon
Naaptol Scratch & Win Coupon

जब मैंने नापतौल कस्टमर केयर में कॉल किया तो हर बार की तरह उन्होंने यही कहा कि यह एक Fraud Call है और आप कोई भी पर्सनल जानकारी शेयर न करें। मैंने कहा, सर! मैं कॉल की बात नहीं कर रहा, बल्कि मेरे Address पर एक डाक आई है, उसकी बात कर रहा हूँ। इस पर जनाब ने बताया कि कोई भी कॉल या डाक करके कुछ आए तो आप कोई भी जानकारी न बताऐं। यह Fraud है। लेकिन जब मैंने यह पूछा कि इन Fraud करने वालों को मेरा Address किसने दिया, तो जनाब ने फट से कॉल काट दी। सुनिए, यह Call Recording….

खैर, मैंने दुबारा कॉल किया। और फिर से पूरी बात बताई। लेकिन इस बार भी वही बात दोहराई गई कि यह एक Fraud Call है। और आप कोई भी जानकारी शेयर मत कीजिए, वगैरह-वगैरह। मैंने भी जोर देकर कहा कि सर, कॉल नहीं आया है, एक डाक आई है। वह भी मेरे घर के Address पर, जो कि मैंने Shopping करते वक्त Naaptol को दिया था। अब आप मुझे यह बताइए कि मेरा Address उन लोगों के पास कैसे पहुँचा? इस पर जनाब ने यह कहते हुए कॉल डिस्कनेक्ट कर दी कि इसमें हम आपकी कोई मदद नहीं कर सकते। सुनिए, यह कॉल रिकॉर्डिंग….

मैंने फिर कॉल लगाया। इस बार मुझसे Last Order की Details और Order Number मांगा गया, जो कि मैंने बता दिया। साथ ही जनाब ने चैक करके Confirm भी कर दिया कि हाँ, मैंने ऑर्डर बुक किया है, लेकिन रिसीव नहीं किया। अब जो ऑर्डर आया ही नहीं, उसे रिसीव कैसे करूँगा? खैर, उसके बाद मैंने पूछा कि मेरा Address कहाँ से लीक हुआ? कहीं आप कंपनी वाले खुद ही तो Fraud नहीं कर रहे हैं। इस पर जनाब कहने लगे कि हमारे पास इस तरह की कोई जानकारी नहीं है। यह कहकर उन्होंने कॉल डिस्कनेक्ट कर दी। सुनिए, यह कॉल रिकॉर्डिंग…

मैं समझ गया कि मेरे सवाल का उनके पास कोई जवाब नहीं है। फिर भी मैंने एक आखिरी कोशिश और की। एक बार फिर कॉल लगाया। इस बार उन्होंने मेरा पूरा नाम भी बोला, शायद उनको याद हो गया था। लेकिन जब मैंने यह पूछा कि मेरा Address कहाँ से लीक हुआ? और कौन लीक कर रहा है? तो जनाब ने गजब की फुर्ती दिखाते हुए झट से कॉल डिस्कनेक्ट कर दी। सुनिए यह आखिरी कॉल रिकॉर्डिंग…

इससे मुझे अंदाजा हो गया कि अब ये लोग बात नहीं करेंगे। क्योंकि ये तो मेरा नाम सुनते ही कॉल डिस्कनेक्ट रहे हैं। और जिस तरह ये लोग मुझे इग्नोर कर रहे हैं और जवाब देने से बच रहे हैं। इसका मतलब ये खुद भी इस खेल में शामिल हैं। ये लोग या तो खुद फ्रॉड कर रहे हैं या फिर Fraud करने वालों को Data बेच रहे हैं। इसके अलावा Data Leak होने की और कोई वजह नजर नहीं आती।

Naaptol Fraud And Scam

नापतौल Shopping Company कम और Fraud Company ज्यादा लगती है। क्योंकि हर Product की खरीददारी पर Fraud Call आना कोई संयोग नहीं हो सकता। और न ही रोज-रोज वेबसाइट हैक हो सकती है। रही बात Courier Companies की तो कोई भी कंपनी अपना नाम खराब नहीं करना चाहती। क्योंकि एक बार नाम खराब होने के बाद उस कंपनी को Orders नहीं मिलते। इसलिए Courier कंपनियां ऐसे कर्मचारियों को निकाल देती हैंं, जो डाटा लीक करते हैं। हालांकि चोरी-छिपे कुछ Delivery Boy ऐसा करते होंगे, लेकिन सारे नहीं।

अवश्य पढ़ें: क्या आपके फोन का IMEI Number वैलिड है? पता कीजिए इन 3 तरीकों से

दूसरी बात, Naapto के खिलाफ खुद उसी के Customers की इतनी शिकायतें हैं कि गिनना मुश्किल है। यानि कि एक बार जो इंसान Naaptol से Shopping कर लेता है, वह धन्यवाद करे न करे, पर शिकायत जरूर करता है। हालांकि इस काम के लिए Naaptol की हेल्पलाइन भी है, मगर यहाँ Help कम, और सिरदर्द ज्यादा मिलता है। क्योंकि पहली बात तो यहाँ किसी की शिकायत सुनी ही नहीं जाती। और अगर गलती से सुन भी ली जाती है, तो उसका समाधान नहीं होता।

नापतौल के कर्मचारी और फ्रॉड

अब तक मुझे सिर्फ शक था कि Data Breaching और Fraud के इस खेल में नापतौल के खुद के कर्मचारी शामिल हैं। लेकिन अब मेरा शक, यकीन में बदल गया है। और यह काम खुद Naaptol वालों ने ही किया है। यानि कि उन्होंने ही मेरे शक को यकीन में बदला है। क्योंकि कुछ ऐसे सवाल हैं, जो नापतौल को कठघरे में खड़ा करते हैं। मगर नापतौल के पास उनका कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं है। जैसे कि –

1. नापतौल के हर Order की Details Leak क्यों होती है? और हर Customer के पास Fraud Call क्यों आता है?

2. क्या फ्रॉड कॉल करने वाले कंपनी के ही लोग होते हैं? अगर नहीं तो Fraud Call करने वालों के पास Customers का नाम, पता, मोबाइल नम्बर और खरीदे गए सामान का सही-सही ब्यौरा कहाँ से आता है? उन्हें कौन उपलब्ध करवाता है? क्या Naaptol Company अपने Customers का Fraud करने वालों को Data बेचती है?

3. जब भी कोई Naaptol Customer Care में कॉल करता है तो उसकी शिकायत क्यों नहीं सुनी जाती? और शिकायतकर्ता की पूरी बात सुने बिना ही कॉल क्यों काट दी जाती है? Fraud करने वालों के खिलाफ कंपनी कोई एक्शन क्यों नहीं लेती?

अवश्य पढ़ें: फोन खोने या चोरी होने पर CEIR पोर्टल पर सूचना दें, सरकार ढूंढेगी आपका फोन

4. Fraud करने वाले लोग खुल्लमखुल्ला कंपनी का नाम और Logo इस्तेमाल कर रहे हैं, इसके बावजूद कंपनी कोई एक्शन क्यों नहीं लेती? क्या वे कंपनी के खुद के लोग हैं?

5. और अगर कंपनी एक्शन लेती है तो अब तक कंपनी ने कितनी Police Complaints दर्ज करवाई हैं? और कितने लोगों को सजा हुई है? साथ ही एक्शन लेने के बावजूद सालों से यह गौरखधंधा ज्यों-का-त्यों क्यों चल रहा है?

6. क्या Naaptol के नाम चल रहे इस Fraud के गौरखधंधे में Naaptol का कोई हाथ है? अगर नहीं तो कंपनी जवाब देने से क्यों बचती है?

7. और सबसे अहम सवाल कि हमेशा Naaptol Customers का ही Data Leak क्यों होता है? अन्य शॉपिंग कंपनियों जैसे कि Amazon, Flipkart, Snapdeal और Shopclues के Customers का डाटा तो कभी लीक नहीं होता? इसकी क्या वजह है?

अगर Naaptol कंपनी खुद को पाक-साफ और बेदाग समझती है तो इन सातों सवालों का सही और संतोषजनक जवाब दे। वरना यह स्वीकार करे कि वही इस Fraud के खेल की असली मास्टरमाइंड है। उम्मीद करता हूँ, इस आर्टिकल के जरिए आपको Naaptol की असलियत पता चल गई होगी। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share जरूर करें। साथ ही नये आर्टिकल्स की सूचना पाने के लिए ‘टेकसेवी डॉट कॉम’ को Subscribe करना न भूलें।

अवश्य पढ़ें (ख़ास आपके लिए) :-

मैं मेघराज मुंशी, एक वेब डिजायनर, ग्राफिक आर्टिस्ट और ब्लॉगर हूँ। वैसे पेशे से मैं एक शिक्षक हूँ और शिक्षा विभाग राजस्थान में कार्यरत हूँ। पढ़ने-पढ़ाने और लिखने के अलावा मुझे फिल्में देखना बहुत पसंद है। साहित्य, संगीत, सिनेमा, अंतरिक्ष, विज्ञान और तकनीकी मेरे पसंदीदा विषय हैं।

Comment