You are here : HomeExplanationVideo SEO : Content

Video SEO : Content Optimization क्या है और यह कैसे किया जाता है?

Video-SEO-Content-Optimization

यह Video SEO सीरीज का छठा भाग है। इससे पहले हम Keywords, Title, Thumbnail, Description और Tags के बारे में विस्तार से चर्चा कर चुके हैं। और आज का हमारा टॉपिक है Video SEO : Content यानि कि वीडियो एसईओ में कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन। इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि एक Youtube Video के लिए High Quality Content कैसे तैयार किया जाता है? और Content Create करते वक्त किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? अगर आप एक Youtuber हैं और कंटेंट ऑप्टिमाइजेशन के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं! तो यह आर्टिकल जरूर पढ़िए।

Video SEO : Content

आपने बहुत-से Youtubers को यह कहते हुए तो जरूर सुना होगा कि Content is king. यानि कि कंटेंट King (राजा) है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि Content को King क्यों कहा जाता है? क्या कंटेंट वाकई किंग है? अगर हाँ तो फिर Title, Thumbnail, Tags, Description, Keyword Research और Marketing जैसी चीजों की क्या जरूरत है? फिर तो अकेला Content ही काफी है। क्योंकि वह तो राजा है; सर्वशक्तिमान है। उसे भला दूसरों की मदद की कहाँ जरूरत है? है कि नहीं? लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।

Video SEO : Content is King

इस बात में कोई शक नहीं है कि Content King है। क्योंकि Content वाकई King है। लेकिन सवाल यह है कि कंटेंट, किंग क्यों है? और Title, Thumbnail, Description, Tags और बाकी चीजों का क्या रोल हैं? तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि राजा चाहे कितना भी शक्तिशाली क्यों न हो, पर वह अकेला कुछ नहीं कर सकता। अलग-अलग विभागों के कामकाज के लिए उसे कई सारे मंत्रियों और कार्मिकों की जरूरत पड़ती है।

अवश्य पढ़ें: फ़ोन से Youtube Channel कैसे बनाएं व अपने यूट्यूब करियर की शुरुआत कैसे करें?

इसी तरह Video का Content भी अकेला कुछ नहीं कर सकता। उसे भी Title, Thumbnail, Tags, Description, SEO और Marketing का साथ चाहिए। क्योंकि ये सब Content (राजा) के मंत्री, कार्मिक और सलाहकार हैं। जो कि कंटेंट की मदद करते हैं। लेकिन Content के बिना इनका कोई महत्व नहीं है। क्योंकि जब Content ही नहीं होगा तो Title, Description और Tags में क्या लिखेंगे? और Thumbnail में क्या दिखाऐंंगे? है कि नहीं? इसीलिए Content को King कहा जाता है।

Video SEO : Content Optimization

Youtube Video SEO के अनुसार अब Content Optimization बेहद जरूरी हो गया है। क्योंकि Search Engines का Algorithm पूरी तरह बदल चुका है। अब वह जमाना नहीं रहा कि कोई कुछ भी बना दे, और Search Engines उठाकर उसे अपने Result Page पर रख दें। आज के दिन अगर आपको SERP (Search Engine Result Page) पर आना है, तो आपको सर्च इंजन्स की Requirement के हिसाब से Content बनाना होगा। और उनके Algorithm के हिसाब से अपने Content को Optimize करना होगा। अगर आप ऐसा नहीं करेंगे, तो Search Engines आपके Content को कभी Recommend नहीं करेंगे।

How To Optimize Video Content?

क्या आप मुझे बता सकते हैं कि Video का टॉपिक सलेक्ट करने के बाद आप क्या करते हैं? शायद Research करते होंगे। है ना? अगर आपका जवाब ‘हाँ’ में है, तो आप बिल्कुल सही कर रहे हैं। और आपको ऐसा ही करना चाहिए। लेकिन अगर आपका जवाब ‘ना’ में है तो आपको संभलने की जरूरत है। क्योंकि अब बिना Research के आधी-अधूरी जानकारी देने वाले Videos का जमाना नहीं रहा। बल्कि Quality Content का जमाना है। इसलिए Quality पर फोकस करें। और Proper Research के बाद ही Video बनाऐं।

अवश्य पढ़ें: Youtube के लिए Top-5 Video Editing Apps, अब अपने फोन से कीजिए विडियो एडिटिंग

एक अच्छे Video के लिए अच्छी Script का होना बहुत जरूरी है। इसलिए अपने हरेक Video की Script जरूर लिखें। क्योंकि Content Optimization की शुरुआत यहीं से होती है। Research के बाद यह दूसरा सबसे जरूरी काम है, जो आपको हर हाल में करना चाहिए। Script लिखते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि कोई भी महत्वपूर्ण जानकारी छूटने न पाऐ। हर छोटी से छोटी चीज, जो Video की दृष्टि से महत्वपूर्ण है, वह स्क्रिप्ट में जरूर होनी चाहिए। और ऐसी चीजें, जो बेवजह वीडियो की लम्बाई बढ़ाऐं, स्क्रिप्ट में बिल्कुल नहीं होनी चाहिए।

Video Content Optimization

स्क्रिप्ट के बाद नम्बर आता है Shooting (Video Recording) का। यह Content Optimization के हिसाब से सबसे महत्वपूर्ण चरण है। इसलिए इसे गंभीरता से लें। क्योंकि अगर आप एक भी चीज भूल गए, तो आपको फिर से Video Record करना पड़ेगा। इसीलिए मैंने बोला था कि हर छोटी से छोटी चीज को Script में लिख लें। ताकि भूलने की कोई गुंजाइश न रहे। खैर, एक Youtube Video के लिए शुरू के 5 सैकण्ड्स बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। यह Video का वह Golden Time होता है, जो Video की दशा और दिशा तय करता है।

Most Important 5 Seconds

आपने देखा होगा कि कई बार जब हम किसी Video पर क्लिक करते हैं तो वह 5-7 सैकण्ड्स चलकर रूक जाता है। और उसके बाद Buffer (लोड) होने लगता है। ऐसा अक्सर Slow Internet की वजह से होता है। लेकिन अगर इन 5-7 सैकण्ड्स में आप Viewer को Impress करने में नाकामयाब रहे, तो वह Video को उसी जगह छोड़कर चला जाएगा। क्योंकि Youtube Video SEO के अनुसार, एक Viewer शुरू के 5 सैकण्ड्स में ही तय कर लेता है कि उसे Video को पूरा देखना है या नहीं? इसीलिए शुरू के 5 सैकण्ड्स में ऐसा कुछ कीजिए कि Viewer पूरा वीडियो देखने के लिए विवश हो जाए।

अब सवाल यह है कि 5 सैकण्ड्स में ऐसा क्या करें कि Viewer पूरा वीडियो देखने के लिए मजबूर हो जाए? तो इसके लिए आपको 2 काम करने होंगे। पहला, Search Engines को Impress करने के लिए। और दूसरा, Viewers को Impress करने के लिए। सर्च इंजन्स के लिए आपको Video का Proper SEO करना होगा। और इसके लिए शुरू के 5 सैकण्ड्स के अंदर-अंदर वीडियो का Focus Keyword बोलना होगा। साथ ही उसे Text के रूप में लिखना भी होगा। यह अत्यंत आवश्यक है।

अवश्य पढ़ें: किसी भी Youtube Video को Download कीजिए बिना किसी App या Software के

वहीं Viewers को Impress करने के लिए आपको थोड़ी-सी मेहनत करनी होगी। ज्यादा नहीं, बस थोड़ी-सी। और इसके लिए आपको किसी भी साधारण वाक्य को सनसनीखेज वाक्य में बदलने की कला सीखनी होगी। ऐसा वाक्य, जो दिमाग में हलचल मचा दे; मन में जिज्ञासा पैदा कर दे; और किसी को भी Video देखने के लिए मजबूर कर दे। उदाहरण के लिए, आप सनसनीखेज खबरों की Headings देख सकते हैं।

Video SEO : Content Mistake

अगर आप Video के शुरू में Bell Intro लगाते हैं तो प्लीज ऐसा कभी न करें। क्योंकि यह आपके चैनल को फायदे की बजाय नुकसान पहुँचाता है। असल में Video के Starting में मौजूद Bell Intro व्यूअर्स को काफी Irritate करता है। साथ ही SEO को भी काफी नुकसान पहुँचाता है। इसलिए Bell Intro को Starting की बजाय Ending में लगाऐं। या फिर आधे से ज्यादा वीडियो बीत जाने के बाद लगाऐं।

जरा सोचिए! किसी नये Viewer ने आपके Video पर क्लिक किया। और Video Play होते ही उसे यह सुनने को मिलता है कि “हमारे Youtube Channel को Subscribe कीजिए। और Bell Icon को Press कर दीजिए, ताकि हमारे आने वाले वीडियोज को आप सबसे पहले देख पाऐं।” तो क्या वह आपके चैनल को सब्सक्राइब करेगा? नहीं, बिल्कुल नहीं। क्योंकि जिस व्यक्ति ने आपका Video देखा तक नहीं, वह आपके Channel को क्यों Subscribe करेगा? उसे तो यह भी नहीं पता कि आपने वीडियो में क्या बताया है? और वीडियो है कैसा? इसलिए यह गलती कभी न करें।

Content Optimization Plannig

आपको बताना चाहूँगा कि Youtube SEO में वीडियो का Focus Keyword सबसे महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि पूरे Video का ढाँचा इसी एक शब्द पर टिका होता है। इसीलिए Focus Keyword को Video में प्रमुखता से जगह दी जाती है। और यह काम Script लिखते वक्त ही कर लिया जाता है। क्योंकि उस वक्त Keyword Density का पता रहता है। और Keywords को Implant करने में काफी आसानी रहती है। इसीलिए Focus Keyword के साथ-साथ अन्य Keywords का भी यथास्थान प्रयोग कर लेना चाहिए। ताकि बाद में गलती की कोई गुंजाइश न रहे।

अवश्य पढ़ें: Video SEO क्या है? Youtube Videos का SEO करना क्यों जरूरी है व कैसे करें?

जैसा कि आपको पता होगा कि Youtube Video SEO के अनुसार 1 से 2 प्रतिशत Keyword Density सबसे बेस्ट मानी जाती है। यानि कि प्रत्येक 100 शब्दों में 1 से 2 बार आपका Focus Keyword जरूर आना चाहिए। अब अगर आपके वीडियो में 1000 शब्द हैं, तो आपको कम से कम 10 से 20 बार Focus Keyword इस्तेमाल करना चाहिए। आपको बता दूँ कि एक नॉर्मल इंसान एक मिनट में औसतन 125 से 150 शब्द बोलता है। और इस हिसाब 1 मिनट के Video में 2 बार और 10 मिनट के Video में लगभग 20 बार Focus Keyword इस्तेमाल करना जरूरी है।

Content Optimization In Script

Script लिखते समय Keywords का विशेष रूप से ध्यान रखें। Focus Keyword के साथ-साथ Compound Keywords और अन्य कीवर्ड्स का भी इस्तेमाल करें। उदाहरण के तौर पर, यदि आपका वीडियो 10 मिनट का है तो कम से कम 10 Keywords जरूर इस्तेमाल करें। लेकिन ध्यान रहे, सभी कीवर्ड्स एक साथ और एक ही जगह पर इस्तेमाल नहीं होने चाहिए। बल्कि उनके बीच एक निश्चित अंतराल होना चाहिए। यानि कि हर 1 मिनट के बाद 1 कीवर्ड या हर 2 मिनट के बाद 2 कीवर्ड्स का इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि अंतराल का समय कोई फिक्स नहीं है। थोड़ा-बहुत उपर-नीचे भी हो सकता है।

Video SEO : Content Division

Youtube SEO के अनुसार Content का पहला उद्देश्य यह है कि वह समझने में आसान होना चाहिए। Video देखते वक्त Viewer के मन में कोई भी उलझन पैदा नहीं होनी चाहिए। इसीलिए Information के साथ-साथ Content की सरलता और सादगी बहुत जरूरी है। और इसके लिए Content को Sections और Points में विभाजित करना बेहद जरूरी है। अगर आप वीडियो में 5G Technology के 10 फायदे बता रहे हैं। तो वीडियो को 10 Points में बांट लें। और हर Point को वीडियो में न सिर्फ बोलें, बल्कि Text के रूप में लिखें भी। यह Timestamps के लिए भी बहुत जरूरी है।

Video SEO : Timestamps

अगर आप Long Videos बनाते हैं तो Timestamps का प्रयोग करना कभी न भूलें। क्योंकि Youtube इसे बहुत ही गंभीरता से लेता है। और Timestamps वाले Videos को ही सबसे ज्यादा प्राथमिकता देता है। दरअसल यह Viewers के लिए बहुत ही उपयोगी फीचर है। खासकर उन लोगों के लिए, जो Online Research करते हैं। और जिनके पास वक्त की बहुत कमी होती है। क्योंकि ऐसे लोगों के पास छोटी-छोटी Informations के लिए लम्बे-लम्बे Videos देखने का टाइम नहीं होता। इसीलिए Timestamps इनको काफी मदद मिलती है। नहीं समझे? चलिए, इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं।

अवश्य पढ़ें: Video SEO : Title क्या है? Youtube Videos के लिए BestTitles का चुनाव कैसे करें?

मान लीजिए कि आप vSEO (Video SEO) की परिभाषा जानना चाहते हैं। और आपको एक ऐसा Youtube Video मिल जाता है, जिसमें Video SEO की परिभाषा है। लेकिन समस्या यह है कि वीडियो 25 मिनट लम्बा है। और आपको नहीं पता कि उसमें Video SEO की परिभाषा कहाँ है? ऐसे में आपको सिर्फ 15-20 सैकण्ड्स की जानकारी के लिए पूरा वीडियो (या फिर वीडियो का अधिकांश भाग) देखना पड़ता है। और इस चक्कर में आपका काफी सारा समय बर्बाद हो जाता है। अब सोचिए कि अगर उस Video के नीचे आपको Timestamps मिल जाते, तो आपका कितना समय बचता? है कि नहीं? इसीलिए Timestamps बेहद जरूरी हैं।

Add Timestamps

जैसा कि आपने होगा कि जिस Book के अंदर एक से ज्यादा चैप्टर होते हैं, उसके शुरू में एक Index होती है। जो हमें यह बताती है कि कौनसा चैप्टर कहाँ है? मतलब किस पेज पर? इसी तरह Blogs और Websites पर जो Long Articles होते हैं, उनकी शुरुआत में भी एक Index होती है, जिसे Index of content कहते हैं। यह Index कम से कम समय में जरूरी Information तक पहुंचने में मदद करती है। और यही काम Youtube Videos के लिए Timestamp करता है। इसलिए अपने हर Long Video के लिए Timestamps का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें।

अवश्य पढ़ें: Video SEO : Thumbnail क्या है? Youtube Videos के लिए Best Thumbnail कैसे चुनें?

इसके लिए Video को Sections और Points में Devide करना बहुत जरुरी है। जैसा कि मैं पहले ही बता चुका हूँ। इसलिए पूरे वीडियो को Sections और Points में Devide कर लीजिए। और उसके बाद वीडियो का Description Box ओपन कीजिए। और हर बिन्दु का Timestamp एड कर दीजिए। आपको बताना चाहूँगा कि आप जो भी Timestamp एड करेंगे, वह एक Hyperlink की तरह काम करेगा। यानि कि जब कोई उस पर क्लिक करेगा, तो वीडियो उसी जगह से शुरू होगा। उदाहरण के लिए, अगर कोई 6:16 टाइमस्टैम्प पर क्लिक करेगा, तो आपका वीडियो डायरेक्ट 6:16 से शुरू हो जाएगा।

Watch Time का नुकसान

अब आप सोच रहे होंगे कि अगर हम Timestamps यूज करेंगे तो Watch Time का काफी नुकसान होगा। क्योंकि कोई भी पूरा वीडियो नहीं देखेगा। तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि ऐसा बिल्कुल नहीं है। क्योंकि पहली बात तो हर व्यक्ति Description नहीं पढ़ता। और दूसरी बात, Timestamps की मदद सिर्फ वही लोग लेते हैं, जिन्हें इसके बारे में पता होता है। और ऐसे लोग बहुत कम होते हैं। रही बात Watch Time की तो इसमें जरूर थोड़ा-सा फर्क पड़ सकता है। लेकिन उसकी भी भरपाई हो सकती है। कैसे? Thumbnail में दिखाई गई फोटो को Video में सही जगह इस्तेमाल करके।

Thumbnail Image वीडियो के एंड में?

अगर आप Thumbnail वाली फोटो का जिक्र Video के End में करते हैं, तो यह आज से ही बंद कर दीजिए। क्योंकि इससे आपको Watch Time का बहुत नुकसान होता है। कैसे? मान लीजिए कि आप हर वीडियो में Thumbnail में दिखाई गई फोटो का जिक्र वीडियो के End में करते हैं। तो ऐसे में जो व्यक्ति एक-दो बार आपके वीडियोज देख लेगा, उसे पता चल जाएगा कि Thumbnail वाली जानकारी उसे कहाँ मिलेगी। इसीलिए वह वीडियो को Skeep करके सीधे उस जानकारी तक पहुंच जाएगा, जो कि उसने थंबनेल में देखी है। मैं दूसरों की बात नहीं कर रहा। बल्कि मैं खुद भी ऐसा ही करता हूँ। और शायद और लोग भी ऐसा करते होंगे।

अवश्य पढ़ें: Video SEO : Description क्या है? इसमें कौन-कौनसी 10 चीज़ें लिखी जाती हैं?

अगर आप एक Youtuber होकर ऐसी गलती करते हैं तो आपको Watch Time का काफी नुकसान होता है। और दूसरी बात, Video SEO के हिसाब से भी यह जरुरी नहीं है कि थम्बनेल वाली फोटो Video के End में ही हो। क्योंकि इससे SEO पर कोई फर्क नहीं पड़ता। इसीलिए Thumbnail वाली फोटो को Video के End में Use करने की बजाय Randomly Use करनी चाहिए। यानि कि हर बार जगह बदल-बदलकर इस्तेमाल करनी चाहिए।

Facts Vs Inferences

अगर आप एक सफल Youtuber बनना चाहते हैं तो आपको Facts और Inferences में फर्क करना आना चाहिए। क्योंकि Content Optimization के लिए यह बेहद जरूरी है। दरअसल Facts उन प्रमाणित तथ्यों को कहा जाता है, जो बिल्कुल सच होते हैं। लेकिन वहीं Inferences वे अनुमानित तथ्य होते हैं, जिनके सच होने की कोई गारंटी नहीं होती।

इसीलिए अपने Videos में कभी भी ऐसे तथ्यों के सच होने का दावा न करें, जो Inferences पर आधारित होंं। ऐसे तथ्यों के लिए हमेशा ‘हो सकता है’ और ‘शायद’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल करें। साथ ही उनका Source (स्त्रोत) भी बताऐं। उदाहरण के लिए, मान लीजिए आप एक ऐसे फोन पर वीडियो बना रहे हैं, जो 5 दिन बाद लॉन्च होने वाला है। लेकिन फोन बनाने वाली कंपनी ने अभी तक आधिकारिक रूप से इस बात की पुष्टि नहीं की है। तो आपका Statement कुछ इस तरह होना चाहिए :- “फलां स्मार्टफोन 5 दिन बाद लॉन्च हो सकता है।”

अवश्य पढ़ें: Video SEO : Tags क्या हैं? इनकी मदद से Youtube Videos पर अंधाधुंध Traffic कैसे लें?

वहीं अगर कंपनी ने आधिकारिक रूप से पुष्टि कर दी है। और यह बात Confirm है कि फोन 5 दिन बाद ही लॉन्च होगा। तो आपका Statement कुछ इस तरह होगा :- “फलां स्मार्टफोन 5 दिन बाद लॉन्च होगा।” यानि कि अगर खबर सही और प्रमाणित है तो ‘लॉन्च होगा’ वरना ‘लॉन्च हो सकता है’ शब्द का प्रयोग करेंगे। यह Video SEO : Content Optimization का Golden Rule है।

Video SEO : Content Language

Content Optimization में Language का बहुत बड़ा रोल होता है। क्योंकि Viewers आपके Content को समझ पाते हैं या नहीं, यह आपके शब्द-चयन और भाषा-शैली पर निर्भर करता है। इसलिए भाषा-शैली पर खास ध्यान दें। और शब्दों का चयन सोच-समझकर करें। ऐसी भाषा का चुनाव करें, जो आपकी Youtube Audience के लिए समझने में आसान हो। साथ ही बोलचाल की भाषा में प्रयुक्त होने वाले शब्दों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। ताकि Audience आपके साथ जुड़ाव महसूस करे।

Video SEO : Content Summary

अगर आप एक सफल Youtuber बनना चाहते हैं तो आपको Video SEO का ज्ञान होना बेहद जरूरी है। बल्कि यूँ समझ लीजिए कि अनिवार्य है। क्योंकि हर पल बदलती Technology और बढ़ते हुए Competition के कारण अब Youtube पर सिर्फ वही Creators टिक पाऐंगे, जो Video SEO के अच्छे जानकार होंगे। और अपने Videos को Search Engines के Algorithm के हिसाब से Optimize कर पाऐंगे। जो लोग ऐसा नहीं कर पाऐंगे, वे कभी आगे नहीं बढ़ पाऐंगे। इसीलिए अगर आप एक Youtuber हैं तो Youtube Video SEO जरूर सीखिए।

उम्मीद करता हूँ इस आर्टिकल के जरिए आपको Video SEO : Content Optimization के बारे में काफी उपयोगी जानकारी मिली होगी। अगर इस टॉपिक को लेकर आपके मन में कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर जरूर कीजिए। और ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम को सब्सक्राइब कर लीजिए। ताकि जब भी हमारा नया आर्टिकल प्रकाशित हो, आपको उसकी सूचना मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

“Video SEO : Content Optimization क्या है और यह कैसे किया जाता है?” पर 2 विचार

Comment