Video SEO क्या है? Youtube वीडियोज का SEO क्यों जरूरी है व कैसे करें?

Youtube-Video-SEO

क्या आप एक Youtuber हैंं? क्या आपके वीडियोज पर पर्याप्त Views नहीं आ रहे? क्या आप चाहते हैं कि आपके वीडियोज पर भी अच्छे-खासे व्यूज आऐं? अगर हाँ, तो यह आर्टिकल खास आपके लिए है। क्योंकि इस आर्टिकल में हम Video SEO के बारे में बात करने वाले हैं। और यही वह तकनीक है, जो आपके

वीडियोज पर Traffic लाने का काम करती है। अगर आप Video SEO का नाम पहली बार सुन रहे हैंं तो आपको इसके बारे में काफी कुछ जानने की जरूरत है। क्योंकि जब तक आप अपने Youtube Videos का SEO नहीं करेंगे, तब तक आपके वीडियोज पर Traffic नहीं आएगा। तो आइए, Youtube Video SEO के विस्तार से जानते हैं।

What is Video SEO?

Video SEO को समझने से पहले आपको SEO (Search Engine Optimization) के बारे में जानना जरूरी है। क्योंकि Video SEO का जन्म SEO से ही हुआ है। SEO यानि, तकनीकों का वह समूह है, जो किसी फोटो, वीडियो, आर्टिकल, प्रोडक्ट आदि को Search Engines के लिए खोजने में आसान और रैंक करने योग्य बनाता है। यानि कि SEO की मदद से ही Search Engines किसी आर्टिकल, वीडियो आदि को सुगमता से खोज पाते हैं। और उसकी Ranking तय कर पाते हैंं। इस काम के लिए सर्च इंजन्स के पास अपना-अपना Algorithm होता है। और वे उसी के अनुसार काम करते हैं।

अवश्य पढ़ें: Youtube चैनल शुरू करते वक़्त इन 5 बातों का हमेशा ध्यान रखें, जरूर सफल होंगे

जब आप गूगल पर कोई भी Keyword सर्च करते हैं, तो Search Results में आपको 4-5 यूट्यूब वीडियोज जरूर दिखाई देते हैं। है ना? यह करिश्मा Video SEO के कारण ही हो पाता है। Video SEO का मतलब है, Video को इस तरह से ऑप्टिमाइज़ करना कि वह Search Results में टॉप पोजीशन पर दिखाई दे। यानि कि पहले पेज पर दिखाई दे। ताकि वीडियो पर ज्यादा से ज्यादा Traffic (Views) आए। इसके लिए Video का Proper SEO करना जरूरी है। साथ ही समय-समय पर Algorithm में होने वाले बदलावों के अनुसार वीडियो को Optimized रखना भी जरूरी है।

Video SEO के प्रकार

SEO की तरह ही Video SEO भी तीन प्रकार का होता हैं :- पहला, White Hat Video SEO (व्हाइट हैट वीडियो एसईओ)। दूसरा, Black Hat Video SEO (ब्लैक हैट वीडियो एसईओ)। और तीसरा Grey Hat Video SEO (ग्रे हैट वीडियो एसईओ)। अब इनका क्या मतलब है और इन तीनों में क्या फर्क है? आइए, जानते हैं।

1. White Hat Video SEO

यह सही और Legal (लीगल) माना जाता है। क्योंकि इसके तहत जिन Techniques का इस्तेमाल किया जाता है, वे सब नियमों के अनुसार होती हैंं। इसलिए यह Search Engine Friendly होता है। अगर आसान भाषा में कहूँ तो वीडियो का Title, Thumbnail और Tags सब वीडियो से रिलेटेड होते हैंं। और Video पर आने वाले Views भी बिल्कुल असली होते हैं। हालांकि यह थोड़ा धीमा होता है, लेकिन Long-Time के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़ें: आखिर Brave Browser लोगों को इतना ज्यादा पसंद क्यों आ रहा है? टॉप-10 कारण

2. Black Hat Video SEO

यह गलत और illegal माना जाता है। क्योंकि इसके तहत जिन Techniques का इस्तेमाल किया जाता है, वे सब नियमों के खिलाफ होती हैं। इसलिए यह Search Engine Friendly नहीं होता। इसके तहत Video का अपने टाईटल, थंबनेल और टैग्स से दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं होता। साथ ही वीडियो पर Views पाने के लिए अनैतिक तरीकों, जैसे कि Bots और Clickbait का सहारा लिया जाता है। हालांकि यह बहुत फास्ट होता है, लेकिन इसकी उम्र बहुत कम होती है। पकड़ में आते ही वीडियो ब्लॉक हो जाता है। और चैनल हमेशा के लिए टर्मिनेट हो जाता है।

3. Grey Hat Video SEO

यह दरअसल व्हाइट हैट और ब्लैक हैट का मिश्रण है। इसमें Legal और illegal दोनों तरह की Techniques का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन एक दायरे में रहकर। इसके तहत वीडियो के टाईटल, थंबनेल और टैग्स के साथ खेलकर अच्छे-खासे Views प्राप्त किए जा सकते हैं। लेकिन पकड़े जाने का रिस्क हमेशा बना रहता है। क्योंकि इसमें सही और गलत का बैलेंस बनाकर रखना पड़ता है। अगर गलत का प्रतिशत थोड़ा-सा भी बढ़ जाता है तो Video Block हो जाता है। साथ ही चैनल को Blacklist में डाल दिया जाता है। इसलिए पूरी जानकारी होने पर ही इसका प्रयोग करना चाहिए।

Video SEO क्यों जरूरी है?

चलिए, इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं। मान लीजिए आपने एक महीने तक कड़ी मेहनत और खूब सारी Research करके एक वीडियो बनाया, जो कि अपने विषय का सबसे Best Video है। लेकिन इसके बावजूद उस वीडियो पर सिर्फ गिनती के Views आते हैं, जैसा कि एक नॉर्मल वीडियो पर आते हैं। जबकि वीडियो बनाते वक्त आपको लग रहा था कि यह वीडियो तहलका मचा देगा। और कम से कम 10 मिलियन के पार जाएगा। क्योंकि आपको अपने Content पर पूरा भरोसा है। लेकिन जब Video Upload करने के बाद आपको लगता है कि सारी मेहनत बेकार चली गई।

यह भी पढ़ें: फोन की स्क्रीन से निकलने वाली Blue Light क्या है और इसके क्या-क्या नुकसान हैं?

और ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि आपका Content उन लोगों तक पहुँचा ही नहीं, जिनके लिए आपने उसे बनाया था। यानि कि Search Engines आपके वीडियो को खोज नहीं पाए। क्यों नहीं खोज पाए? क्योंकि आपके वीडियो में सही Keywords का इस्तेमाल नहीं हुआ। और चूँकि Keyword ही वह रास्ता है, जो Search Engines को आपके वीडियो तक पहुँचाता है। इसलिए वीडियो में सही कीवर्ड्स का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। अब सही Keywords क्या होते हैं? इन्हें कैसे और कहाँ से प्राप्त करें? और वीडियो में कहाँ-कहाँ और कैसे इस्तेमाल करें? आइए, विस्तार से जानते हैं।

Keywords

यह Video SEO का सबसे महत्वपूर्ण और सबसे पेचीदा काम है। लेकिन अगर आपने कीवर्ड्स का सही इस्तेमाल करना सीख लिया तो समझो आधे से ज्यादा मैदान जीत लिया। जिस तरह गलत चाबी से ताला नहीं खुल सकता, वैसे ही गलत Keywords से आपका वीडियो नहीं खोजा जा सकता। इसलिए सही कीवर्ड्स का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। Keyword यानि वह शब्द, जिसे आप Google, Yahoo, Bing, Youtube आदि पर सर्च करते हैं। जैसे कि अगर आपको Video SEO के बारे में हिन्दी में जानकारी चाहिए। तो आप Google पर “Video SEO Kya Hai” या “Video SEO in Hindi” लिखकर सर्च करेंगे। इन्हीं को Keywords कहते हैंं।

यह भी पढ़ें: Sensor क्या है? हमारे फोन में कौन-कौनसे सेंसर्स होते हैं और वे क्या काम करते हैं?

सही Keywords क्या है?

सही कीवर्ड्स का मतलब है आपके Content से Related Keywords अर्थात् जो कुछ आपके वीडियो में है, वही कीवर्ड्स में हो। ऐसा न हो कि आप वीडियो में तो Chandrayaan 2 के बारे मेंं बात कर रहे हैं और टैग्स में iPhone 11 और बड़े-बड़े यूट्यूबर्स के नाम डाल रहे हैं। क्योंकि यह गलत है। और Video SEO के लिहाज से यह तरीका Video Ranking को नीचे गिराने का काम करता है। इसलिए अगर आप चन्द्रयान-2 पर वीडियो बना रहे हैं, तो आपके टैग्स भी चन्द्रयान-2 से संबंधित ही होने चाहिए। साथ ही सारे टैग्स Focus Keyword से Related होने चाहिए। अब यह फोकस कीवर्ड क्या होता है?

Focus Keyword

जब आप कोई वीडियो बनाते हैं तो उस वीडियो का जो मुख्य विषय होता है, उसी को Focus Keyword या Focus Keyphrase कहते हैं। यानि कि यह वीडियो का मुख्य Keyword होता है, जो पूरे वीडियो का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए इसे वीडियो के टाईटल, थम्बनेल, टैग्स, डिस्क्रिप्शन और यहाँ तक कि वीडियो के अंदर भी प्रमुखता से जगह दी जाती है। Focus Keyword के अलावा बाकी जितने भी Keywords होते हैं, वे सहायक कीवर्ड्स की भूमिका निभाते हैं। सहायक कीवर्ड्स, फोकस कीवर्ड के ही उप-भाग होते हैं। नहीं समझे? चलिए, इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं।

यह भी पढ़ें: किसी भी Youtube वीडियो को डाउनलोड कीजिए बिना किसी ऐप या सॉफ्टवेर के

मान लीजिए आपने एक वीडियो बनाया, जिसमें भारत की नदियों के बारे में बताया। इस वीडियो में आपने नदियों के प्रकार, वर्गीकरण, तुलना, अंतर और भारत की प्रमुख नदियों जैसे कि गंगा, यमुना, गोदावरी आदि के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। तो इस वीडियो का Focus Keyword होगा Rivers of India यानि भारत की नदियां। और बाकी के जितने भी कीवर्ड्स होंगे। जैसे कि Types of Rivers या River Ganga, ये सब सहायक कीवर्ड्स होंगे। Focus Keyword को वीडियो में कम से कम 7 जगह और सहायक कीवर्ड्स को 2 जगह इस्तेमाल किया जाता है।

Keywords पर इतना जोर क्यों?

जैसा कि आपको पता ही है इंटरनेट जानकारियों का अथाह भण्डार है। यहाँ एक ही विषय पर लाखों-करोडों की संख्या में फोटोज, वीडियोज और आर्टिकल्स मौजूद हैं। ऐसे में Keyword ही वह माध्यम है, जिसकी मदद से Search Engines काम की इंफोर्मेशन ढूँढ पाते हैं। इसीलिए कीवर्ड्स को Search Engines का दोस्त कहा जाता है। आपको बताना चाहूँगा कि Search Engines के जो Robotic Bots होते हैैं, वे Keywords को ही पढ़ते हैं। और खोजकर्ता को सिर्फ वही Content उपलब्ध करवाते हैैंं, जिसमें Search किया गया Keyword मौजूद हो। इसके अलावा कीवर्ड से ही Content की वैल्यू और रैंंक तय होती है। इसलिए Keywords पर इतना ज्यादा जोर दिया जाताा है।

यह भी पढ़ें: फोन और ऐप्स को Update करना क्यों जरूरी है? अगर अपडेट नहीं करेंगे तो क्या होगा?

कीवर्ड्स कहाँ से प्राप्त करें?

सही कीवर्ड्स के लिए Keyword Research बहुत जरूरी है। वीडियो बनाने से पहले हमेशा Youtube पर अपना Topic Search करके जरूर देखें। और अपने टॉपिक से रिलेटेड टॉप रैंक वाले आठ-दस Videos के Tags को स्टडी करना न भूलें। ध्यान रहे, टैग्स को ज्यों का त्यों कॉपी नहीं करना है। आप चाहें तो टॉप-10 वीडियोज के Tags को एक पेपर पर लिख लें। और उसके बाद सभी कीवर्ड्स की रैंकिंग चैक करें। इसके लिए आप Alexa के Keywords Difficulty Tool की मदद ले सकते हैं। रैंकिंग चैक करने के बाद उनमें से टॉप रैंक वाले 10 कीवर्ड्स को छाँट लें। और इसी तरह 10 कीवर्ड्स गूगल सर्च इंजन से निकाल लें।

कीवर्ड्स को कहाँ इस्तेमाल करें?

Keywords को वीडियो में सही जगह इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है। अगर बात करें Focus Keyword की, तो वीडियो के शुरू में, बीच में और अंत में यानि कि कम से कम तीन जगह न सिर्फ बोलें, बल्कि Text के रूप में लिखें भी। साथ ही वीडियो के टाईटल, थम्बनेल, टैग्स और डिस्क्रिप्शन मेंं भी यूज करें। मतलब, कम से कम 7 जगह इस्तेमाल करें। रही बात सहायक कीवर्ड्स की तो उन्हें कम से कम 2 जगह जरूर इस्तेमाल करें। एक तो वीडियो के अंदर, और दूसरा Tags के रूप में। इसके अलावा अगर Video के Description में भी यूज करेंगे तो और भी अच्छा होगा। ध्यान रहे, यह मैंने न्यूनतम संख्या बताई है।

अवश्य पढ़ें: Youtube चैनल को सफल बनाने के 7 मूलमंत्र, जो आपको कोई नहीं बताएगा

जैसा कि मैंने शुरुआत में कहा था Video SEO कोई एक ट्रिक नहीं है। बल्कि यह बहुत-सी Techniques का एक समूह है। इसलिए इसे एक आर्टिकल में समझाना बहुत मुश्किल काम है। इस आर्टिकल में मैंने Video SEO के एक बेहद छोटे-से हिस्से यानि कि Keywords के बारे में बताया। इसी तरह बाकी चीजों के बारे में हम आने वाले आर्टिकल्स में बात करेंगे। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए ‘टेकसेवी डॉट कॉम’ को Subscribe कर लीजिए। ताकि नया आर्टिकल प्रकाशित होते ही आपको उसका नोटिफिकेशन मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

Advertisements

मैं मेघराज मुंशी, एक वेब डिजायनर, ग्राफिक आर्टिस्ट और ब्लॉगर हूँ। वैसे पेशे से मैं एक शिक्षक हूँ और शिक्षा विभाग राजस्थान में कार्यरत हूँ। पढ़ने-पढ़ाने और लिखने के अलावा मुझे फिल्में देखना बहुत पसंद है। साहित्य, संगीत, सिनेमा, अंतरिक्ष, विज्ञान और तकनीकी मेरे पसंदीदा विषय हैं।

7 thoughts on “Video SEO क्या है? Youtube वीडियोज का SEO क्यों जरूरी है व कैसे करें?”

        1. जी भाई, आपकी साईट एडसेंस रेडी है।
          बस! एक छोटी-सी कमी है। आपके कुछ आर्टिकल्स छोटे हैं। इसलिए Apply करने से पहले जो भी 800 शब्दों से कम वाले आर्टिकल्स हैं, उनमें 2-4 पैराग्राफ और जोड़कर उन्हें 800 शब्दों से पार कर देना, वरना साईट अप्रूव नहीं होगी।
          मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ था, फिर मैंने एडिट करके दुबारा अप्लाई किया तो अप्रूव हो गई।

          1. एक चीज और, आपकी साईट लोड होने में काफी वक्त ले रही है, यह दिक्कत कर सकती है। क्योंकि लोडिंग स्पीड धीमी होने पर गूगल अप्रूव नहीं करता। इसलिए लोडिंग स्पीड पर थोड़ा काम कीजिए। एक तो Light Theme यूज कीजिए और दूसरा Image Optimisation पर फोकस कीजिए। पेज साईज जितना कम होगा, साईट उतनी ही फास्ट लोड होगी।

    1. आपको हमारा यह आर्टिकल इतना पसंद आया, इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद व दिल से आभार!

Comment