You are here : HomeExplanationBarcode Kya Hai

Barcode क्या है? यह कैसे काम करता है? इसे कैसे पढ़ें?

Barcode-Kya-Hai-In-Hindi

आपने तेल, साबुन, शैम्पू, क्रीम, पाउडर, डियोड्रेंट, मैगी, चिप्स, बिस्किट आदि के पैकेट्स पर काली समान्तर लाईनें तो जरूर देखी होंगी। असल में यह उस प्रोडक्ट का Barcode (बारकोड) होता है, जिसमें प्रोडक्ट से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी Stored होती है। लेकिन क्या आपको पता है कि इन लाइनों का क्या मतलब होता है? अगर नहीं तो चिंता की कोई बात नहीं है। क्योंकि आज हम इसी के बारे में बात करने वाले हैं। तो आइए, जानते हैं कि Barcode Kya Hai? यह कैसे काम करता है? और इसमें मौजूद लाइनों का क्या मतलब होता है?

Barcode (बारकोड)

बारकोड का नाम सुनते ही सबसे पहले दिमाग में जो छवि बनती है! वह एक चिर-परिचित आकृति होती है। जिसमें कुछ काली-सफेद समान्तर लाईनें होती हैं। और उनके नीचे कुछ अंक लिखे हुए दिखाई देते हैं। लेकिन यह पूरी तस्वीर नहीं है। असल में Bar code इससे कहीं जटिल और पेचीदा सरंचना होती है। जिसमें कई महत्वपूर्ण सूचनाऐं छिपी होती है। लेकिन इन सूचनाओं को सिर्फ Optical Scanner (प्रकाशीय स्कैनर) की मदद से ही पढ़ा जा सकता है।

अवश्य पढ़ें: CAPTCHA क्या है? कैसे काम करता है? कैप्चा के प्रकार

अगर आप किसी Mall या Showroom में गए हैं! तो वहाँ कैश काउंटर पर बैठे व्यक्ति को एक डिवाइस की मदद से Barcode Scan करते हुए जरूर देखा होगा? असल में वह एक Optical Scanner होता है! जो एक Computer के साथ जुड़ा हुआ रहता है। और जब इसे किसी Bar code के उपर से गुजारा जाता है। तो यह बारकोड को Scan करके उसमें मौजूद Data (सूचनाओं) को Computer में भेज देता है। इस तरह Optical Scanner के जरिए बारकोड को पढ़ा जाता है। लेकिन सवाल यह है कि यह Barcode आखिर है क्या? और यह काम कैसे करता है? आइए, समझते हैं।

Barcode Kya Hai?

बारकोड असल में Data को Represent करने का एक तरीका है। अर्थात् किसी Product के बारे में सूचनाओं को लिखने का एक तरीका है! जिसमें Product के निर्माता, स्टॉक, कीमत, मात्रा आदि की जानकारी होती है। यह जानकारी Machine Readable होती है। अर्थात् केवल मशीन द्वारा ही पढ़ी जा सकती है। इसीलिए इसे पढ़ने के लिए Optical Scanner का प्रयोग किया जाता है। जिसे Barcode Scanner या Barcode Reader भी कहा जाता है।

आपको बता दें कि QR Code भी एक बारकोड ही होता है। जो 2D यानि कि 2 Dimensional Barcode होता है। जबकि Linear Barcode One Dimensional अर्थात् 1D होता है। और इसे पढ़ने के लिए ऑप्टिकल स्कैनर की जरूरत पड़ती है। वैसे Optical Scanners भी कई तरह के होते हैं। जैसे कि Pen Scanner, Laser Scanner, CCD Scanner (LED Scanner), Camera Scanner, Omnidirectional Barcode Scanner आदि।

अवश्य पढ़ें: OTP (One Time Password) क्या है? यह कैसे काम करता है?

बारकोड में मुख्यत: Product के निर्माता, निर्माण की तिथि, Expiry Date, वजन, मात्रा, कीमत और स्टॉक से जुड़ी जानकारी होती है। जब Barcode Reader, बारकोड को स्कैन करता है तो यह जानकारी Computer में आ जाती है। और इस तरह यह जानकारी प्रोडक्ट के Bill में इस्तेमाल की जाती है। इसके अलावा प्रोडक्ट को Track करने और स्टॉक का लेखा-जोखा रखने के लिए भी बारकोड का व्यापक स्तर पर इस्तेमाल होता है।

बारकोड कैसे काम करता है?

इसके लिए आपको Barcode के अलग-अलग Types और Algorithms को समझना पड़ेगा। क्योंकि बारकोड के अलग-अलग Standards और Numbering Systems हैं। इसीलिए हम EAN-13 Barcode का उदाहरण ले रहे हैं। क्योंकि यह एक International Standard है, जो Global Trade के लिए इस्तेमाल होता है। और GTIN (Global Trade Item Number) स्टैंडर्ड का एक हिस्सा है। यानि कि दुनियाभर में इस्तेमाल होता है। इसीलिए इसकी मदद से आप आसानी से समझ पाऐंगे।

Barcode Lines & Numbers

खैर, EAN-13 बारकोड में कुल 13 Digits होते हैं। और ये सिर्फ 0-9 अंक होते हैं। अगर लाइनों की बात करें तो इसमें कुल 93 लाइनें होती हैं। जिनमें से 3+3+3 लाइनें बारकोड के शुरू, मध्य और अंत में स्थित होती हैं। और ये बाकी लाइनों से थोड़ी लम्बी होती हैं। इनमें से मध्य वाली 3 लाइनें, बारकोड को 2 भागों में बांटती हैं। इन दोनों भागों में 42-42 Black & White लाइनें होती हैं, जो कि 7-7 लाइनों के 6 समूहों (Blocks) में बंंटी होती हैं। ये 6 समूह, Black & White Lines के जरिए अलग-अलग अंंकों को दर्शाते हैं। जैसा कि नीचे चित्र में दिखाया गया है।

Bar-code-lines-and-numbers-system
Barcode : Lines & Numbers

हालांंकि दोनों हिस्सों में बराबर लाइनें होती हैं लेकिन इनकी Width और Spacing अलग-अलग होती है। यानि कि एक ही Number के लिए दोनों हिस्सों में अलग-अलग Width और Space वाली लाइनें होती हैं। जैसे कि Left Side वाले Blocks में सम-संंख्या (Even Numbers) में और Right Side वाले ब्लॉक्स में विषम-संख्या (Odd Numbers) में White लाइनें होती हैं। जो कि Space को दर्शाती हैं। इसी Space से Barcode Scanner को पता चलता है कि उसे किस ओर से Scan करना है?

Barcode Scanning Side

अगर पहले सम-संख्या में White लाईनें होती हैं! तो Barcode Scanner, Left से Right की ओर स्कैन करता है। वहीं अगर विषम-संख्या में White लाईनें होती हैं! तो Right से Left की ओर स्कैन करता है। इस तरह अगर Barcode  उल्टा भी होता है, तब भी Barcode Scanner उसे आसानी से स्कैन कर लेता है। इसके लिए वह एक खास Algorithm का उपयोग करता है। खैर, आइए! बारकोड के प्रकारों (Types of Barcode) के बारे में जानते हैं।

बारकोड के प्रकार

वैसे तो बारकोड कई तरह के होते हैं। लेकिन मोटे तौर इन्हें 2 भागों में बांटा गया है। एक Linear Barcode (रेखीय बारकोड) और दूसरा 2D Barcode (द्विआयामी बारकोड). फर्क क्या है दोनों में? आइए, जानते हैं :-

Linear Barcode

ये बारकोड्स One Dimensional (1D) होते है। यानि कि इनमें केवल एक आयाम (लम्बाई) होता है। इसीलिए इन्हें एकआयामी/एकविमीय बारकोड भी कहा जाता है। ये Information को Numerical Form में Store करते हैं। यानि कि अंकों (0-9) के रूप में संग्रहित करते हैं। लेकिन इनकी Storage Capacity काफी कम होती है। इसलिए ये QR Code के मुकाबले काफी कम Data Store कर पाते हैं।

अवश्य पढ़ें: Online Earning के 50 तरीके, घर बैठे Regular पैसे कमायें

इसके बावजूद 1D Barcodes आपको दैनिक जीवन में काम आने वाली करीब-करीब वस्तुओं, जैसे कि तेल, साबुन, शैम्पू, क्रीम, पाउडर, मैगी, चिप्स, बिस्किट, चॉकलेट आदि के पैकेट्स पर आसानी से देखने को मिल जाते हैं। इतना ही नहीं, बड़ी-बड़ी Industries जैसे कि Transport, Retail, Food, Health Care (Hospitals), Automobiles आदि में भी 1D Barcode बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है।

2D Barcode

ये बारकोड्स Two Dimensional (2D) होते हैं। यानि कि इनमें दो आयाम (लम्बाई व चौड़ाई) होते हैं। इसीलिए इन्हें द्विआयामी बारकोड्स भी कहा जाता है। हालांंकि इनका प्रचलित नाम QR Code है। लेकिन वास्तव में ये 2D Barcodes होते हैं। ये Information को Numerical, Alpha-Numerical, Byte/Binary और Kanji Form में Store करते हैं। यानि कि 0-9, A-Z, a-z, स्पेशल कैरेक्टर्स, ISO 8859-1 और Shif JIS  X 0208 के रूप में Data Store कर सकते हैं। इस लिहाज से इनके चार अलग-अलग Standards हैं :-

  • Numeric Only  – 7089 Characters
  • Alphanumeric – 4296 Characters
  • Byte/Binary – 2953 Characters
  • Kanji/Kana – 1817 Characters

आपको बताना चाहूँगा कि QR Code, बारकोड का ही एक उन्नत रूप है। जो 1994 में एक जापानी कंपनी Denso Wave द्वारा विकसित किया गया था। और यह उसी Technology (Morse Code) पर बेस्ड है, जिस पर Barcode आधारित है। लेकिन यह भंंडारण के मामले में 1D Barcode से काफी आगे है। यानि कि इसकी Storage Capicity काफी ज्यादा है। इसके अलावा ये हर तरह के Data (Texts, Numbers, Webpages, Links आदि) को Store करने में सक्षम हैं।

अवश्य पढ़ें: WWW (World Wide Web) क्या है? यह कैसे काम करता है?

वहीं अगर बात करें उपयोग की तो आजकल QR Code हर जगह देखने को मिल जाता है। यहाँ तक कि बड़े-बड़े प्रतिष्ठानों से लेकर छोटी-छोटी दुकानों और ठेलों तक पर QR Code लगा दिख जाता है। और न सिर्फ Business Owners, बल्कि Individuals भी इसे खूब इस्तेमाल करते हैं। खासकर Online Payment (Paytm, PhonePe, Google Pay, BHIM UPI) के लिए। इसकी सबसे बड़ी खास बात यह है कि इसे स्कैन करने के लिए अलग-से किसी स्कैनर की जरूरत नहीं पड़ती। सिर्फ Smartphone काफी होता है।

Barcode को कैसे पढ़ें

अब सवाल यह है कि बारकोड में मौजूद Lines और Numbers का क्या मतलब होता है? और इनमें कौन-कौनसी सूचनाऐं छुपी होती है? साथ ही अगर हमारे सामने कोई Barcode आ जाए, तो उसे पढ़ें कैसे? आइए, जानते हैं।

Barcode-Reading-In-Hindi
Barcode Reading

जैसा कि आप इस चित्र में देख पा रहे होंगे कि यह एक EAN 13 Barcode है। जो कि दुनिया भर में Trade के लिए इस्तेमाल होता है। इसके Numbers को चार अलग-अलग खंंडों में बांटा गया है। जिनमें से प्रथम खंड, उस Country या Region (क्षेत्र) को दर्शाता है। जहाँ Product का निर्माण हुआ है। अर्थात् यहाँ जो 89 लिखा है, वह भारत का कोड है। इसका मतलब यह है कि यह प्रोडक्ट भारत में बना है। इसी तरह हर Country/Region का एक अलग कोड होता है। इसकी जानकारी के लिए आप Barcode Country Code List देख सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Cryptocurrency क्या है? यह कैसे काम करती है? Top-10

खैर, उसके बाद दूसरा खंड Manufacturer Code होता है। जो कि प्रोडक्ट के निर्माता के बारे मे बताता है। अर्थात् प्रोडक्ट को बनाने वाली कंपनी/फर्म के बारे में जानकारी देता है। इसी तरह तीसरा खंंड प्रोडक्ट कोड होता है जो कि प्रोडक्ट के बारे में बताता है। और चौथा व अंतिम खंड एक Checksum Character होता है। जो कि Barcode Scanner को यह बताता है कि बारकोड में जो जानकारी दर्ज की गई है। वह Properly (सही तरीके से) दर्ज हुई है या नहीं?

How To Read Barcode Info?

अगर आपके सामने कोई बारकोड आ जाए और आपको उसके बारे में जानकारी प्राप्त करनी हो! तो आप क्या करेंगे? चलिए, मैं बताता हूँ। इसके लिए आपको GS1 की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है। और बारकोड एंटर करके Submit बटन दबाना है। बस! जैसे कि आप सबमिट बटन दबाऐंगे, बारकोड की पूरी जानकारी आपके सामने आ जाएगी। जैसे कि वह बारकोड किस Product का है? उसे किसने बनाया? कब बनाया? निर्माता कंंपनी का नाम, एड्रेस और ईमेल आईडी क्या है? वगैरह-वगैरह। तो इस तरह आप बारकोड में मौजूद सूचनाओं को पढ़ सकते हैं।

बारकोड कैसे Generate करें?

अब तक आपने जाना कि एक Barcode में कई सारी सूचनाऐं होती हैं। लेकिन सवाल यह है कि इन सूचनाओं को बारकोड में दर्ज कैसे किया जाता है? यानि कि How to put data in a barcode? क्या इसके लिए कोई मशीन आती है? अगर हाँ, तो उसकी मदद से Barcode को Generate कैसे किया जाता है? How to generate a barcode? आइए, पूरी प्रक्रिया को समझते हैं।

Step-1. Identify Barcode Symbology

सबसे पहले यह सुनिश्चित कीजिए कि आप सही Barcode Symbology के साथ काम कर रहे हैं या नहीं? क्योंकि बारकोड्स कई तरह के होते हैं। और हर बारकोड अलग Symbology का उपयोग करता है। ऐसे में सही सिम्बोलॉजी का चुनाव करना बहुत जरूरी है। जैसे कि UPC (Universal Product Code) और EAN Barcodes मुख्य रूप से Retail Industry में इस्तेमाल किए जाते हैं। जबकि Code 128 Barcodes ट्रांसपोर्ट और Loggistic Industry में इस्तेमाल होते हैं।

अवश्य पढ़ें: Bitcoin क्या है? बिटकॉइन खरीदने की स्टेप-बाई-स्टेप प्रोसेस

इसी तरह ब्लड-बैंक और डिलीवरी सर्विसेज के लिए Codabar Barcodes का उपयोग किया जाता है। तो Internal Inventory Management के लिए अलग तरह के बारकोड्स का उपयोग किया जाता है। कुल-मिलाकर आप जिस उद्देश्य के लिए Barcode Generate कर रहे हैं। उसके हिसाब से सही Barcode Symbology का चुनाव कीजिए। और उसके बाद अगला स्टेप फॉलो कीजिए।

Step-2. Create Product Code

अब अपने प्रोडक्ट के लिए Product Code Create कीजिए। यानि कि जिस प्रोडक्ट के लिए Barcode Generate करना हैं। उसका प्रोडक्ट कोड तैयार कीजिए। आपको बताना चाहूँगा कि प्रोडक्ट कोड्स 2 प्रकार के होते हैं। एक UPC (Universal Product Code) और दूसरा SKU (Stock Keeping Units) कोड।

1. UPC Code

यह 8 से 12 डिजिट का एक Universal Code होता है। जो GS1 द्वारा जारी किया जाता है। यह तब जारी किया जाता है जब आप किसी प्रोडक्ट को GS1 पर रजिस्टर करते हैं। और UPC कोड के लिए आवेदन करते हैं। यह एक Numeric-Only Code होता है। जो World Wide Acceptable होता है। यानि कि इसकी मदद से आप अपने प्रोडक्ट को कहीं भी Online (Amazon, Flipkart) और Offline बेच सकते हैं।

2. SKU Code

यह एक 8 से 12 डिजिट का Alphanumeric Code होता है। जो Internal Inventory Management के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें डिजिट्स की संख्या फिक्स नहीं होती। यानि कि यह Retailer पर निर्भर करता है कि वह कितने डिजिट्स का कोड इस्तेमाल करना चाहता है। यह असल में एक Custom Code होता है। जो Letters और Numbers का एक व्यवस्थित Combination होता है। और यह Inventory के हिसाब से Design किया जाता है। यानि कि Inventory में जितने ज्यादा प्रोडक्ट्स और Varieties होती हैं! उतना ही लम्बा Code बनता है।

अवश्य पढ़ें: eSIM क्या है? यह कैसे काम करती है? ई-सिम के फायदे

जैसे कि अगर आप Books के लिए SKU System बना रहे हैं! तो सबसे पहले Books के लिए BK कोड बना सकते हैं। उसके बाद Main Category जैसे कि धार्मिक किताबों के लिए D, ऐतिहासिक के लिए H और साहित्यिक के लिए L कोड बना सकते हैं। उसके बाद हिन्दू धर्म की किताबों के लिए H, जैन धर्म के लिए J और बौद्ध धर्म के लिए B कोड बना सकते हैं। उसके बाद भाषा (हिन्दी-HI, अंग्रेजी-EN और संस्कृत-SA) और कालखंड के आधार BC और AD कोड बना सकते हैं। इसी तरह कोड लम्बा होता जाएगा। और अंत में BK-BDHHI-AD984 जैसा कुछ बन जाएगा।

Step-3. Create Barcode

खैर, प्रोडक्ट कोड्स तैयार करने के बाद बारी आती है Barcode Generate करने की। तो इसके लिए 3 अलग-अलग विकल्प हैं। पहला, Online Barcode Generator. दूसरा POS (Point-of-Sale) System. और तीसरा Handheld Barcode Printer. आप इन तीनों में से कोई भी विकल्प चुन सकते हैं।

1. Online Barcode Generator

इंटरनेट पर कई ऐसी वेबसाइट्स हैं! जो मुफ्त में Barcode Generate करने की सुविधा देती हैं। इन वेबसाइट्स पर जाकर आप चंद सैंकंंड्स में बारकोड जनरेट कर सकते हैं। बस आपके पास Product Code होना चाहिए। अगर पॉपुलर वेबसाइट्स की बात करें! तो इस लिस्ट में Zoho, barcode-generator, ruggedtabletpc और barcodesinc का नाम प्रमुख है।

2. POS (Point-of-Sale) System

यह एक All-In-One Business Solution है। जो आपको Sales, Inventory, Checkout Processing, Payments और Business Management के साथ-साथ UPC और SKU Code Generate करने की भी सुविधा देता है। इसकी मदद से आप बिजनेस से जुड़े सारे काम कर सकते हैं। अगर कुछ पॉपुलर Brands की बात करें तो इस लिस्ट में Relops, Square, Revel, Lightspeed, Hike POS और Shopify POS का नाम प्रमुख है।

3. Handheld Barcode Printer

इसे Portable Barcode Label Maker और Portable Barcode Printer भी कहा जाता है। यह एक छोटा-सा डिवाइस होता है। जो कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यानि कि On The Spot बारकोड प्रिंट करने की सुविधा देता है। इसके लिए आपको सिर्फ Product Code और दूसरी जरूरी Information (जैसे कि Product का नाम और Price) दर्ज करनी होती है। उसके बाद यह उसे Barcode में Convert कर देता है। और आप उसे Customize व Print कर सकते हैं।

Step-4. Print Barcode Labels

बारकोड जनरेट करने के बाद बारी आती है प्रिंट करने की। यानि कि जनरेट किए हुए बारकोड्स को Labels पर Print करने की। तो इसके लिए कई विकल्प हैं। मसलन, Regular Printers (Inkjet व Laserjet Printer), Thermal Label Printers, Online Label Printers आदि। अगर आप Handheld या Portable Barcode Printer का उपयोग कर रहे हैं। तो यह स्टेप आपके लिए नहीं है। अगर आप चाहें तो इसे Skeep कर सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Online Shopping Fraud कैसे किया जाता है?

लेकिन अगर आप किसी Online Website या POS System का उपयोग कर रहे हैं। तो आप तीन काम कर सकते हैं। पहला, किसी Inkjet या Laserjet Printer का उपयोग कर सकते हैं। दूसरा Thermal Barcode Printer यूज कर सकते हैं। और तीसरा, किसी Online Barcode Printer से प्रिंंट करवा सकते हैं। मर्जी आपकी है।

बारकोड का इतिहास

अब सवाल यह है कि बारकोड का आविष्कार किसने किया? यानि कि Who invented the barcode? तो इसका श्रेय Norman Joseph Woodland और Bernard Silver को जाता है। इन्होंने 1948 में इस आइडिया पर काम शुरू किया। और कई सारे Systems बनाए। लेकिन पूरी तरह सफल नहीं हुए। अंत में नॉर्मन जॉसेफ वुडलैंड ने Morse Code को आधार बनाया। और उसके Dots और Dashes को नीचे की ओर खींचकर उनमें से Narrow और Wide Lines बनाई। और Barcode का आविष्कार कर दिया।

1949 में नॉर्मन जॉसेफ वुडलैंड और बर्नार्ड सिल्वर ने Barcode के लिए Patent File किया। और 1952 में उन्हें पेटेंट मिल गया। उसके बाद जून 1974 में ट्रॉय (ओहियो) के Marsh Supermarket में पहला UPC Barcode Scanner लगाया गया। और Wrigley’s कंंपनी के उत्पाद (Chewing Gum) के पैकेट पर पहली बार बारकोड का प्रयोग किया गया।

Barcode : FAQs

प्रश्न-1. बारकोड क्या है?

उत्तर: बारकोड किसी Product के बारे में Visual और Machine Readable Form में Data (सूचनाओं) को लिखने का एक तरीका है! जिसमें Product के निर्माता, निर्माण, स्टॉक, कीमत, मात्रा आदि की जानकारी होती है।

प्रश्न-2. बारकोड का आविष्कार किसने किया?

उत्तर: बारकोड का आविष्कार Norman Joseph Woodland और Bernard Silver ने किया था। 

प्रश्न-3. बारकोड कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर: बारकोड मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं। एक Linear Barcodes (1D Barcodes) और दूसरे 2D Barcodes (QR Codes).

प्रश्न-4. बारकोड किस कोड पर आधारित है?

उत्तर: बारकोड मॉर्स कोड (Morse Code) पर आधारित है।

प्रश्न-5. बारकोड में कौन-कौनसी सूचनाऐं होती है?

उत्तर: बारकोड में मुख्यत: Product के निर्माता, निर्माण की तिथि, Expiry Date, वजन, मात्रा, कीमत और स्टॉक से संबंधित जानकारी होती है।

प्रश्न-6. बारकोड को कैसे पढ़ें?

उत्तर: बारकोड को पढने लिए आपके पास तीन विकल्प हैं। पहला, बारकोड स्कैनर या बारकोड रीडर का प्रयोग करें। दूसरा, GS1 वेबसाइट पर जाऐं। और तीसरा, अपने स्मार्टफोन के कैमरा या बारकोड स्कैनर ऐप्प का इस्तेमाल करें। खासकर 2D Barcodes के लिए।

प्रश्न-7. बारकोड कैसे बनाऐं?

उत्तर: बारकोड बनाना बहुत आसान है। इसके लिए आपके ये तीन काम कर सकते हैं। पहला, किसी वेबसाइट से ऑनलाइन बारकोड जनरेट कर सकते हैं। दूसरा, पॉइंट-ऑफ-सेल (POS) System का उपयोग कर सकते हैं। और तीसरा, Portable Barcode Printer का उपयोग कर सकते हैं।

प्रश्न-8. बारकोड रीडर कितने प्रकार के होते हैं?

उत्तर: बारकोड रीडर कई तरह के होते हैं। जैसे कि Pen Scanner, Laser Scanner, CCD Scanner (जिसे LED Scanner के नाम से भी जाना है). Phone Camera Scanner, Omnidirectional Barcode Scanner आदि।

प्रश्न-9. बारकोड कैसे प्रिंंट करें?

उत्तर: बारकोड प्रिंंट करने के लिए आपके पास तीन विकल्प हैं। पहला, Inkjet या Laserjet Printer का उपयोग कर सकते हैं। दूसरा, Thermal Barcode Printer का इस्तेमाल कर सकते हैं। और तीसरा, Online Barcode Printer Services की मदद ले सकते हैैं।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

“Barcode क्या है? यह कैसे काम करता है? इसे कैसे पढ़ें?” पर 3 विचार

Comment