You are here : HomeCyber SecurityFirewall

Firewall क्या है? यह कैसे काम करता है? और क्यों जरूरी है?

Firewall-Kya-Hai

एक कम्प्यूटर की सुरक्षा में फायरवॉल का बहुत बड़ा हाथ होता है। यह न सिर्फ Computer को Malware से बचाता है। बल्कि Hack होने से भी बचाता है। लेकिन सवाल यह है कि कैसे? आखिर Firewall Computer को किस तरह Protect करता है? और कम्प्यूटर की सुरक्षा में इसका क्या योगदान होता है? आखिर Firewall है क्या? और यह काम कैसे करता है? साथ ही इसके प्रकार, फायदे और नुकसान क्या-क्या हैं? क्या फायरवॉल जरूरी है? आइए, विस्तार से जानते हैं। Firewall In Hindi

Firewall (फायरवॉल)

एक कम्प्यूटर यूजर अपने Computer में ढ़ेर सारा Data स्टोर करके रखता है। और उसकी सुरक्षा के लिए कई उपाय करता है। मसलन Screen Lock से लेकर Folder Lock और Encryption से लेकर Antivirus तक सब कुछ इस्तेमाल करता है। लेकिन इसके बावजूद Computer Hack हो जाता है। और Data चोरी हो जाता है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर Hackers Computer को Hack कैसे करते हैं? और इसके लिए कौन-कौनसे तरीके इस्तेमाल करते हैं? तो इसकी जानकारी के लिए आप यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं :-

अवश्य पढ़ें: Phone Hack करने के कौन-कौनसे तरीके हैं व इनसे कैसे बचें?

हालांकि वैसे तो हैकिंग के कई तरीके हैं। लेकिन Malware Attack एक ऐसा तरीका है। जिसकी मदद से कम से कम समय में ज्यादा से ज्यादा Computers को निशाना बनाया जा सकता है। साथ ही Ransomware Attack के जरिए System पर कब्जा किया जा सकता है। और Device को Remotely Control किया जा सकता है। लेकिन अगर आप चाहें, तो इससे बच सकते हैं? कैसे? Firewall की मदद से। लेकिन Firewall Kya Hai? आइए, जानते हैं।

What is Firewall?

फायरवॉल असल में एक Security Guard है। जो Computer Network की सुरक्षा करता है। यानि कि हर आने-जाने वाले (Traffic) पर नजर रखता है। और अनजान ट्राफिक को सिस्टम में घुसने और बाहर जाने से रोकता है। अर्थात Personal Data को कम्प्यूटर से बाहर जाने और Virus आदि को अंदर आने से रोकता है। इस तरह Firewall एक कम्प्यूटर और उसमें मौजूद Data की सुरक्षा करता है

दूसरे शब्दों में, Firewall एक Network Security System है। जो Trusted और Untrusted Network के बीच दीवार का काम करता है। यानि कि Incoming और Outgoing Traffic को Monitor करता है। और Unauthorized Traffic को रोकता है। लेकिन सवाल यह है कि Authorized और Unauthorized में फर्क कैसे किया जाता है? और Network Traffic को किस आधार पर Allow या Disallow किया जाता है?

अवश्य पढ़ें: VPN क्या है और इसे कैसे इस्तेमाल करें? क्या VPN यूज करना जरूरी है?

दरअसल इसके लिए सुरक्षा मानकों और नियमों का एक सेट होता है, जो Firewall द्वारा फॉलो किया जाता है। इसी सेट के आधार पर ट्राफिक को Control किया जाता है। यानि कि Allow, Disallow, Encrypt या Decrypt किया जाता है। वहीं अगर Implementation की बात करें तो फायरवॉल को Software Program या Hardware Device या दोनों के Combination के रूप में Implement किया जा सकता है।

Firewall कैसे काम करता है?

अब सवाल यह है कि फायरवॉल काम कैसे करता है? How does firewall work? तो यह असल में Public और Private Network के बीच दीवार की तरह काम करता है। यानि कि सुरक्षित और असुरक्षित नेटवर्क के बीच Unauthorized Data Transfer को रोकता है। और Network से जुड़े तमाम Computers को सुरक्षित रखता है।

आमतौर पर जब आप किसी Bank या Office में जाते हैं। तो वहाँ कई सारे कम्प्यूटर्स देखने को मिलते हैं। और ये सारे कम्प्यूटर्स एक नेटवर्क के माध्यम से आपस में जुड़े हुए होते हैं। जिसे Intranet (इंट्रानेट) कहा जाता है। यह असल में एक Private Network होता है, जो उस बैंक या ऑफिस के कर्मचारियों तक सीमित होता है।

अवश्य पढ़ें: Credit Debit Card की डिटेल्स कैसे चुराई जाती है व इससे कैसे बचें?

लेकिन जब इस नेटवर्क से जुड़ा कोई कम्प्यूटर Public Network (जैसे कि Internet) से कनेक्ट होता है! और Data का आदान-प्रदान करता है। तो सारा Data Firewall से होकर गुजरता है। अर्थात Firewall प्रत्येक Data Packet को चैक करता है। और असुरक्षित Data Packets को रोकता है। ऐसे में न तो कोई Malware, Trojan या Spyware कम्प्यूटर के अंदर जा सकता है। और न ही बाहर आ सकता है। मतलब नेटवर्क से जुड़े Computers पूरी तरह सुरक्षित रहते हैं।

खासकर, जब कोई Unauthorized User या Hacker नेटवर्क में घुसने की चेष्टा करता है! और किसी Computer से Data चोरी करने की कोशिश करता है! तो Firewall उसे पकड़ लेता है। और नेटवर्क में घुसने से पहले ही रोक देता है। इस तरह न तो Hacker Network में घुस पाता है। और न ही Data चोरी कर पाता है। मतलब, Firewall Hacking से सुरक्षा प्रदान करता है। लेकिन इसके लिए फायरवॉल में निम्नलिखित Technologies का इस्तेमाल होता है :-

Packet Filter

पैकेट फिल्टर Network से गुजरने वाले Data Packets पर नजर रखता है। और सुरक्षा नियमों के आधार पर उन्हें Filter करता है। यानि कि User द्वारा परिभाषित नियमों के आधार पर Data Packets को Allow या Disallow करता है। हालांकि Packet Filter एक प्रभावी तकनीक है। लेकिन इसमें IP Spoofing का खतरा रहता है।

Application Gateway

एप्लीकेशन गेटवे नेटवर्क से जुड़े कम्प्यूटर्स को Unwanted Network Traffic से बचाता है। और एक Extra Security Layer मुहैया करवाता है। हालांकि यह बहुत ही प्रभावी तकनीक है, लेकिन इसके कार्य में गिरावट आ सकती है। वैसे Application Gateway को Application Level Gateway और Application Proxy भी कहा जाता है।

Circuit Level Gateway

सर्किट लेवल गेटवे, Packets के बीच TCP Handshaking पर नजर रखता है। और प्रत्येक Session की वैधता की जाँच करता है। यानि कि Requested Session वैध है या नहीं? इसकी जाँच करता है। और TCP या UDP Connection स्थापित होने के बाद सुरक्षा प्रणाली को लागू करता है। एक बार Connection स्थापित होने के बाद Packets बिना जाँच के Host के बीच आ-जा सकते हैं।

Proxy Server

प्रॉक्सी सर्वर, Network के वास्तविक Address को छुपाता है। और नेटवर्क को सुरक्षित रखने में मदद करता है। यह नेटवर्क के अंदर आने वाले और बाहर जाने वाले Messages को रोकता है। और Malware तथा Unauthorized Users से नेटवर्क को Protect करता है।

Stateful Inspection

स्टेटफुल इंस्पेक्शन, Data Packets को उनके Content के आधार पर कंट्रोल करता है। यानि कि पैकेट्स के Source, Ports और Destination की जाँच की जाती है। और उसी के आधार पर पैकेट्स को Allow या Disallow किया जाता है। हालांकि यह सबसे उन्नत व प्रभावी तकनीक है। लेकिन इसमें Data Flow के कम होने की आंशका रहती है।

Types of Firewall

अगर फायरवॉल के प्रकारों (Types of Firewall) की बात करें तो मूल रूप से यह दो प्रकार के होते हैं। एक Software Firewall (सॉफ्टवेयर फायरवॉल) और दूसरा Hardware Firewall (हार्डवेयर फायरवॉल)। क्या फर्क है दोनों में? आइए जानते हैं।

1. Software Firewall

सॉफ्टवेयर फायरवॉल एक Software Program होता है, जो कम्प्यूटर में Install करके इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इंस्टॉल करने के बाद इसे Configure करना पड़ता है। और Traffic Filtering के लिए कुछ Rules Set करने पड़ते हैं। यानि कि आप अपनी जरूरत के हिसाब से Administrator Rules सेट कर सकते हैं। और ट्राफिक के लिए अलग-अलग Filters Add कर सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Wireless Charging टेक्नोलॉजी क्या है? और यह कैसे काम करती है?

हालांकि फायरवॉल, कंप्यूटर में पहले से Install किया हुआ आता है। लेकिन यह उतना एडवांस नहीं होता। इसीलिए बेहतर Security के लिए एक अच्छा और Advanced Firewall यूज करना बहुत जरूरी है। इसके लिए आप Avast, Quick Heal, Kaspersky, MacAfee और Bull Guard जैसी कंपनियों पर भरोसा कर सकते हैं। ये इस क्षेत्र की जानी-मानी कंपनियाँ हैं। इनके Firewall Softwares आपको CD के रूप में आसानी से मिल जाते हैं। साथ ही आप इनकी Website से भी Download कर सकते हैं।

2. Hardware Firewall

हार्डवेयर फायरवॉल एक Physical Device होता है। जो Public और Private Network के बीच स्थापित किया जाता है। हालांकि यह सॉफ्टवेयर फायरवॉल की तरह ही काम करता है। लेकिन कम्प्यूटर की बजाय यह पूरे Network को Protect करता है। यानि कि पब्लिक नेटवर्क से आने वाले Virus और Unauthorized Users को प्राइवेट नेटवर्क में घुसने से रोकता है। और प्राइवेट नेटवर्क से कोई सूचना बाहर नहीं जाने देता।

फायरवॉल क्यों जरूरी है?

जब आप Internet से कोई File Download करते हैं! तो उसके साथ जो भी Virus होता है, वह आपके Computer में आ जाता है। और तमाम Files को संक्रमित कर देता है। इसके अलावा जब आप किसी Spamy Website पर विजिट करते हैं। या Hackers द्वारा बिछाये गए जाल में फंस जाते हैं! तो आपके कम्प्यूटर से Data चोरी हो जाता है।

अवश्य पढ़ें: Dark Web क्या है? इसे Internet की काली दुनिया क्यों कहा जाता है?

लेकिन Firewall के होते हुए यह संभव नहीं है। क्योंकि फायरवॉल एक दीवार की तरह काम करता है। जो न तो किसी असुरक्षित Data को कम्प्यूटर के अंदर जाने देता है और न ही बाहर आने देता है। मतलब, जहाँ है, वहीं रोक देता है। ऐसे में न तो कोई Virus कम्प्यूटर के अंदर जा सकता है, और न ही बाहर आ सकता है। मतलब Hackers भी आपके कम्प्यूटर से Data चोरी नहीं कर सकते। इसीलिए फायरवॉल बहुत जरूरी है।

Summary

फायरवॉल का शाब्दिक अर्थ है आग की दीवार। अर्थात् ऐसी दीवार, जो सुरक्षा प्रदान करे। आपने सुना होगा कि पुराने जमाने में लोग जंगलों में रहा करते थे। और वे अपने चारों ओर आग जलाकर सोते थे। ताकि जंगली जानवरों से सुरक्षित रहें। Firewall भी इसी तरह की एक सुरक्षा दीवार है, जो कम्प्यूटर नेटवर्क को Virus और Unauthorized Users से बचाती है।

उम्मीद है इस आर्टिकल के जरिए आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा कि Firewall Kya Hai? और यह कैसे काम करता है? अगर अभी भी आपके मन में कोई सवाल है तो आप नीचे Comment Box में पूछ सकते हैं। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे लाईक और शेयर जरूर करें। साथ ही टेकसेवी डॉट कॉम को सब्सक्राइब कर लें। ताकि जब भी नया आर्टिकल पब्लिश हो, आपको सूचना मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

“Firewall क्या है? यह कैसे काम करता है? और क्यों जरूरी है?” पर 3 विचार

    1. Avast, McAfee, Kaspersky, AV और BullGuard काफी अच्छी कंपनियाँ है। रही बात इंस्टॉल करने की तो जैसे आप बाकी सॉफ्टवेयर्स/एप्स को इंस्टॉल करते हैं, वैसे ही फायरवॉल इंस्टॉल होता है।

Comment