You are here : HomeExplanationInternet

Internet क्या है? यह कैसे काम करता है? इंटरनेट का मालिक कौन हैं?

Internet-Kya-Hai

आप दिनभर में कई सारी Internet सेवाओं का इस्तेमाल करते होंगे? जैसे कि ईमेल, मैसेजिंग, वेब ब्राउजिंग, ऑनलाइन शॉपिंग, वीडियो स्ट्रीमिंग आदि। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यह Internet है क्या? और यह काम कैसा करता है? साथ ही इतने बड़े लेवल पर इंटरनेट का संचालन और रखरखाव कौन करता होगा? क्या इंटरनेट का कोई मालिक है? अगर हाँ तो कौन? और कभी-कभी हमारे इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स एक विशेष एरिया में Internet सेवा बंद क्यों कर देते हैं? क्या इसी तरह पूरे विश्व का इंटरनेट भी एक साथ बंद किया जा सकता है? ऐसे ही तमाम सवालों का जवाब जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए।

Internet (इंटरनेट)

बहुत-से लोग Internet और World Wide Web (www) को Same चीज समझते है। लेकिन ऐसा है नहीं। क्योंकि इंटरनेट एक बहुत ही विशाल और वैश्विक नेटवर्क है। जबकि World Wide Web इस नेटवर्क (Internet) का एक हिस्सा भर है। यानि कि इंटरनेट दुनिया भर के Computers को जोड़कर एक विशाल Network का निर्माण करता है। जिससे सूचनाओं का आदान-प्रदान करना काफी आसान हो जाता है। सरल शब्दों में कहें तो इंटरनेट की मदद से हम घर बैठे दुनिया के किसी भी कम्प्यूटर से सूचनाऐं प्राप्त कर सकते हैं। बस वह कम्प्यूटर Internet से जुड़ा हुआ होना चाहिए।

अवश्य पढ़ें: ऑनलाइन Shopping Fraud कैसे किया जाता है व इससे कैसे बचें?

आज Internet की मदद से हम रोजमर्रा के न जाने कितने ही काम घर बैठे चुटकियों में कर सकते हैं। मसलन Electricity Bill भरना, Mobile Recharge करना, Shopping करना, Funds Transfer करना आदि। लेकिन इससे भी ज्यादा हम Chating, Messaging, Browsing और मनोरंजन के लिए Internet का इस्तेमाल करते हैं। यानि कि Internet हमारी दिनचर्या का एक खास हिस्सा है। ऐसे में हमें पता होना चाहिए कि यह Internet आखिर है क्या? और यह काम कैसे करता है? साथ ही इसके क्या-क्या फायदे हैं और क्या-क्या नुकसान? और इस पर नियंत्रण किसका है? आइए, इन सभी सवालों का जवाब तलाशते हैं।

Internet क्या है?

इंटरनेट, Inter और Net – दो शब्दों से मिलकर बना है। जिसका अर्थ है, नेटवर्कों के बीच। अर्थात दो या दो से अधिक नेटवर्कों के बीच Data का आदान-प्रदान करना। असल में Intenet, नेटवर्कों का एक विशाल नेटवर्क है। जो लाखों-करोड़ों Networks को आपस में जोड़ता है। यह दुनिया का सबसे बड़ा Computer Network है। यह Cables, टेलीफोन लाईन्स और सेटेलाइट्स के जरिए दुनिया के कोने-कोने तक फैला हुआ है। अगर आसान भाषा कहें तो Internet एक ऐसा Global Network है। जिससे दुनियाभर में द्रुत गति से सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सकता है।

अवश्य पढ़ें: Phone Root करने का सबसे आसान तरीका, One Click Root

आज Internet सभी के लिए मुफ्त में उपलब्ध है। दुनिया के किसी भी कोने में बैठा कोई भी व्यक्ति जब चाहे, Internet का इस्तेमाल कर सकता है। लेकिन शुरू में ऐसा नहीं था। शुरुआत में Internet आम लोगों के लिए उपलब्ध नहीं था। यह अमेरिका के सुरक्षा विभाग में सैन्य सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए इस्तेमाल किया जाता था। असल में अमेरिकी सैन्य सलाहकार एक ऐसा Network स्थापित करना चाहते थे। जो युद्ध जैसी आपात स्थितियों में भी सूचनाओं का आदान-प्रदान करने में सक्षम हो। बाद में इसी परिकल्पना के आधार पर Internet का जन्म हुआ।

Internet का इतिहास

सितम्बर 1969 में अमेरिका के रक्षा विभाग में ARPA (Advance Research Project Agency) के नाम से एक नेटवर्किंग प्रोजेक्ट लॉन्च किया गया। जिसे उस वक्त ARPANET के नाम से जाना जाता था। इस नेटवर्क का उपयोग गोपनीय सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए किया जाता था। इस Network ने कई सैन्य सलाहकारों, वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं को जोड़ा। जो Electronic Mail (Email) के जरिए तीव्र गति से सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकते थे। इसीलिए इस Network की लोकप्रियता तेजी से बढ़ी।

अवश्य पढ़ें: eSIM क्या है? यह कैसे काम करती है? और इसके क्या-क्या फायदे हैं?

परिणामस्वरूप 1984 तक आते-आते एक हजार से भी ज्यादा Personal Computers इस नेटवर्क का हिस्सा बन गए। और उसके बाद 1986 में National Science Foundation ने अपने 5 Super Computers के नेटवर्क को भी इसमें शामिल कर लिया। जिससे इसका नाम बदलकर NSFnet हो गया। NSFnet ने 1995 तक काम किया। और 1995 में खुद को इस नेटवर्क से अलग कर लिया। उसके बाद Network उपलब्ध करवाने वाली कंपनियों और व्यावसायिक फर्मों ने यह जिम्मेदारी संभाली। जिसमें टेलीफोन कंपनियाँ, केबल कंपनियाँ और सैटेलाइट कंपनियाँ शामिल थी।

भारत में Internet की शुरुआत

यही वक्त था, जब भारत में Internet की शुरुआत हुई। 15 अगस्त 1995 को VSNL (Videsh Sanchar Nigam Limited) ने अपना पहला Internet Server स्थापित किया। और इस तरह भारत के चार महानगरों (दिल्ली, मुम्बई, चैन्नई और कोलकाता) में Internet सेवा की शुरुआत हुई। उस वक्त VSNL एकमात्र कंपनी थी, जो इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाती थी। लेकिन बाद में और भी कई कंपनियाँ आ गई। जिससे इंटरनेट सेवाओं का तेजी से विस्तार हुआ। और सिर्फ महानगरों तक सीमित Internet कई छोटे शहरों, कस्बों और गाँवों तक पहुंच गया।

अवश्य पढ़ें: Smartphone Hack हुआ है या नहीं, कैसे पता करें और ठीक कैसे करें

इंटरनेट सर्विस मुहैया करवाने वाली इन कंपनियों को ISP यानि कि Internet Service Provider कहा जाता है। भारत में इस वक्त BSNL, Jio, Vodafone-Idea, MTNL, Hathway, Tata Communication, Excitel, GTPL, You Broadband, Tikona Infinet और कुछ अन्य सर्विस प्रोवाइडर्स, इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवा रहे हैं।

Internet की खोज किसने की?

अब सवाल यह है कि Internet की खोज किसने की? Who invented the internet? तो इसका श्रेय किसी एक व्यक्ति को नहीं दिया जा सकता। क्योंकि Internet की खोज किसी एक व्यक्ति ने नहीं की। बल्कि इसमें कई सारे लोगों की मेहनत लगी है।

दरअसल Internet कई सारी Technologies से मिलकर बना है। और इसमें कई सारे वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं का योगदान रहा है। लेकिन जब बात आती है इंटरनेट के खोजकर्ताओं की तो सिर्फ दो नाम सामने आते हैंं। मिस्टर Vinton Cerf और Robert E. Kahn का। इन्होंने दरअसल TCP/IP Protocol का आविष्कार किया था। जो कि इंटरनेट पर इस्तेमाल होने वाला Primary Protocol है।

Internet काम कैसे करता है?

इंटरनेट, डाटा संचार का सबसे व्यस्ततम हाईवे है। इसमें हर सैकण्ड करोड़ों TB (Terabyte) का आदान-प्रदान होता है। और इस Data Traffic का अधिकांश भार मुख्य कम्युनिकेशन लाईनों पर होता है। इसीलिए इन लाईनों को Internet Backbone (इंटरनेट की रीढ़) कहा जाता है। सामान्यतः एक कम्प्यूटर, Servers और Client की मदद से Data Transfer करता है। अगर आपको नहीं पता कि Server और Client क्या होता है? तो पहले इनके बारे में जान लीजिए। साथ

Server : जो कम्प्यूटर किसी Network के Data को मैनेज करता है। और Data को स्टोर करने के लिए Storage उपलब्ध करवाता है, वह Server कहलाता है।

अवश्य पढ़ें: Disadvantages Of Smartphone स्मार्टफोन के 10 बड़े नुकसान

Client : जो कम्प्यूटर इस Storage को Access करके Data लेना चाहता है, वह Client कहलाता है। और जो क्लाइंट कई सारे Servers के Data को एक्सेस कर सकता है। वह Host Computer कहलाता है।

Internet की कार्यप्रणाली

इंटरनेट के जरिए आप जो Data Transfer करते हैं। वह छोटे-छोटे Packets के रूप में ट्रेवल करता है। जब आप दो या दो से अधिक नेटवर्कों के बीच डाटा ट्रांसफर करते हैं। तो Data को हैंडल करने का काम Router करता है। अब आप पूछेंगे कि यह राउटर क्या होता है? तो Router असल में एक Computer Network उपकरण होता है। जो दो या दो से अधिक नेटवर्कों के बीच स्विचिंग का काम करता है। यह Network में मौजूद Data को कहीं भी भेज सकता है। लेकिन Data भेजने से पहले यह चैक करता है कि Data को जाना कहाँ है? और उसके बाद तय करता है कि Data को किस दिशा में भेजा जाए?

लेकिन सवाल यह है कि Router को पता कैसे चलता है कि किस Data को कहाँ जाना है? तो इसके लिए Data के साथ एक Address होता है। जिसे IP Address कहा जाता है। इस IP Address में Data का गंतव्य स्थान, उसका पता और सिलसिलेवार सूचना शामिल होती है। इसे पढ़ते ही राउटर को पता चल जाता है कि Data को कहाँ जाना है। बस फिर Router अपने पास उपलब्ध सबसे उपयुक्त मार्ग से Data को उसकी मंजिल तक भेज देता है। यह Data छोटे-छोटे Packets में बंटा होता है। जिसे TCP (Transmission Control Protocol) द्वारा हैंडल किया जाता है।

अवश्य पढ़ें: Kernel क्या है? इसका हमारे Phone में क्या उपयोग है? Explanation

IP Address वास्तव में Numerical Form में होता है। इसीलिए इसे पढ़ना और याद रखना कम्प्यूटर के लिए जितना आसान होता है। इंसान के लिए काफी मुश्किल होता है। इसीलिए 1984 में DNS (Domain Name System) की व्यवस्था की गई। यह IP Address को शब्दों में बदल देता है। जैसे कि 172.217.10.46 को google.com में बदल देता है। जिसे इंसानों के लिए पढ़ना और याद रखना आसान होता है।

Internet के फायदे

इंटरनेट के आने के बाद सूचना के क्षेत्र में क्रांति आ चुकी है। दुनिया में कहाँ क्या हो रहा है, यह आप एक क्लिक में जान सकते हैं। दूरियां मानो खत्म हो चुकी हैं। आज Banking से लेकर Marketing और Business से लेकर Education तक हर क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग हो रहा है। ऐसे में Internet के फायदों (Benefits of internet) के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। क्योंकि इसके बिना आप Internet का पूरा फायदा नहीं उठा सकते। इसीलिए आइए, जानते हैं इंटरनेट के फायदे

1. Email

Email (Electronic Mail) के बारे में आप सभी जानते हैं। यह इंटरनेट की सबसे पुरानी सेवा है, जो द्रुत गति से संदेश भेजने और प्राप्त करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। Email की मदद से आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे व्यक्ति से संवाद स्थापित कर सकते हैं। और उसे सूचनाऐं भेज और मंगवा सकते हैं। Email वास्तव में समय बचाने वाली एक उपयोगी सेवा है।

2. www

World Wide Web (www) सूचनाओं का एक विशाल भंडार है। जिसमें दुनियाभर की सूचनाऐं समाहित हैं। इसकी मदद से आप कोई भी सूचना प्राप्त कर सकते हैं। World Wide Web असल में एक Database है, जिसमें करोड़ों Websites मौजूद हैं। इन वेबसाइट्स पर अनगिनत Webpages मौजूद हैं, जो सूचनाओं से भरे हुए हैं। इनमें Texts, Images, Audio और Videos के रूप में ढ़ेर सारी सूचनाऐं मौजूद हैं।

3. FTP

FTP (File Transfer Protocol) इंटरनेट की एक और सुविधाजनक और उपयोगी सेवा है। इसकी मदद से आप एक कम्प्यूटर में मौजूद फाईल्स को Internet के जरिए दूसरे कम्प्यूटर में Transfer कर सकते हैं। हालांकि आजकल File Transfer करने के कई सारे विकल्प आ चुके हैं। लेकिन फिर भी बड़ी साईज की Files को Transfer के लिए FTP का ही प्रयोग किया जाता है।

4. E-Commerce 

E-Commerce का मतलब है इंटरनेट के जरिए व्यवसाय (Business) करना। यानि कि सामान खरीदना-बेचना और पैसे कमाना। यह व्यवसाय का डिजिटल माध्यम है। इसमें ग्राहक और विक्रेता के बीच सामान की खरीद-फरोख्त और पैसों का लेन-देन पूरी तरह ऑनलाइन होता है। Amazon, Flipkart, KFC, Zomato, Oyo Room आदि E-Commerce के ही उदाहरण हैं। 

5. Chating

Chating के बारे में कौन नहीं जानता? यह Internet की सबसे पॉपुलर सर्विसेज में से एक है। इसकी मदद से दूर बैठे व्यक्ति से बातचीत की जा सकती है। साथ ही उसे Photos, Videos, Voice Recordings और Documents भेजे जा सकते है। अगर आप एक इंटरनेट यूजर हैं तो आप भी WhatsApp, Telegram, Snapchat आदि का जरूर इस्तेमाल करते होंगे। ये सब Chating सर्विसेज ही हैं।

6. News

आज आप घर बैठे देश-विदेश की ताजा खबरें जान सकते हैं। यहाँ तक कि दुनिया में कहाँ क्या घटित हो रहा है, यह उसी वक्त जान सकते हैं। साथ ही कृषि, व्यापार, खेल, मनोरंजन, मौसम, विज्ञान, टेक्नोलॉजी और यहाँ तक कि हर क्षेत्र की लाईव कवरेज देख-सुन सकते हैं। और यह चमत्कार सिर्फ Internet की मदद से ही संभव हो पाया है।

7. Entertainment

Internet मनोरंजन का भी एक अच्छा साधन है। इसकी मदद से आप ढ़ेर सारे टीवी शोज, फिल्में, वेब-सीरीज और लाईव प्रोग्राम्स देखकर अपना मनोरंजन कर सकते हैं। साथ ही Video Streaming Apps जैसे कि Youtube, Netflix आदि के जरिए अपने पसंदीदा प्रोग्राम्स और वीडियोज देख सकते हैं। इतना ही नहीं, आप Internet की मदद से अपने दोस्तों के साथ Online Games भी खेल सकते हैं। कुल मिलाकर Internet मनोरंजन का बेहतरीन साधन है।

8. Online Education

इंटरनेट की मदद से आप घर बैठे Online Classes Join कर सकते हैं। और अपनी पढ़ाई का नुकसान होने से बचा सकते हैं। यहाँ तक कि कई बड़े शिक्षण संस्थान तो परीक्षा भी Online ही करवाते हैं। जैसे कि Delhi University. इसके अलावा कई Entrance Exams और प्रतियोगी परीक्षाऐं भी Online ही आयोजित की जाती हैं। और यह सब Internet की मदद से ही संभव हो पाता है।

9. Online Payment

आजकल ज्यादातर व्यापारी और दुकानदार Online Payment स्वीकार करने लगे हैं। क्योंकि इसमें न तो Cash का झंझट रहता है और न ही खुले पैसों का। इसीलिए ज्यादातर व्यापारी Digital Payment का समर्थन करते हैं। यही वजह है कि आजकल आपको हर दूसरी-तीसरी दुकान में QR Code या POS Machine देखने को मिल जाती है।

अवश्य पढ़ें: Champcash क्या है? इससे Unlimited Earning कैसे कर सकते हैं?

Online Payment असल में Internet की सबसे उपयोगी सेवाओं में से एक है। इसकी मदद से आप रेस्टोरेंट्स, पैट्रोल पम्पस और शॉपिंग मॉल्स आदि में Online भुगतान कर सकते हैं। और बिना Cash Carry किए कहीं Travel कर सकते हैं।

10. Social Media

आज के दिन शायद ही कोई Internet User ऐसा होगा, जो Social Media का इस्तेमाल न करता हो। Social Media के जरिए आप न सिर्फ नये दोस्त बना सकते हैं। बल्कि उनके साथ Chating कर सकते हैं। Photos और Videos शेयर कर सकते हैं। और अपने विचार साझा कर सकते हैं। Facebook, Twitter, Instagram, Linkedin, Tumblr, Reddit, Pinterest और Telegram जैसी तमाम Social Media सर्विसेज Internet की मदद से ही काम करती हैं।

11. Video Calling

इंटरनेट की मदद से आप Video Call कर सकते हैं। और सामने वाले का चेहरा देखते हुए उससे बात कर सकते हैं। यह Calling का शानदार अनुभव प्रदान करता है। साथ ही Voice Call के मुकाबले ज्यादा विश्वसनीय है।

12. Cloud Service

Cloud Service इंटरनेट की एक उपयोगी सेवा है। इसकी मदद से आप अपने Data को कहीं भी Store करके रख सकते हैं। और जरूरत पड़ने पर कहीं से भी Access कर सकते हैं। इसका फायदा यह है कि हर वक्त Hard disk या Pendrive साथ लेकर नहीं घूमना पड़ता। दूसरी बात, Data हमेशा सुरक्षित रहता है।

13. Advertising

इंटरनेट, Advertising के लिए सबसे बेस्ट जगह है। क्योंकि यहाँ Users की कोई कमी नहीं है। हर तरह के Users मिल जाते हैं। ऐसे में इंटरनेट के जरिए विज्ञापन करके कुछ ही सैकण्ड्स में करोड़ों Users तक पहुंचा जा सकता है।

अवश्य पढ़ें: Truecaller का उपयोग करना कितना घातक हो सकता है? और कैसे?

इसीलिए आजकल ज्यादातर कंपनियाँ Online Advertisement करती हैं। आप दिनभर अलग-अलग Apps, Blogs और Websites पर जो ढ़ेर सारे विज्ञापन देखते हैं। वे सब Internet की मदद से ही काम करते हैं।

14. Utility Services

इंटरनेट की मदद से आप रोजमर्रा के कई सारे काम घर बैठे कर सकते हैं। जैसे कि बिजली-पानी का Bill भरना, Mobile Recharge करना, Shopping करना, Ticket Book करना, Funds Transfer करना आदि। इससे आपका काफी सारा समय बचता है।

Internet के नुकसान

हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। इसी तरह इंटरनेट के भी दो पहलू हैं। एक अच्छा और एक बुरा। यानि कि Internet के जितने फायदे हैं, उतने नुकसान भी हैं। आइए एक नजर डालते हैं इंटरनेट के नुकसानों पर…

1. Hacking

यह Internet का सबसे बड़ा नुकसान है। क्योंकि इसकी मदद से आपका Phone या Computer कभी भी Hack किया जा सकता है। और आपका सारा Data चोरी किया जा सकता है। इतना ही नहीं, चुराये गए Data का गलत कार्यों में इस्तेमाल किया जा सकता है। यहाँ तक कि गैर-कानूनी और आपराधिक गतिविधियों में भी उपयोग किया जा सकता है।

2. Pornography

Internet का एक बड़ा हिस्सा Porn Websites का है। और इन Websites पर अश्लील Content की भरमार है। लेकिन उससे भी बड़ी समस्या यह है कि इन वेबसाइट को कोई भी Access कर सकता है। यहाँ तक कि एक 5 साल का बच्चा भी एक्सेस कर सकता है। ऐसे में आप खुद समझ सकते हैं कि ये Websites बच्चों के दिमाग पर कितना बुरा असर डाल सकती हैं।

3. Wrong Information

इंटरनेट पर कोई भी अपनी Website बनाकर उस पर कुछ भी पोस्ट कर सकता है। यहाँ तक कि गलत सूचनाऐं भी पोस्ट कर सकता है। ऐसे में एक उपयोगकर्ता को हमेशा अपने विवेक से काम लेना चाहिए। क्योंकि इन्हीं गलत सूचनाओं की वजह से कई बार व्यक्ति का नुकसान भी हो जाता है।

4. Privacy Risk

इंटरनेट पर Privacy का Risk हमेशा रहता है। आप कौन हैं? कहाँ से आए हैं? क्या Search कर रहे हैं? क्या डाउनलोड कर रहे हैं? किस वेबसाइट पर विजिट कर रहे हैं? क्या देख रहे हैं? क्या पढ़ रहे हैं? यह सब Record होता है। आपकी हर Online Activity को Track किया जा सकता है। यानि कि आपकी कोई भी जानकारी गोपनीय नहीं रहती। और यह इंटरनेट की सबसे बड़ी कमी है।

5. Rumours

इंटरनेट के जरिए अफवाहें बहुत ही तेजी से फैलती हैं। एक झूठी अफवाह चंद मिनटों में ही करोड़ों लोगों तक पहुंच जाती है। लेकिन यहाँ तक तो फिर भी ठीक है। असल समस्या तो तब शुरु होती है, जब लोग इन झूठी अफवाहों को सच मानकर प्रतिक्रिया देना शुरू कर देते हैं। क्योंकि ऐसी स्थिति में ये अफवाहें बेहद नुकसानदायक साबित होती हैं। यहाँ तक कि कई बार तो लोगों की जान भी चली जाती है।

6. Virus

Computer Virus के बारे में तो आप सभी जानते हैं। यह इंटरनेट की मदद से काफी तेजी से Travel करता है। और एक Computer से दूसरे Computer में पहुंच जाता है। Virus आपके Phone या Computer से Data चोरी कर सकता है। और आपके Device में मौजूद तमाम Files को Currupt कर सकता है।

7. Cyber Crimes

Internet की मदद से किए जाने वाले Crimes को Cyber Crimes कहा जाता है। इसमें तमाम तरह के गैर-कानूनी काम आते हैं। जैसे कि Online Fraud, Card Skimming, SIM Card Cloning, Credit/Debit Card Cloning, ATM Fraud, Banking Fraud, Smartphone Hacking, Virus Attack, Data Breaching आदि-आदि। इन सभी कार्यों में Internet की मदद ली जाती है। और यह इंटरनेट का एक बहुत बड़ा नुकसान है।

8. Addiction

इंटरनेट की लत (Addiction) बहुत बुरी चीज हैं। अगर आपको इसकी लत लग जाती है तो आपका ज्यादातर समय इसी में बर्बाद होता है। साथ ही स्वास्थ्य पर भी इसका काफी बुरा असर पड़ता है। PUBG जैसे Games इसके सबसे अच्छे उदाहरण हैं।

9. Defamation

इंटरनेट के जरिए किसी भी इंसान के मान-सम्मान को तार-तार किया जा सकता है। किसी भी व्यक्ति के खिलाफ Negative प्रचार करके उसकी छवि खराब की जा सकती है। कई बार चोरी-छिपे लड़कियों के अश्लील MMS बनाकर उन्हें Internet पर अपलोड कर दिया जाता है। यहाँ तक कि कई पॉपुलर हस्तियों और सेलीब्रिटीज के MMS Leak होने के मामले भी खूब सामने आते हैं। ऐसे में Internet काफी नुकसानदायक चीज है।

10. Loss of Time

जिस तरह Internet हमारा समय बचाता है, उसी तरह समय खराब भी करता है। आप एक नोटिफिकेशन चैक करने के लिए Phone Unlock करते हैं। लेकिन घंटों तक फोन Phone Use करते हैं। क्योंकि आगे से आगे आपके पसंदीदा फोटोज, वीडियोज आदि आते जाते हैं। और आप लगातार देखते जाते हैं। इस चक्कर में आपको समय का पता ही नहीं चलता।

Internet का मालिक कौन है?

दरअसल इंटरनेट लाखों-करोड़ों Computers का एक विशाल Network है। जिसमें दुनिया भर के कम्प्यूटर आपस में जुड़े हुए हैं। यानि कि यह किसी एक व्यक्ति या संस्था का नेटवर्क न होकर सबका नेटवर्क है। और यह पूर्णतया Free है। अब आप पूछेंगे कि अगर Internet वाकई Free है! तो फिर हमसे Internet के पैसे क्यों लिए जाते हैं?

अवश्य पढ़ें: Video SEO : Tags क्या हैं? इनकी मदद से अंधाधुंध Traffic कैसे लें?

दरअसल बात यह है कि Internet फ्री है। लेकिन उसे आपके Phone या Computer तक पहुंचाने के लिए बहुत सारे संसाधनों की जरूरत पड़ती है। इस काम के लिए कई कंपनियाँ हैं, जो टेलीफोन लाईन्स, केबल्स, टॉवर्स और अन्य उपकरणों की मदद से आपके फोन अथवा कम्प्यूटर तक नेटवर्क सिग्नल्स पहुंचाती हैं। इन संसाधनों की लागत और रख-रखाव के लिए इंटरनेट उपयोगकर्ताओं से एक निश्चित शुल्क लिया जाता है। और इसके लिए उपयोगकर्ताओं को अलग-अलग Data Plans चुनने की आजादी दी जाती है।

इंटरनेट पर सरकार का कंट्रोल?

आपने देखा होगा कि कई बार सरकारी आदेश पर किसी एरिया विशेष में Internet सेवा बंद कर दी जाती है। जैसे कि हाल ही जम्मू-कश्मीर में कई दिनों तक Internet सेवा बंद रही। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या इंटरनेट पर सरकार का कंट्रोल है? तो इसका जवाब है – नहीं। क्योंकि किसी देश या राज्य की सरकार पूरे विश्व का इंटरनेट बंद नहीं कर सकती। लेकिन हाँ, विशेष परिस्थितियों में अपने राज्य अथवा देश के किसी क्षेत्र में इंटरनेट सेवा बंद कर सकती हैंं।

अवश्य पढ़ें: Reselling से कमाइए 50,000 रूपये महीना, Top-5 Reseller Apps

वहीं अगर बात करें Internet Service Providers की तो ये भी सिर्फ अपनी खुद की सर्विस ही बंद कर सकते हैं। पूरे विश्व की इंटरनेट सेवा बंद करने की ताकत इनके पास भी नहीं है। तो क्या कोई ऐसी सुप्रीम पॉवर है, जो पूरे विश्व का इंटरनेट एक साथ बंद कर सके? जवाब है – नहीं। क्योंकि Internet एक Decentralised नेटवर्क है। इसके उपर किसी एक व्यक्ति, संगठन अथवा सरकार का नियंत्रण नहीं है। इसलिए कोई भी पूरे विश्व का इंटरनेट एक साथ बंद नहीं कर सकता।

Internet : सारांश

इंटरनेट की हमारे जीवन में क्या अहमियत है? यह हमें तब समझ में आता है, जब कभी-कभार हमारे एरिया का इंटरनेट बंद कर दिया जाता है। तब हमें अहसास होता है कि बिना Internet के हमारी जिन्दगी कितनी अधूरी है। और इंटरनेट पर हम किस हद तक निर्भर हो चुके हैं। बिना इंटरनेट के हमें ऐसा लगता है, मानो हमारी जिन्दगी रूक-सी गई है। कहने का मतलब यह है कि Internet हमारी जिन्दगी का एक अभिन्न हिस्सा बन चुका है। और इसके बिना जीना काफी मुश्किल है।

उम्मीद करता हूँ इस आर्टिकल के जरिए आपको Internet क्या है? यह कैसे काम करता है? इंटरनेट के क्या-क्या फायदे और नुकसान हैं? और इंटरनेट का असली मालिक कौन है? जैसे सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए ‘टेकसेवी डॉट कॉम’ को Subscribe कर लीजिए। ताकि जब भी हम कोई नया आर्टिकल पब्लिश करें, आपको उसका नोटिफिकेशन मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

Comment