You are here : HomeTop-10Disadvantages Of Smartphone

Disadvantages Of Smartphone स्मार्टफोन के 10 बड़े नुकसान

disadvantages-of-smartphone

आज के जमाने में बिना Smartphone के रह पाना लगभग नामुमकीन है। स्मार्टफोन आने के बाद हमारी जिन्दगी काफी आसान हो गई है। रोजमर्रा के कामों में यह हमारी बहुत मदद करता है। यानि कि स्मार्टफोन के बहुत सारे फायदे हैं, जिनसे आप भलीभाँति वाकिफ़ हैं। लेकिन क्या आप स्मार्टफोन के दुष्परिणामों (Disadvantages Of Smartphone) के बारे में भी जानते हैं? क्या आपको पता है स्मार्टफोन इस्तेमाल करने के क्या-क्या नुकसान हैं? What are the disadvantages of using smartphone? अगर नहीं तो यह आर्टिकल आप ही के लिए है, इसे पूरा पढ़िएगा।

Disadvantages Of Smartphone

आज Call और Message से लेकर Internet Surfing और Banking से लेकर Entertainment तक हर काम में स्मार्टफोन हमारा साथी है। स्मार्टफोन के रहते न हमें कैलकुलेटर की जरूरत पड़ती है, न घड़ी की, न टॉर्च की, न डायरी की और न ही कैलेण्डर की। यहाँ तक कि हमारा Wallet और Bank भी अब स्मार्टफोन ही है। इसके अलावा भी बहुत से काम हैं, जिनको पूरा करने में स्मार्टफोन हमारी मदद करता है। कहने का मतलब यह है कि स्मार्टफोन के बहुत सारे फायदे हैं। और इन फायदों के बारे में आप सब अच्छी तरह जानते हैं।

लेकिन कहते हैंं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं – एक अच्छा और एक बुरा। ठीक इसी तरह Smartphone के भी दो पहलू हैं – एक अच्छा और दूसरा बुरा। एक फायदेमंद और दूसरा नुकसानदेह। यानि कि स्मार्टफोन इस्तेमाल करने के जितने Advantage हैं, उतने ही Disadvantage भी हैंं। लेकिन बहुत से लोगों को इन नुकसानों के बारे में सही जानकारी नहीं है। इसलिए आइए, जानते हैं Disadvantages Of Smartphone यानि कि स्मार्टफोन से होने वाले 10 नुकसानों के बारे में…

1. लत (Addiction)

लत किसी भी चीज की हो, बुरी ही होती है। और जब लत Smartphone की हो तो और भी बुरी है। कुछ लोगों को स्मार्टफोन Use करने का इस कदर नशा हो जाता है, कि वे बिना स्मार्टफोन के एक पल भी नहीं रह सकते। उनको जब भी और जहाँ भी मौका मिलता है, वे अपना Smartphone निकालते हैं और उसमें खो जाते हैं। कुछ लोग तो बाथरूम में भी अपना Phone साथ लेकर जाते हैं। मतलब, पाँच मिनट भी फोन के बिना नहीं रह सकते।

मैंने ऐसे-ऐसे लोग भी देखें हैं जो सड़क पर चलते समय भी अपने फोन में खोये रहते हैं। भले ही उनकी वजह से दूसरों को कितनी भी परेशानी क्यों न हो, उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। कई बार तो ऐसे लोगों की वजह से दुर्घटनाऐं भी हो जाती हैं जिनमें कई निर्दोष लोग बेचारे बेवजह मारे जाते हैं। अब बताइए, इससे बड़ा Disadvantage of smartphone और क्या सकता है?

संस्कृत में एक सूक्ति है, “अत्ति सर्वत्र वर्जयेत्” अर्थात् अत्ति सभी जगह वर्जित है और यह बात स्मार्टफोन पर भी फिट बैठती है। हद से ज्यादा फोन Use करना बुरी बात है। इससे आपके स्वास्थ्य पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए स्मार्टफोन को कभी भी अपनी लत न बनाऐं बल्कि उतना ही इस्तेमाल करें, जितना जरूरी है।

2. Brain Cancer

जो लोग फोन को कान से सटाकर कई कई घंटों तक बातें करते रहते हैं उनको दिमाग का कैंसर हो जाता है। क्योंकि हरेक फोन से एक खतरनाक रेडिएशन (Harmful Radiation) निकलता है, जो इंसानों में Cancer पैदा करने के लिए उत्तरदायी होता है। फोन से निकलने वाला यह रेडिएशन आपके स्वास्थ्य पर काफी नकारात्मक प्रभाव डालता है। जिसकी वजह से आप धीरे-धीरे कैंसर के मरीज (Cancer Patient) बन जाते हैं।

वैसे तो हर फोन SAR Level के अंतरराष्ट्रीय मानकों को ध्यान में रखकर बनाया जाता है और बहुत ही कम रेडिएशन पैदा करता है। इसीलिए 1.6w/Kg. से कम रेडिएशन पैदा करने वाले फोन को Use करना Safe माना जाता है। लेकिन जब आप लम्बे समय तक फोन को कान से लगाकर बातें करते हैं तो यह थोड़ा-सा रेडिएशन भी बहुत खतरनाक होता है और आपको दिमाग का कैंसर देने के लिए पर्याप्त होता है।

अवश्य पढ़ें: Quora क्या है? क्या यह वाकई ऑनलाइन कमाई के लिए सबसे आसान और भरोसेमंद विकल्प है?

इसके अलावा अगर आप रात को सोते समय अपना फोन सिरहाने या तकिए के नीचे रखकर सोते हैं तो कृपया सतर्क हो जाऐं। क्योंकि यह भी आपके रातभर फोन पर बात करने जितना ही खतरनाक है। अब आप पूछेंगे कि वो कैसे? तो इसका जवाब यह है कि जब आप Phone को अपने सिरहाने या तकिए के नीचे रखकर सोते हैं तो रातभर फोन आपके सिर के सम्पर्क में रहता है और पूरी रात फोन से जो रेडिएशन निकलता है वो आपके दिमाग को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। इसलिए रात को सोते समय अपना फोन कम से कम 8-10 फीट दूर रखकर सोयें।

3. Eye Problems

इस बात से तो शायद आप सभी सहमत होंगे कि स्मार्टफोन के इस्तेमाल से आँखों को काफी नुकसान होता है। इतना ही नहीं, लम्बे समय तक Smartphone Use करने से नजर भी कमजोर हो जाती है। दरअसल फोन की स्क्रीन से एक लाईट निकलती है, जिसे ब्लू लाईट Blue Light कहा जाता है। यह आँखों पर काफी बुरा असर डालती है। इससे न सिर्फ आँखें खराब होती हैं बल्कि नजर भी कमजोर हो जाती है।

खासकर रात के समय या अंधेरे में फोन का इस्तेमाल करना आपकी आँखों के लिए बेहद घातक (Dangerous) है। क्योंकि इससे आँखों में जलन और सूजन के साथ-साथ पानी आने, धुँधला दिखाई देने और Vision Loss होने जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं। इसके अलावा अंधेरे में फोन यूज करने से सिरदर्द और नींद न आने जैसी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। इसलिए कभी भी रात के समय (विशेषकर अँधेरे में) अपने फोन का इस्तेमाल न करें। यह एक बहुत बड़ा Disadvantage Of Smartphone है।

4. Cyber Crime

आपने Cyber Crime का नाम तो जरूर सुना होगा। अगर आप इसके बारे में नहीं जानते तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि यह वह Crime (अपराध) होता है, जो आप Internet के जरिए करते हैं। इंटरनेट पर किसी को छेड़ना (Teasing), परेशान करना (Distrubing), गाली-गलौच करना (Abusing), धमकी देना (Threatening) और किसी की जासूसी करना (Spying) सायबर क्राइम की श्रेणी में आता है और इसके लिए आपको जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है।

इसके अलावा ऑनलाइन ठगी, धोखाधड़ी (Fraud), जालसाजी (Forgery), फीशिंग अटैक (Phishing Attack), मैलवेयर अटैक (Malware Attack) और हैकिंग (Hacking) भी गंभीर श्रेणी के अपराध हैं। इन अपराधों में लिप्त पाये जाने पर आपके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। यानि कि आपको जेल (Jail) हो सकती है। इसलिए Internet Surfing करते वक्त सुरक्षा संबंधी बातों का विशेष रूप से ध्यान रखें और जहाँ तक हो सके Cyber Crime से हमेशा बचकर रहेंं।

आप साइबर अपराधी तो नहीं?

शायद आपको पता भी नही होगा कि आज तक न जाने आप कितनी बार सायबर क्राईम कर चुके होंगे पर शायद आपकी किस्मत अच्छी थी जिसकी वजह से आप जेल जाने से बच गए। Facebook या WhatsApp पर अगर आप किसी को परेशान करते हैं, बिना मतलब के कॉल करते हैं या मैसेज भेजते हैं (खासकर लड़कियों को) तो यह भी सायबर क्राईम की श्रेणी में आता है। दरअसल कई बार आप खुद ये अपराध करते हैं और कई बार इन अपराधों का शिकार हो जाते हैं। और दोनों ही सूरतों में आपके स्मार्टफोन की बड़ी अहम भूमिका होती है।

अवश्य पढ़ें: Adaptive Battery फीचर क्या है और यह कैसे काम करता है? इसे एक्टिव कैसे करें?

सुनने में यह भले ही आपको अजीब लगे पर आंकडों की मानें तो स्मार्टफोन्स के आने के बाद सायबर क्राईम की रेट (Crime Rate) में तेजी से ईजाफा हुआ है, जो इस बात का सबूत है कि इन अपराधों में स्मार्टफोन की अहम भूमिका है। The smartphone have an important role in cyber crimes. इसलिए जरा संभल के! कहीं आप भी जाने-अनजाने इन अपराधों के आरोपी या शिकार न बैठें।

5. Danger To Privacy

आपको कैसा लगेगा अगर कोई अनजान व्यक्ति आपको फोन करके आपका नाम, आपके माता-पिता का नाम, आपके घर का पता, आपके स्कूल अथवा कॉलेज का नाम, आपके दोस्तों का नाम, आपका फोन नंबर और आपकी Location बताए? कैसा लगेगा जब कोई अनजान व्यक्ति, जिसे न कभी आपने देखा है और न ही उससे मिले हों, आपको फोन करके आपके बारे में इतनी सारी जानकारी दे और वह भी एकदम सही सही? जाहिर-सी बात है आप भौंचक्के रह जाऐंगे, यह सोचकर कि उसके पास आपकी इतनी सारी Personal Details आई कहाँ से?

लेकिन ज्यादा चौंकने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह सारी जानकारी उसको आप ही ने दी है। कब? और कैसे? चलिए बताता हूँ। आपने Facebook, Twitter, Instagram, Whatsapp और Chating Sites पर ये सारी जानकारी Publicaly Share कर रखी है। साथ ही फेसबुक पर आप Cheak In के जरिए बार-बार अपनी Location Share करते रहते हैं। अब जिस इंसान को आपके बारे में कोई जानकारी लेनी होगी तो वह Social Media के जरिए आराम से ले लेगा। है ना? यही तो हैं Disadvantages Of Smartphone.

यह भी पढ़ें: फोन से Youtube चैनल कैसे बनाएं? Youtube से ऑनलाइन कमाई कैसे करें? ट्यूटोरियल

इसे आप हल्के में न लें। क्योंकि इसी जानकारी के आधार पर आप मुसीबत में भी फँस सकते हैं। सोचिए अगर किसी चोर, डाकू या अपराधी इस जानकारी का इस्तेमाल कर आपके घर आ धमके तो आप क्या करेंगे? अगर किसी ने आपके घर कोई अवैध (Illegal) चीज (हथियार, नशा आदि) डिलीवर करके पुलिस को फोन कर दिया और पुलिस ने आपको रंगे हाथ पकड़ लिया तो आप क्या करेंगे? अगर किसी ने दुश्मनी निकालने के लिए आपकी निजी जानकारी (Personal information) का गलत इस्तेमाल (Misuse) कर आपको फँसा दिया तो आप क्या करेंगे? जरा इस पर विचार करें।

6. Harmful For Children

अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं और वे Smartphone इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाऐं। क्योंकि यह आपके बच्चे के लिए Dangerous हो सकता है। जब भी आपका बच्चा स्मार्टफोन इस्तेमाल करे, उस पर नजर रखें। वह फोन में क्या-क्या देखता है, क्या Search करता है, क्या Download करता है और कौन-कौनसी Websites पर Visit करता है यानि कि उसकी हर Activity पर नजर रखें। ध्यान दें कि कहीं आपका बच्चा Crime (अपराध), Violence (हिंसा) और Pornography (पोर्नोग्राफी) से जुड़ा Content तो नहीं देख रहा!

यह भी पढ़ें: गूगल ने जारी किया Android 10.0 (Android Q) का बीटा वर्जन, ये हैं टॉप-10 फीचर्स

हालांकि पोर्न साइट्स पर उपयोगकर्ता से ‘Yes, I Am 18+’ का Confirmation मांगा जाता है लेकिन अगर उस पर एक 8 साल का बच्चा भी Click कर दे तो उसके सामने Porn का भण्डार खुल जाएगा। इसके अलावा आजकल Web Series और TV Shows में भी भर-भरकर हिंंसा, मारपीट, गाली-गलौच (Abusing) और सॉफ्ट पॉर्न (Soft Porn) दिखाया जाता है, जो बच्चों के कोमल मन पर बेहद बुरा असर (Bad Impact) डालता है। और इस लिहाज से देखें तो स्मार्टफोन बच्चों के लिए बहुत खतरनाक है। The smartphone is very dangerous for children.

7. Social Interection Finish

स्मार्टफोन की वजह से आजकल लोगों में Social Interection खत्म-सा होता जा रहा है। आजकल जब दो लोग साथ भी बैठे होते हैं तो भी उनमें बातचित नहीं होती, बल्कि दोनों अपने-अपने फोन में Busy रहेंगे। इसके अलावा आजकल लोगों का आपस में मिलना-जुलना और बातें करना काफी कम हो गया है। जिसे भी देखो, जहाँ भी देखो, हर कोई अपने फोन में मस्त है। असली दुनिया को छोड़कर Internet की आभासी दुनिया में खुश है। यह एक भयंकर Disadvantage Of Smartphone है।

इसका Live Example आप अपने परिवार में भी देख सकते हैं। पहले जब स्मार्टफोन नहीं हुआ करता था तो पूरा परिवार एक साथ बैठकर खाना खाता था। और जब पूरा परिवार साथ होता था तो उनमें ढ़ेर सारी बातचित और हँसी-मजाक होता था। एक तरह से घर में चहल-पहल रहती थी और घर का माहौल जीवंत-सा लगता था। लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब Smartphone की वजह से यह सब खत्म-सा हो गया है। घर में 10 लोग हों, तब भी चहल-पहल नहीं होती। हरदम सन्नाटा पसरा रहता है।

Virtual Life

सच पूछो तो स्मार्टफोन की वजह से व्यक्ति परिवार से दूर होता जा रहा है। उसे फेसबुक और व्हाट्सएप की Virtual दुनिया, वास्तविक दुनिया से कहीं ज्यादा सुखद व आरामदायक लगती है। उसकी खुशी का पैमाना इस बात से तय होता है कि उसकी फोटो पर कितने Likes और Comments आए। यह Disadvantages Of Smartphone मे से सबसे चिंताजनक है। क्योंकि इसमें व्यक्ति अपनी नकली और आभासी दुनिया में जीता है और खुश रहता है। लेकिन जब कोई उसकी इस खुशी में खलल डालता है तो उसे बेहद नागवार गुजरता है।

यह भी पढ़ें: एक आधार कार्ड से अधिकतम कितने सिम कार्ड ख़रीद सकते हैं? आधार कार्ड हिस्ट्री कैसे जानें?

नतीजा यह होता है कि परिवार में आपसी मतभेद (Discord), लड़ाई-झगडा (Quarrel), अशांति (Unrest), तनाव (Tension), रिश्तों में दरार (Rift in relationships) और यहाँ तक कि कई बार तो नौबत तलाक (Divorce) तक पहुँच जाती है। अगर आंकडों पर ग़ौर करें तो पिछले कुछ सालों में पारिवारिक कलह (गृह क्लेश) और तलाक के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। और इन सबके पीछे स्मार्टफोन की अहम भूमिका रही है। इसलिए स्मार्टफोन को अपने परिवार और रिश्तों पर कभी हावी न होने दें।

8. Nomophobia

अगर आपको नहीं पता कि नोमोफोबिया क्या होता है तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि यह एक तरह का Phobia (डर) है, जिसमें व्यक्ति को Phone पास न होने का डर लगता है। अर्थात वह एक पल भी अपने फोन के बिना नहीं रह सकता। अगर आप भी दिनभर अपने Phone का पीछा नहीं छोड़ते, बिना फोन के रह नहीं पाते, Battery खत्म पर बैचेन हो उठते है, नेटवर्क कवरेज न मिलने पर झल्ला उठते हैं तो संभल जाइए, क्योंकि आप भी Nomophobia के शिकार हो चुके हैं।

अगर आप सोच रहे हैं कि यह तो Normal है। इससे भला किसी को क्या नुकसान हो सकता है? तो आप गलत हैं। क्योंकि पिछले कुछ सालों में ऐसी कई घटनाऐं सामने आई हैं जिन्होंने पूरी दुनिया को चौंकाकर रख दिया। पिछले दिनों Social Media पर Viral हुई एक चीनी महिला और उसके 2 साल के बच्चे की CCTV फुटेज तो आपने जरूर देखी होगी, जो इंटरनेट पर CCTV Footage of Chinese Lady के नाम से काफी लोकप्रिय हुई थी. नहीं? चलिए, मैं बताता हूँ कि उस फुटेज में क्या था।

चीनी महिला की कहानी

दरअसल चीन की एक महिला अपने दो साल के बच्चे के साथ सड़क किनारे बैठी किसी वाहन का इंतजार कर रही होती है। लेकिन महिला अपने स्मार्टफोन में इस कदर खो जाती है कि उसे याद ही नहीं रहता कि उसका बच्चा कहाँ है? इधर बच्चा खेलते-खेलते सड़क के बीचों-बीच आ जाता है और एक कार की चपेट में आ जाता है लेकिन तब भी उस महिला को कोई फर्क नहीं पड़ता। उसके बाद ड्राइवर गाड़ी रोककर बच्चे के पास आता है और उसे लेकर उस महिला के पास जाकर उससे पूछता है कि क्या यह बच्चा आपका है?

तब जाकर उस महिला को याद आता है कि उसके साथ उसका एक नन्हा-सा बच्चा भी था। उसके बाद गाड़ी का ड्राइवर और वह महिला दोनों बच्चे को Hospital लेकर जाते हैं लेकिन वहां जाते ही बच्चे को मृत घोषित कर दिया जाता है। महिला की स्मार्टफोन की लत की बच्चे की जान लेकर ही छोड़ती है। Disadvantages Of Smartphone की यह घटना भी अगर आपके लिए सामान्य है तो लीजिए, एक और सुनिए।

भारतीय युवा की कहानी

यह घटना भारत की है। भारत के एक 24 वर्षीय ग्रेजुएट युवक ने सिर्फ इसलिए आत्महत्या कर ली क्योंकि उसके माता-पिता ने उसे स्मार्टफोन का इस्तेमाल कम करने की सलाह दी थी। युवक ने Sucide Note में यह लिखा कि, “मैं Facebook के बिना नहीं रह सकता।” क्या आपको ये दोनों घटनाऐं नॉर्मल लग रही हैं? अगर आपका जवाब हाँ है तो शायद आप भी Nomophobia के शिकार हो चुके हैं। और आपको समय रहते इससे बाहर आने की जरूरत है। इसके लिए आप नीचे दिए गए आर्टिकल की मदद ले सकते हैं…

अवश्य पढ़ें: नोमोफोबिया (Nomophobia) क्या है? इसकी पहचान कैसे करें? लक्षण, नुकसान और बचाव

9. दुर्घटनाएँ (Accidents)

हालांकि यातायात नियमों के अनुसार गाड़ी चलाते वक्त फोन पर बात करना सख्त मना है। लेकिन कुछ लोग इन नियमों को धत्ता बताकर बेफिक्र Phone पर बात करते हुए देखे जा सकते हैं। बहुत गलत है। क्योंकि इससे व्यक्ति का ध्यान भटक जाता है और वह कोई न कोई गलती कर बैठता है जिससे Accident हो जाता है। इसीलिए ड्राइविंग करते वक्त फोन इस्तेमाल न करने की सलाह दी जाती है। अगर बात करना जरूरी ही हो तो गाड़ी को साईड में रोककर आराम से बात की जा सकती है। इससे यातायात का नियम भी नहीं टूटेगा और आपकी जान भी सलामत रहेगी।

10. श्रवण-शक्ति का ह्रास (Loss Of Hearing)

आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ लोग कानों में Earphones लगाकर उँची आवाज में Music सुनते हैं। और कुछ तो Music के इतने ज्यादा शौकीन होते हैं कि कई-कई घंटो तक Nonstop Music सुनते रहते हैं जो कि कानों के लिए बहुत ही खतरनाक है। क्योंकि लम्बे समय तक उँची आवाज में म्यूजिक सुनने से हमारी सुनने की शक्ति पर बहुत बुरा असर पड़ता है और धीरे-धीरे सुनाई देना बंद हो जाता है। साथ ही कान से जुड़ी कई बीमारियाँ भी हो जाती हैं, जैसे कि कान में हरदम आवाजें गूंजते रहना, खून अथवा मवाद का आना और तेज दर्द होना आदि।

अवश्य पढ़ें: Dark Web क्या है? इसे इंटरनेट की काली दुनिया क्यों कहा जाता है?

फोन पर गाने सुनते वक्त आपको Volume के लिए एक Warning दी जाती है। इसलिए कभी भी खतरे के निशान से ज्यादा वॉल्यूम पर गाने न चलाऐं। क्योंकि इससे आपकी श्रवण-शक्ति कमजोर हो सकती है। लेकिन बहुत-से Music Lovers इस चेतावनी को अनदेखा कर देते हैं और सोचते हैं कि यह चेतावनी फालतू है और इसका कोई मतलब नहीं है। लेकिन उनको यह बात तब समझ में आती है जब उनको कान से संबंधित दिक्कतें (Ear Problems) शुरू होती हैं। यही स्वास्थ्य सम्बन्धी Disadvantages Of Smartphone हैं।

Disadvantages Of Smartphones से बचें

यहां मैंने सिर्फ Top-10 Disadvantages Of Smartphones का ही जिक्र किया है। लेकिन इनके अलावा भी बहुत से Disadvantages हैं, जिनसे आपको सदैव बचकर रहना चाहिए। अंग्रेजी में एक कहावत है Health is wealth यानि कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन है। और ‘बचाव से बड़ा कोई ईलाज नहीं होता’। Smartphone का इस्तेमाल कीजिए, जरूर कीजिए लेकिन उतना ही कीजिए जितना जरूरी है। स्मार्टफोन को अपनी लत मत बनाइए। क्योंकि यह आपके घर, परिवार, समाज, समय, स्वास्थ्य, धन और जीवन – सबके लिए Dangerous है।

उम्मीद करता हूँ इस आर्टिकल के जरिए आपक़ो Disadvantages Of Smartphone के बारे में ज्ञानवर्धक जानकारी मिली होगी। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही और ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए ‘टेकसेवी डॉट कॉम’ को Subscribe कर लीजिए। ताकि नया आर्टिकल प्रकाशित होते ही आपको उसका Notification मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

Comment