Google Content Rating क्या है और यह क्यों दी जाती है? जानिए हर Rating का अर्थ

Google-Conent-Rating-Kya-Hai

क्या आपने कभी Google Play Store से कोई ऐप या गेम डाउनलोड किया है? अगर हाँ तो आपने देखा होगा कि Paly Store पर ऐप्स और गेम्स के साथ एक खास तरह की Rating लिखी होती है। जैसे कि 3+, 7+, 12+, 16+ आदि। यह दरअसल उस ऐप या गेम की Content Rating होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह Rating क्यों दी जाती है और इसका मतलब क्या होता है? नहीं? चलिए कोई बात नहीं। क्योंंकि आज के इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में बात करने वाले हैं। तो आइए, विस्तार से जानते हैं Google Content Rating के बारे में।

Google Content Rating

जैसा कि आप सब जानते हैं Google Play Store पर अनगिनत Apps और Games मौजूद हैं। और उनमें हर तरह का Content मौजूद है। जैसे कि किसी ऐप में साफ-सुथरा कंटेंट हैं तो किसी में अश्लील। किसी में अपराध और हिंसा से भरे दृश्य हैंं तो किसी में जुए और शराब को बढ़ावा देने वाले दृश्य। ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि Apps और Games को उनके कंटेंट के आधार पर Rating दी जाए। ताकि Users को यह पता चल सके कि किस App या Game में किस तरह का Content हैं। खासकर छोटे बच्चों के मामले में यह बहुत जरूरी है।

अवश्य पढ़ें: Adaptive Battery फीचर क्या है और यह कैसे काम करता है? इसे एक्टिव कैसे करें?

Google Content Rating क्या है?

यह एक खास तरह की Rating है, जो Play Store पर मौजूद किसी App या Game को उसके अंदर मौजूद Content के आधार पर दी जाती है। इससे आपको यह समझने में मदद मिलती है कि कोई App या Game किस उम्र के लोगों के लिए सही है। खासकर कम उम्र के बच्चों के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है। इसीलिए आप जब भी छोटे बच्चों के लिए कोई App या Game Download करें, तो उसकी Content Rating जरूर चैक करें। ताकि आपको यह पता चल सके कि उसके अंदर किस तरह का कंटेंट मौजूद है। और वह बच्चों के लिए सही है या नहीं।

Content Rating कौन देता है?

अगर आप सोच रहे हैं यह Rating Google द्वारा दी जाती है, तो आप गलत हैं। क्योंकि Google का इससे कोई लेना-देना नहीं है। यह रेटिंग दरअसल App Developer और IARC (International Age Rating Coalition) द्वारा दी जाती है। और यह Country के हिसाब से अलग-अलग होती है। यानि कि हर देश की Content Rating अलग होती है। जैसे कि अमेरिका में अलग रेटिंग होती है, तो भारत में अलग। इसी तरह बाकी देशों का भी अपना-अपना Rating System है।

अवश्य पढ़ें: किसी भी Youtube वीडियो को डाउनलोड कीजिए बिना किसी ऐप या सॉफ्टवेर के

Content Rating का आधार

अब सवाल यह है कि Content Rating किस आधार पर दी जाती है? तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि इसके पीछे कई Parameters काम करते हैं। जैसे कि सरकारी नीतियाँ, कानून, कटेंट का प्रकार, देखने वालों की उम्र और समझ का स्तर, धार्मिक विश्वास एवं मान्यताऐं आदि। इनमें से Age (उम्र) सबसे अहम Parameter (मानक) होता है। और इसी के आधार पर Content Rating दी जाती है। जिससे यह जानने में आसानी होती है कि कौनसा Content किस आयु-समूह के लिए उपयुक्त है।

Content Rating In India

भारत में Apps और Games को 5 अलग-अलग तरह की Rating दी जाती है। जो कि 3+, 7+, 12+, 16+ और 18+ है। यह रेटिंग आपको बताती है कि किसी App या Game में किस तरह का कंटेंट मौजूद है, और वह आपके लिए सही है या नहीं। लेकिन सवाल यह है कि किस Rating का क्या मतलब है? यह कैसे पता चलेगा? तो इसका जवाब यहाँ विस्तार से दिया गया है। आप इसे ध्यान से पढ़िए और हमेशा याद रखिए।

अवश्य पढ़ें: Naaptol से लीक हो रहा है आपका Personal Data, भूलकर भी न करें Shopping

3+ Rating

अगर Google Play Store पर किसी App या Game की Content Rating 3+ है तो इसका अर्थ है कि वह सभी आयु समूह के लोगों के लिए उपयुक्त है। और उसमें साफ-सुथरा Content है। हाँ, हिंसा के कुछ काल्पनिक दृश्य हो सकते हैं, लेकिन सिर्फ हँसी-मजाक (Comedy) के लिए। वास्तविक हिंसा स्वीकार्य नहीं है। साथ ही अभद्र भाषा और गाली-गलौच की भी अनुमति नहीं है।

Yono-SBI-App-Content-Rating-3
Yono SBI Content Rating – 3+

3+ Rating उन Apps और Games को दी जाती है, जो सभी आयु-समूह के लोगों द्वारा उपयोग करने योग्य होते हैं। इनमें साफ-सुथरा Conent होता है। और परिवार के साथ बैठकर देखा जा सकता है। यानि इस रेटिंग वाले ऐप्स और गेम्स में आपत्तिजनक और अश्लील सामग्री नहींं होती।

अवश्य पढ़ें: Quora क्या है? क्या यह ऑनलाइन कमाई के लिए सबसे आसान और भरोसेमंद विकल्प है?

7+ Rating

अगर किसी App या Game की Content Rating 7+ है तो इसका अर्थ है कि वह छोटे शिशुओं (Kids) के लिए उपयुक्त नहीं है। क्योंकि उसमें कुछ डरावने दृश्य (Scene) और ध्वनियां (Sounds) हो सकती हैं। साथ ही जान-बूझकर की गई हिंसा और काल्पनिक हिंसा के दृश्य भी हो सकते हैं। लेकिन सिर्फ सौम्य हिंसा (Gentle Violence) की ही अनुमति है। क्रूर हिंसा (Brutal Violence) स्वीकार्य नहीं है। साथ ही अभद्र भाषा और गाली-गलौच की भी मनाही है।

Content-Rating-7+-Google-Play
Avee Music Player Content Rating – 7+

असल में 7+ Rating उन Apps और Games को दी जाती है, जिनमें Content तो साफ-सुथरा होता है। मगर कुछ Scene और Sound Effects ऐसे होते हैं, जो Kids को असहज या विचलित कर सकते हैं। जैसे बिजली कड़कने की आवाज, बम धमाके की आवाज, किसी के जोर से चीखने की आवाज या सर्जिकल ऑपरेशन के दृश्य आदि। इसीलिए इस रेटिंग वाले Apps और Games को शिशुओं के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता।

अवश्य पढ़ें: फोन और ऐप्स को Update करना क्यों जरूरी है? अगर अपडेट नहीं करेंगे तो क्या होगा?

12+ Rating

अगर किसी App या Game की Content Rating 12+ है तो इसका अर्थ है कि वह छोटे बच्चों के लिए नहीं है। क्योंंकि उसमें काल्पनिक हिंसा के साथ-साथ मानव जैसे दिखने चरित्रों और जानवरों के साथ हिंसा के दृश्य हो सकते हैं। साथ ही नग्नता और सौम्य भाषा में गाली-गलौच की भी अनुमति है। इतना ही नहीं, इस रेटिंग वाले ऐप्स और गेम्स में अनुरूपित जुए के दृश्य भी हो सकते हैं। लेकिन यौन भाषा (Sexual Language) की अनुमति नहीं है।

Tiktok-App-Content-Rating-12+
Tiktok App Content Rating – 12+

12+ Rating उन Apps और Games को दी जाती है, जो 12 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं होते। क्योंकि इनमें नग्नता, हिंसा और जुए के दृश्य हो सकते हैं। जो कि छोटे बच्चों को विचलित कर सकते हैं। इसलिए ऐसे किसी भी App को Game को बच्चों के लिए डाउनलोड न करें।

अवश्य पढ़ें: Truecaller का उपयोग करना कितना घातक हो सकता है? और कैसे?

16+ Rating

अगर किसी App या Game की Content Rating 16+ है तो इसका अर्थ है कि वह 16 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नहीं है। क्योंकि उसमें वास्तविक हिंसा, मार-काट, अपराध और यौन हिंसा के दृश्य हो सकते हैं। साथ ही जुआ, शराब और तम्बाकू के सेवन को बढ़ावा देने वाले दृश्य भी हो सकते हैं। इतना ही नहीं, इस रेटिंग वाले Apps और Games में अश्लील भाषा और गाली-गलौच की भी अनुमति है।

PUBG-Mobile-Game-Rating-16+
PUBG Mobile Content Rating – 16+

16+ Rating उन Apps और Games को दी जाती है, जिनमें वयस्क सामग्री होती है। इस रेटिंग वाले Apps और Games में आपराधिक गतिविधियों के साथ-साथ यौन हिंसा और नशे के सेवन को बढा़वा देने वाले दृश्य हो सकते हैं। जो कि किशोर उम्र के नासमझ बच्चों को भ्रमित कर सकते हैं। इसलिए 16 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए इस तरह की कोई भी App या Game Download न करें।

अवश्य पढ़ें: Credit और Debit Card की डिटेल्स कैसे चुराई जाती है व इससे कैसे बचें?

18+ Rating

अगर किसी App या Game की Content Rating 18+ है तो इसका अर्थ है कि वह केवल वयस्कों (Adults) के लिए है। और उसमें वास्तविक हिंसा, यौन हिंसा और आपराधिक गतिविधियों का वास्तविक चित्रण हो सकता है। साथ ही कमजोर व असहाय चरित्रों के प्रति यौन हिंसा और पक्षपातपूर्ण व्यवहार के दृश्य भी हो सकते हैंं। इतना ही नहीं, इस रेटिंग वाले Apps और Games में शराब, जुए और अवैध ड्रग्स के उपयोग को बढ़ावा देने वाले दृश्य भी हो सकते हैंं। साथ ही खराब भाषा और गाली-गलौच की भी अनुमति है।

Google-Content-Rating-18
18+ Content Rating On Play Store

दरअसल 18+ Rating उन Apps और Games को दी जाती है, जिनमें हाई-मैच्योरिटी वाला कंटेंंट होता है। इस रेटिंग वाले Apps और Games में वास्तविक यौन गतिविधि, हिंसा, मादक पदार्थों का सेवन और अश्लील भाषा शामिल है। इसीलिए ये 18 साल से कम उम्र के लोगों के लिए नहीं होते।

बिना रेटिंग वाले ऐप्स और गेम्स

दरअसल Google Play Store पर सभी ऐप्स और गेम्स की Rating नहीं होती। यानि कि बहुत-से ऐप्स और गेम्स बिना Rating वाले भी होते हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि उनमें किस तरह का Content होता होगा? तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि जब तक किसी App या Game को Content Rating रेटिंग नहीं मिल जाती। तब तक उसे किसी 18+ Rating वाली ऐप के बराबर ही माना जाता है। यानि कि उसमें वही कंटेंट हो सकता है, जो एक 18+ रेटिंग वाली ऐप में होता है। इसलिए बिना रेटिंग वाले ऐप्स और गेम्स को हमेशा हाई-मैच्योरिटी वाले ऐप्स और गेम्स के रूप में ही देखें।

अवश्य पढ़ें: Champcash क्या है? इससे Unlimited Earning कैसे कर सकते हैं? 10 तरीके

Parents लिए विशेष सलाह

अगर आप अपने बच्चों को Phone इस्तेमाल करने के लिए देते हैं तो कृपया ध्यान दें। Google Play Store पर बहुत-से Apps और Games ऐसे हैं, जो बच्चों के लिए सही नहीं है। इसलिए इस तरह के ऐप्स और गेम्स से अपने बच्चों को हमेशा दूर रखें। आप जब भी बच्चों के लिए कोई App या Game डाउनलोड करें तो उसकी Content Rating जरूर चैक करें। साथ ही Parental Control फीचर का इस्तेमाल करें। और जो Rating आपके बच्चे के लिए ठीक नहीं है, उसे प्रतिबंधित कर दें। ताकि उस Rating वाली कोई भी ऐप दिखाई नहीं देगी।

उम्मीद करता हुँ इस आर्टिकल की मदद से आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा कि Google Content Rating Kya Hai और इसका क्या मतलब होता है। फिर भी अगर आपके मन में इस टॉपिक को लेकर कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे लाईक और शेयर कीजिए। और ऐसे ही और ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम को सब्सक्राइब कर लीजिए। ताकि नया आर्टिकल प्रकाशित होते ही आपको नोटिफिकेशन मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

मैं मेघराज मुंशी, एक वेब डिजायनर, ग्राफिक आर्टिस्ट और ब्लॉगर हूँ। वैसे पेशे से मैं एक शिक्षक हूँ और शिक्षा विभाग राजस्थान में कार्यरत हूँ। पढ़ने-पढ़ाने और लिखने के अलावा मुझे फिल्में देखना बहुत पसंद है। साहित्य, संगीत, सिनेमा, अंतरिक्ष, विज्ञान और तकनीकी मेरे पसंदीदा विषय हैं।

Comment