You are here : HomeExplanationArtificial Intelligence

Artificial Intelligence (AI) क्या है? इसके क्या-क्या उपयोग है?

artificial-intelligence-kya-hai

पिछले कुछ सालों में AI (Artificial Intelligence) के क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ है। साथ ही कई ऐसी लाजवाब मशीनें बनी हैं, जो बिल्कुल इंसानों की तरह सोचने-समझने और निर्णय लेने में सक्षम हैं। लेकिन सवाल यह है कि यह Artificial Intelligence है क्या? और यह कैसे काम करती है? साथ ही इसका हमारे दैनिक जीवन में क्या उपयोग है? और इसका भविष्य क्या है? क्या भविष्य में AI Technology हमारे लिए खतरा बन सकती है? आइए, विस्तार से जानते हैं।

AI (Artificial Intelligence)

हम सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक कई मशीनों का उपयोग करते हैं। जैसे कि स्मार्टफोन, कम्प्यूटर, प्रिंटर, लैपटॉप, टीवी, पंखा, कूलर, फ्रीज, AC, गीजर और न जाने क्या-क्या। लेकिन ज्यादातर मशीनों को इंसानी मदद की जरूरत पड़ती है। यानि कि उन्हें Operate करना पड़ता है। इसीलिए हमें जरूरत है ऐसी मशीनों की, जो बिना इंसानी मदद के काम कर सकें। 

अवश्य पढ़ें: Internet क्या है? यह कैसे काम करता है? इंटरनेट का मालिक कौन हैं?

हालांकि इस दिशा में हमने कई Automatic Machines बनाई हैं। लेकिन ज्यादातर मशीनें सिर्फ On/Off तक सीमित हैं। यानि कि वे उस लेवल का काम नहीं कर सकती, जो उन्हें करना चाहिए। इसके लिए उन्हें अभी भी इंसानी मदद की जरूरत पड़ती है। ऐसे में मशीनों को पूरी तरह Automatic बनाने के लिए Artificial Intelligence की जरूरत है।

Artificial Intelligence क्या है?

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (Artificial intelligence) कम्प्यूटर विज्ञान की एक ऐसी शाखा है। जिसके अंदर मशीनों में सोचने-समझने और निर्णय लेने की क्षमता विकसित जाती है। अर्थात मशीनों को Intelligent (बुद्धिमान) बनाया जाता है। ताकि वे इंसानों की तरह सोच-समझकर निर्णय ले सकें। और बिना इंसानी मदद के काम कर सकें।

अगर आसान भाषा में कहें तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीनों का ‘दिमाग’ है। जिसकी मदद से वे सोच-समझकर निर्णय ले सकती हैं। और बिना किसी मदद के स्वतंत्र रूप से कार्य कर सकती हैं। यानि कि जिस तरह इंसान अपने दिमाग की मदद से किसी भी समस्या का हल ढूँढ लेते हैं। वैसे ही AI की मदद से मशीनें भी अपनी समस्याओं को खुद हल कर सकती हैं।

अवश्य पढ़ें: Cardless Cash Withdrawl, बिना कार्ड के निकालें ATM से कैश

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को हिन्दी में ‘कृत्रिम बुद्धिमत्ता‘ कहा जाता है। जिसका अर्थ है मानव निर्मित समझ, या मानव निर्मित बुद्धिमत्ता। इसे मशीनी बुद्धि या मशीनी दिमाग भी कहा जाता है। इसकी मदद से मशीनों को समझदार और बुद्धिमान बनाया जाता है। ताकि वे स्वचालित रूप से काम कर सकें। और इंसानों पर उनकी निर्भरता कम हो सके।

Artificial Intelligence की खोज

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में सबसे पहले दुनिया को जॉन मैकॉर्थी (John McCarthy) ने बताया था। इसीलिए उन्हें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जनक (Father of Artificial Intelligence) कहा जाता है। जॉन मैकॉर्थी एक अमेरिकी Computer Scientist और शोधकर्ता थे। 1956 में उन्होंने Dartmouth College की एक कार्यशाला में भाग लिया। और Artificial Intelligence के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

John McCarthy के अनुसार, Artificial Intelligence एक उच्च कोटि का कम्प्यूटर विज्ञान है। जिसकी मदद से मशीनों में बुद्धिमत्ता का विकास किया जा सकता है। अर्थात् ऐसे Robots और Computer Programs बनाए जा सकते हैं। जो मानव मस्तिष्क के सिद्धांत पर कार्य करें। और उन्हीं तर्कों का इस्तेमाल करें, जो मानव मस्तिष्क करता है।

Artificial Intelligence के प्रकार

वैसे तो आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के कई प्रकार हैं। लेकिन मुख्य रूप से इसे 4 प्रकारों में बांटा गया हैं :- Types of AI (Artificial Intelligence)

  1. पूर्णत: प्रतिक्रियात्मक (Purely Reactive)
  2. सीमित स्मृति (Limited Memory)
  3. मस्तिष्क सिद्धांत (Brain Theory)
  4. आत्म चेतन (Self Conscious)

1. Purely Reactive AI

यह पूरी तरह प्रतिक्रियात्मक होती है। यानि कि क्रिया के जवाब में प्रतिक्रिया करती है। जैसे कि Deep Blue Chess Program को ही ले लीजिए। यह IBM द्वारा विकसित एक Chess Program था, जिसने 1990 के दशक में Garry Casparov को हरा दिया था। जबकि इसके पास कोई Memory नहीं थी। यानि कि यह अपनी पिछली चाल को याद रख पाने में सक्षम नहीं था। लेकिन फिर भी इसने शतरंज के इतने बड़े Grandmaster को हरा दिया।

अवश्य पढ़ें: Adaptive Battery फीचर क्या है और यह कैसे काम करता है?

असल में Deep Blue सिर्फ क्रिया के जवाब में प्रतिक्रिया करता था। यानि कि अपने प्रतिद्वंद्वी की चाल को समझकर उसका जवाब देता था। लेकिन Deep Blue की चाल इतनी Perfect होती थी कि बड़े से बड़ा ग्रैंडमास्टर भी उसे देखकर दंग रह जाए। और सच पूछो तो यही AI की असली ताकत है। 

2. Limited Memory AI

इस कैटेगरी में ऐसी मशीनों को रखा जाता हैं, जिनके पास थोड़ी-बहुत मैमोरी होती है। जैसे कि Self Driving Cars को ही ले लीजिए। ये अपने पुराने अनुभवों (Past Experiences) को याद रख सकती हैं। और भविष्य में उनका इस्तेमाल कर सकती हैं। जैसे कि आपातकालीन स्थिति में Break लगाना। या फिर भीड़-भाड़ वाले इलाकों में सम्भलकर चलना आदि।

हालांकि इस तरह की Machines लम्बे समय तक Data को Store करके नहीं रखती। क्योंकि Memory कम होती है। इसीलिए सिर्फ Recent Experiences को ही याद रखती हैं। लेकिन जरूरत पड़ने पर ये अपने पुराने Data को Delete कर सकती हैं। और नये Data को Store कर सकती हैं।

3. Brain Theory AI

यह फिलहाल एक Hypothetical Concept है। जो मानव मस्तिष्क के सिद्धांत पर आधारित है। इसमें सूचनाओं को समझने और Process करने के लिए उन तर्कों का इस्तेमाल किया जाता है, जो मानव मस्तिष्क इस्तेमाल करता है। यानि कि यह इंसानी दिमाग की तरह सोचने-समझने और सूचनाओं को प्रोसेस करने में सक्षम है। 

अवश्य पढ़ें: Dark Web क्या है? इसे Internet की काली दुनिया क्यों कहा जाता है?

लेकिन अभी तक ऐसी कोई मशीन नहीं बनी है, जो इस सिद्धांत पर काम करती हो। असल में Brain Theory AI सिर्फ एक Concept है। अभी इस पर काम होना बाकी है। हालांकि इसमें कुछ हद तक सफलता जरूर मिली है। लेकिन पूरी तरह मानव मस्तिष्क की Copy बना पाना इतना आसान नहीं है। यह बहुत ही जटिल काम है।

4. Self Conscious AI

इसे Self Awareness AI भी कहा जाता है। इसके अंतर्गत ऐसी मशीनें आती हैं, जो न सिर्फ इंसानों की तरह सोच सकती हैं। बल्कि सुख-दु:ख, खुशी-गम, ईर्ष्या-जलन आदि को भी बखूबी महसूस कर सकती है। यानि कि इंसानों की तरह दूसरों की मन:स्थिति को समझ सकती हैं। और यह पता कर सकती हैं कि सामने वाला इंसान क्या सोच रहा है?  

हालांकि अभी तक ऐसी कोई मशीन नहीं बनी है, जिसके पास खुद की Consciousness हो। लेकिन इस दिशा में वर्षों से काम हो रहा है। और ऐसी मशीनें बनाने की कोशिश चल रही है, जो Self Conscious हो। लेकिन अभी इसमें कोई सफलता नहीं मिली है। अगर ऐसी मशीन बन गई, तो हम जीवन का रहस्य सुलझाने में कामयाब हो सकते हैं।

Artificial Intelligence के अनुप्रयोग

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से जटिलताओं को दूर करना और नई संभावनाओं को तलाशना काफी आसान हो गया है। आज Education से लेकर Manufacturing और Share Market से लेकर Space तक हर जगह AI का प्रयोग हो रहा है। साथ ही हमारे दैनिक जीवन मेंं भी इसका भरपूर इस्तेमाल हो रहा है। आइए, एक नजर डालते हैं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रमुख अनुप्रयोगों पर।

अवश्य पढ़ें: Trojan Horse क्या है? यह कैसे काम करता है? इससे कैसे बचें?

  • कम्प्यूटर गेम्स (Computer Games)
  • मशीन दृष्टि (Machine Vision)
  • वाक पहचान (Speech Recognition)
  • प्राकृतिक भाषा प्रसंस्करण (Natural Language Processing)
  • एक्सपर्ट सिस्टम्स (Expert Systems)
  • सर्विलांस (Surveillance)
  • मशीन लर्निंग (Machine Learning)
  • महासंगणक (Supercomputers)
  • बुद्धिमान रोबोट्स (Intelligent Robots)

ये कुछ प्रमुख अनुप्रयोग (Applications) हैं जिनमें Artificial Intelligence का प्रयोग होता है। लेकिन सवाल यह है कि क्या हमारे दैनिक जीवन में भी AI का कोई उपयोग है? अगर हाँ, तो कैसे? आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग कहाँ-कहाँ होता है? आइए, विस्तार से जानते हैं।

Artificial Intelligence का उपयोग

अगर आपको लगता है कि Artificial Intelligence का प्रयोग सिर्फ Robotics में ही होता है। तो आप गलत हैं। क्योंकि आज के दिन ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है, जहाँ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल न होता हो। आइए, कुछ उदाहरण देखते हैं।

1. Education System

शिक्षा के क्षेत्र में AI का भरपूर इस्तेमाल होता है। Online Exams से लेकर Auomated Grading System तक में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल होता है। लेकिन यह काफी नहीं है। क्योंकि एक ही कक्षा के सारे बच्चे एक जैसे नहीं होते है। कुछ बहुत ही Intelligent होते हैं तो कुछ एवरेज।

अवश्य पढ़ें: Wireless Charging टेक्नोलॉजी क्या है? और यह कैसे काम करती है?

ऐसे में हर Student को उसके स्तर के हिसाब से Education मिलनी चाहिए। लेकिन हमारे मौजूदा Education System में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। इसीलिए आजकल Online Education पर जोर दिया जाता है। क्योंकि इसमें AI की मदद से Smart व Personalized Content उपलब्ध करवाया जाता है। साथ ही Students को Doubts Clear करने और Self-Evaluation के लिए कई सारे विकल्प मिल जाते हैं। इसके अलावा Tutors को भी इससे काफी फायदा है।

2. Healthcare Sector

आजकल ऐसी-ऐसी मशीनें आ गई हैं, जो मानव शरीर के अंदर झांककर रोगों का पता लगा सकती हैं। और उनका ईलाज ढूँढ सकती हैं। साथ ही Complicated Surgeries को अंजाम दे सकती हैं। और मरते हुए इंसान की जान बचा सकती हैं। अगर आसान भाषा में कहें तो Healthcare Sector के लिए AI किसी वरदान से कम नहीं है।

AI की वजह से Healthcare Sector में नई क्रांति आ गई है। आज Robots की मदद से Surgery की जाती है। शरीर के अंदर छोटे-छोटे Robots भेजकर असाध्य रोगों का ईलाज किया जाता है। जीवन-रक्षक दवाओं और टीकों का परीक्षण किया जाता है। कुल मिलाकर Artificial Intelligence चिकित्सा जगत के लिए वरदान साबित हो रही है।

3. Finance Sector

फाईनेंशियल सेक्टर में दुनियाभर की Reports और Analysis होती है। जिसमें काफी सारा वक्त जाया होता है। इसीलिए Data Analysis और Personalized Reports तैयार करने में AI का प्रयोग किया जाता है। खासकर Automation और Predictive Analysis में AI की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है।

अवश्य पढ़ें: eSIM क्या है? यह कैसे काम करती है? और इसके क्या-क्या फायदे हैं?

बड़े-बड़े Financial Institutions और Banks अपने कामकाज को आसान बनाने के लिए AI का प्रयोग करते हैं। साथ ही Forms Fill करने, नया Account खोलने, सवालों का जवाब देने और ग्राहकों से Feedback लेने के लिए Chatbots का प्रयोग करते हैं। जो कि AI की मदद से काम करते हैं। इसके अलावा Financial Softwares और Tools में भी एआई का खूब इस्तेमाल होता है।

4. Manufacturing

निर्माण उद्योग में सबसे ज्यादा श्रम और समय की जरूरत पड़ती है। इसीलिए इस क्षेत्र AI का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल होता है। इससे न सिर्फ समय, श्रम और ऊर्जा की बचत होती है। बल्कि पैसों की भी भारी बचत होती है। इसीलिए आजकल Manufacturing Industry में ज्यादातर काम मशीनों से होता है। और एक-एक मशीन हजारों लोगों का काम कर देती है।

हालांकि मशीनों का प्रयोग पहले भी होता था। लेकिन ज्यादातर मशीनों को Manually Operate करना पड़ता था। इसीलिए मानव-श्रम की जरूरत पड़ती थी। लेकिन आजकल करीब-करीब मशीनें Automatic हो गई हैं, जो अपने आप काम करती हैं। और कम समय में अधिक उत्पादन देती हैं।

5.Surveillance

निगरानी तंत्र (Surveillance Systems) में भी AI का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जाता है। Video कैमरों के जरिए दुश्मनों पर नजर रखी जाती है। और Computer Programs के जरिए इंसान, जानवर और वस्तुओं में फर्क पता किया जाता है। साथ ही Audio Samples और Pictures का विश्लेषण कर दुश्मन का पता लगाया जाता है।

अवश्य पढ़ें: Track Lost Phone, अपना खोया हुआ फोन ढूंढिए मात्र एक क्लिक में

दुश्मन की पहचान करने के लिए Machine Vision का प्रयोग किया जाता है। मशीन विजन एक Advanced Technology है, जिसकी मदद से किसी Object की लम्बाई, चौड़ाई, गति, आकार और Movement का पता लगाया जाता है। यह Algorithms और Mathematical Procedures का एक सेट होता है। जो देखे गए Object की ठीक-ठीक पहचान कर सकता है। हिन्दी में इसे ‘मशीन दृष्टि’ कहा जाता है। इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल Satellites और Surveillance Systems में होता है।

6. Space Exploration

Space Exploration का काम सबसे ज्यादा मुश्किल और चुनौतीपूर्ण काम है। इसीलिए इसमें AI का बहुत बड़ा योगदान होता है। आपको बताना चाहूँगा Space Missions का पूरा Control Auomatic होता है। और जो उपकरण खोज करने के लिए अंतरिक्ष में भेजे जाते हैं, वे अपना काम खुद ही करते हैं। ऐसे में बिना AI के Space Exploration का काम लगभग नामुमकिन है।

7. Daily Life

अब रोजमर्रा के कामों में भी AI का प्रयोग होने लगा है। घर के ज्यादातर उपकरण अब पहले से ज्यादा Smart और Automatic हो गए हैं। LED Bulb से लेकर TV और AC से लेकर Refrigerator तक सब AI की मदद से काम करने लगे है। Amazon Alexa और Google Voice Assistant हमारे दैनिक जीवन का अभिन्न हिस्सा बन चुके हैं।

अवश्य पढ़ें: Phone Hack करने के कौन-कौनसे तरीके हैं व इनसे कैसे बचें?

घर की सुरक्षा अब AI के हवाले है। जरा-सी हलचल हुई नहीं कि पूरे मौहल्ले को पता चल जाता है। क्योंकि Alarm घनघनाने लगता है। और अब तो Driver-less Car भी आ गई हैं जो आपको सही-सलामत आपके गंतव्य तक पहुंचा सकती है। यानि कि न Driver रखने का झंझट और न तनख्वाह देने की टेंशन। कुल मिलाकर AI हमारी जिंदगी का हिस्सा बन चुकी है।

Artificial Intelligence का भविष्य

अगर आज के हिसाब से देखें तो Artificial Intelligence का भविष्य बहुत ही उज्ज्वल नजर आता है। क्योंकि धीरे-धीरे हम मशीनों पर निर्भर होते जा रहे हैं। और आने वाले समय में हम अपने रोजमर्रा के ज्यादातर कामों के लिए पूरी तरह मशीनों पर आश्रित हो जाऐंगे। यानि कि बिना मशीनों के हमारा कोई काम नहीं होगा।

दूसरी तरफ, मशीनें इतनी Advanced और Smart हो जाऐंगी कि उन्हें Command देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यानि कि वे हर काम खुद कर लेंगी। बिल्कुल सोच-समझकर और जिम्मेदारी के साथ। ऐसे में हम और भी ज्यादा आलसी और आराम पसंद हो जाऐंगे। क्योंकि काम करने की आदत छूट जाएगी। और यही वह पल है, जिसका सबको डर है। 

Artificial Intelligence से खतरा

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को लेकर शुरू से ही यह आशंका रही है! कि आगे चलकर यह हमारे लिए बहुत बड़ा खतरा बन सकती है। क्योंकि इंटेलिजेंट मशीनों के कारण उन नौकरियों पर भी संकट आ जाएगा। जिनके लिए High Educated और Intelligent लोगों की जरूरत पड़ती है। हालांकि Computer ने पहले ही लाखों नौकरियाँ खत्म कर दी हैं। ऐसे में बेरोजगारी बढ़ सकती है।

अवश्य पढ़ें: Cryptocurrency क्या है? यह कैसे काम करती है? Explanation

दूसरी आशंका यह है कि जब मशीनें खुद निर्णय लेने लगेंगी। तो वे हमारी कोई बात नहीं सुनेंगी। बल्कि हर मामले में अपना दिमाग चलाऐंगी और वही करेंगी जो उन्हें ठीक लगेगा। अगर हम टोका-टोकी करेंगे तो वे काम करने से मना कर देंगी। और हमें उनके आगे झुकना पड़ेगा। क्योंकि उनके बिना हमारा कोई काम नहीं चलेगा। इसीलिए मशीनों में बौद्धिक क्षमता डालना हमारे लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है।

इसके अलावा अगर मशीनों ने मिलकर विद्रोह कर दिया, तो क्या होगा? इस विषय पर कई फिल्में भी बन चुकी है। Robot फिल्म इसी विषय पर आधारित थी। हालांकि फिल्में भले ही काल्पनिक होती हों, लेकिन AI की ताकत काल्पनिक नहीं है। ऐसी स्थिति कभी भी आ सकती है। मशीनें अपनी Union बनाकर इंसानों पर हमला कर सकती हैं। और पूरी मानव जाति को अपना गुलाम बना सकती हैं।

AI : Summary

आज आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हमारे लिए काफी उपयोगी साबित हो रही है। क्योंकि इसकी मदद से कम समय में बेहतर परिणाम मिल रहे हैंं। साथ ही समय, धन और मानव श्रम की भी काफी बचत हो रही है। लेकिन इसका एक दूसरा पहलू भी है, जो काफी चिंताजनक है। दरअसल मशीनों की वजह से नौकरियाँ खत्म हो रही हैं। और बेरोजगारी बढ़ रही है।

उम्मीद है इस आर्टिकल के जरिए आपको Artificial Intelligence Kya Hai? इसका हमारे दैनिक जीवन में क्या उपयोग है? AI का भविष्य कैसा है? और यह हमारे लिए किस तरह खतरा बन सकती है? इस विषय में उपयोगी जानकारी मिली होगी। अगर यह आर्टिकल  आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही और आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम को Subscribe कर लीजिए। ताकि जब भी हम कोई नया आर्टिकल पब्लिश करें, आपको उसकी सूचना मिल जाए!

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

“Artificial Intelligence (AI) क्या है? इसके क्या-क्या उपयोग है?” पर 1 विचार

Comment