You are here : HomeTop-10Brave Browser

Brave Browser लोगों को इतना पसंद क्यों आ रहा है? – 10 कारण

brave-browser

दुनिया का पहला ऐसा वेब ब्राउजर जो ना तो आपकी ऑनलाइन एक्टीविटीज को ट्रैक करता है और ना ही आपकी Browsing History को सेव करके रखता है। उलटा आपको ब्राउजिंग के पैसे अलग से देता है। जी हाँ, मैं बात कर रहा हूँ ब्राउजिंग की दुनिया के नये बादशाह Brave Browser की, जिसने गूगल क्रोम और एपल सफारी जैसे माने हुए Browsers को पीछे छोड़ते हुए World’s Top-5 Web Browsers की लिस्ट में अपनी जगह बनाई है। अब आप पूछेंगे कि ऐसा क्या है इस ब्राउजर में, जो बाकी ब्राऊजर्स में नहीं है? तो मैं आपको बताना चाहूँगा कि इस ब्राउजर में कुछ ऐसे खास फीचर्स हैं जो आपको सिर्फ इसी ब्राउजर में देखने को मिलेंगे।

Brave Browser

आजकल इंटरनेट के जरिए लोगों के साथ काफी Fraud हो रहा है। साथ ही Spam Links का इतना भयंकर जाल फैला हुआ है कि यूजर उसमें उलझकर रह जाता है मगर सही जानकारी तक नहीं पहुँच पाता। और रही-सही कसर ‘जिद्दी विज्ञापन’ पूरी कर देते हैं। ऐसे में यूजर्स का बहुत-सा कीमती समय और डाटा व्यर्थ चला जाता है। बस इन्हीं समस्याओं को ध्यान में रखते हुए Brave Browser का निर्माण किया गया है। यह एक ओपन सोर्स क्रोमियम बेस्ड वेब ब्राउजर है, जो खास तौर से यूजर्स की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

Top-10 Features Brave Browser

अगर Features के हिसाब से देखें तो ब्रेव ब्राउज़र सबसे अलग है। यह काफी Fast है। Page Loading Speed और Downloading Speed के मामले में यह Google Chrome से कहीं आगे है। और इसकी सबसे बड़ी खासियत है इसकी Security. यह Internet Browsing के दौरान User की Privacy और Security पर फोकस करता है। इसके अलावा Brave Inc अपने Users को पैसे कमाने का विकल्प भी देती है। साथ ही इसमें बहुत-से ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जो बाकी किसी भी Browser में नहीं हैंं। तो आइए, जानते हैं ब्रेव ब्राउजर के Top-10 Features के बारे में…

1 Secure Connection

ब्रेव ब्राउजर आपको हर जगह Secure Connection ऑफर करता है और Insecure Connection (असुरक्षित कनेक्शन) से बचने की सलाह देता है। इसके लिए ब्रेव ब्राउजर की सैटिंग्स में https everywhere का विकल्प दिया गया है। आपको बस इसे हमेशा On रखना है। इससे आप जब भी किसी वेबसाइट पर विजिट करेंगे तो यह आपके कनेक्शन की जाँच करेगा। और असुरक्षित कनेक्शन पाए जाने पर आपको Warning देगा कि आप उस वेबसाइट पर विजिट न करें। अगर विजिट करें भी तो अपनी कोई भी पर्सनल जानकारी (जैसे कि नाम, पता, मोबाइल नम्बर, बैंक डिटेल्स आदि) न दें।

2. Block Ads & Tracking

Ad Blocker के बारे में तो आप पहले से जानते होंगे जो आजकल कई सारे ब्राउजर्स में आता है। यह एक ऐसा फीचर है जो Ads (विज्ञापनों) को ब्लॉक कर देता है, जिससे वेबपेजेज को लोड होने में काफी कम समय लगता है। साथ ही यह मुख्य सामग्री तक पहुंच भी आसान कर देता है। लेकिन Brave Browser सिर्फ Ads को ही ब्लॉक नहीं करता बल्कि Trackers को भी ब्लॉक कर देता है। जिससे कोई भी वेबसाइट आपकी ऑनलाइन एक्टिविटीज को ट्रेक नहीं कर पाती। यानि कि Brave Browser आपकी प्राइवेसी का पूरा ध्यान रखता है।

brave-browser-security-features
Brave Browser-Security-Features

3. Block 3rd Party Cookies

जब भी आप किसी वेबसाइट पर विजिट करते हैं और वहाँ आप जो-जो एक्टीविटीज करते हैं वह सब आपके ब्राउजर में Cookies के रूप में सेव हो जाता है। आसान भाषा में कहें तो आपके फोन में कुछ फाईलें सेव हो जाती हैंं, जिनमें आपकी उस वेबसाइट पर की गई एक्टीविटीज की जानकारी होती है। इसका फायदा यह होता है कि जब आप फिर कभी उस वेबसाइट पर जाते हैं तो वह आपको तुरन्त पहचान लेती है। कैसे? कुकीज की वजह से। और इन्हीं कुकीज की वजह से आपको उस वेबसाइट पर आपकी पसंद की चीजों के विज्ञापन देखने को मिलेंगे। दरअसल Cookies एडवरटाइजिंग एजेंसियों और ईकॉमर्स वेबसाइट्स के लिए बड़े काम की चीज है। ये आपकी पसंद और नापसंद इन्हीं कुकीज की वजह से जान पाती हैं।

विज्ञापनों से मुक्ति

आपने अक्सर देखा होगा कि आपको हर वेबसाइट पर आपके पसंदीदा प्रोडक्ट्स के ही विज्ञापन देखने को मिलते हैं। अगर आप कपड़ों की शॉपिंग करते हैं तो आपको विज्ञापन भी कपड़ों के ही दिखाए जाऐंगे न कि रेफ्रीजरेटर या वॉशिंग मशीन के। यानि कि जो चीज आपको पसंद नहीं है उसका विज्ञापन आपको कभी नहीं दिखाया जाएगा। और यह सब कुकीज का कमाल है। लेकिन कुकीज में सिर्फ आपकी पसंद/नापसंद की जानकारी ही सेव नहीं रहती बल्कि और भी बहुत सी सेंसेटिव जानकारी सेव रहती है। और यह सारी जानकारी ईकॉमर्स कंपनियों को बेची भी जा सकती है, इसलिए यह काफी खतरनाक है।

अवश्य पढ़ें: Credit और Debit Card की डिटेल्स कैसे चुराई जाती है व इससे कैसे बचें?

लेकिन अगर आप Brave Browser इस्तेमाल कर रहे हैं और आपने Block 3rd Party Cookies के ऑप्शन को On कर रखा है तो आपको डरने की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि Brave Browser इन Cookies को Block कर देता है। इससे कोई भी Website आपको Track नहीं कर पाती।

4. Brave Browser Block Scripts

आजकल इंटरनेट का जितना सदुपयोग हो रहा है उससे कहीं ज्यादा दुरूपयोग हो रहा है। कुछ स्वार्थी लोग अपने फायदे के लिए दूसरों को नुकसान पहुंचाने से भी पीछे नहीं हटते। बहुत से Hackers आपके पर्सनल डाटा पर नजरें गड़ाये बैठे रहते हैं। इधर आपकी नजर चूकी और उधर आपका सारा Data गायब। इस काम के लिए Scripts (स्क्रिप्ट्स) का खूब इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन अगर आप Brave Browser इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको चिन्ता करने की कोई जरूरत नहीं है। क्योंकि ब्रेव ब्राउजर इस तरह की स्क्रीप्ट्स को ब्लॉक कर देता है।

5. Fingerprint Protection

ब्रेव ब्राउजर आपको Browser Fingerprinting सिस्टम से बचाता है। ब्राउजर फिगरप्रिंटिंग सिस्टम आपको गुप्त रूप से ट्रैक करता है, जो कि आपकी गोपनीयता (Privacy) और सुरक्षा (Security) के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। हालांकि Brave Browser के निर्माताओं का मानना है कि फिंगरप्रिंट Attacks हमेशा होंगे, लेकिन ब्रेव ब्राउजर इन Attacks को धीमा और मुश्किल कर देता है। जिससे कि यूजर्स के कीमती डाटा की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके। अर्थात् Brave Browser ‘ब्राउजर फिंगरप्रिंटिंग’ सिस्टम द्वारा आपके Biomatric Data का दुरूपयोग होने से बचाता है।

अवश्य पढ़ें: Password को Hack कैसे किया जाता है व Safety के लिए क्या उपाय करें?

6. Brave Ads (Earning)

अगर आप ब्राउजिंग करते वक्त पैसे कमाना चाहते हैं तो ब्रेव ब्राउजर आपके लिए Perfect है। क्योंकि ब्रेव ब्राउजर में आपको विज्ञापन देखकर पैसा कमाने का ऑप्शन मिलता है। इसके लिए आपको Settings में जाकर Brave Ads के ऑप्शन को On करना है और हर घंटे दिखाये जाने वाले Ads की संख्या Select करनी है। आपको बताना चाहूँगा कि यह Option अभी-अभी शुरू किया गया है। और फिलहाल आप एक घंटे में अधिकतम पाँच Ads ही देख सकते हैंं। इस तरह आप Internet Surfing के साथ-साथ Ads देखकर पैसे भी कमा सकते हैं।

brave-ads
Brave Ads (Screenshot)

7. BAT (Basic Attention Token)

यह World’s First Browser है जिसमें आपको Browsing के बदले पैसे मिलते हैं। अब तक आपने Google Chrome, Safari, Internet Explorer, UC Browser और Opera Mini जैसे ब्राऊजर्स इस्तेमाल किए होंगे। और आपको पता होगा कि इन ब्राऊजर्स में BAT जैसा कोई ऑप्शन नहीं है। लेकिन ब्रेव ब्राउजर इस मामले में अलग है। ब्रेव ब्राउजर में आपको Internet Surfing करने के बदले BAT (बेसिक अटेंशन टोकन) मिलते हैं। इन टोकन्स को आप अपनी करेंंसी में कन्वर्ट करके अपने Bank Account में ट्रांसफर कर सकते हैं।

support-creators-by-gifting-bats
Gift BATs & Support Creators

इसके अलावा आप अपने Tokens को अपने पसंदीदा Creator को भी Gift कर सकते है। क्योंकि Ad Blocker की वजह से Creators को काफी नुकसान होता है और वे अपनी वेबसाइट से उतना नहीं कमा पाते, जितना वे Normally कमाते हैं। ऐसे में Creators को नुकसान उठाना पड़ता है और उनका मनोबल गिरता है। आप ऐसे क्रिएटर्स को Support कर सकते हैं। जो भी वेबसाइट या ब्लॉग आपको पसंद है और उसे आप Ad Blocker को सक्षम करके विजिट करते हैं। उसको आप BATs गिफ्ट करके Support सकते हैं। Always Support Good Creators.

8. Brave Rewards For Creators

जैसा कि मैंने बताया Ad Blocker की वजह से Creators को काफी नुकसान होता है और ब्रेव ब्राउजर के Developers इस बात को अच्छी तरह समझते हैं। इसलिए उन्होंने Creators के लिए Brave Rewards का ऑप्शन दिया है। अगर आप एक Creator हैं और आपका कोई ब्लॉग या वेबसाइट है तो आपके Visitors इस ऑप्शन के जरिए आपको BAT (Basic Attention Token) गिफ्ट कर सकते हैं।

brave-rewards-for-creators
Brave Rewards For Creators

गिफ्ट किए गए Tokens प्राप्त करने के लिए आपको Brave का Verified Publisher बनना जरूरी है। साथ ही Tokens को रखने और मैनेज करने के लिए Uphold Digital Wallet पर अकाउंट बनाकर उसे Brave Publishers अकाउंट से कनेक्ट करना जरूरी है। तभी आप विजिटर्स द्वारा गिफ्ट किए गए टोकन्स को प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही अपनी Referral Link से प्राप्त Tokens को भी इसी Account के जरिये प्राप्त कर सकते हैं।

9. New Advertising System

आप इंंटरनेट पर जो भी विज्ञापन देखते हैं, उसके बदले आपको कुछ नहीं मिलता। सारा Revenue एडवरटाइजिंग कंपनियों के खाते में चला जाता है। जबकि होना यह चाहिए कि रेवेन्यू का एक हिस्सा Ads (विज्ञापन) देखने वाले यूजर्स को मिलना चाहिए। क्योंकि सारा रेवेन्यू उन्हीं की वजह से Generate होता है। लेकिन मौजूदा Advertising System में यूजर्स के लिए Revenue Sharing जैसा कोई प्रावधान नहीं है। यानि कि विज्ञापन देखकर Revenue आप जनरेट करते हैं और मौज उड़ाती हैं एडवरटाइजिंग कंपनियाँ। सालों से यही सिस्टम चला आ रहा है, जो अब बेकार हो चुका है।

70 % Revenue For Brave Users

अब जरूरत है एक नये Advertising System की जिसमें विज्ञापन देखने वाले यूजर्स को भी रेवेन्यू का एक निश्चित हिस्सा मिले। और Brave Browser ने इस बात को समझा है। दरअसल Brave Browser एक ऐसा Advertising System लेकर आया है जो पूरी तरह Users के हित में है। इसमें Advertising से होने वाली कुल कमाई का 70% हिस्सा Users को मिलेगा जबकि 30% हिस्सा Brave Browser के Developers के खाते में जाएगा। यानि कि Users का हिस्सा कंपनी से ज्यादा है।

अवश्य पढ़ें: Online Shopping Fraud कैसे किया जाता है इससे कैसे बचें? साइबर सिक्योरिटी

Brave Browser के Developers का मानना है कि विज्ञापन से होने वाली कमाई का एक बड़ा हिस्सा विज्ञापन देखने वाले Users को मिलना चाहिए। क्योंकि कंपनी को कमाकर देने वाले Users ही हैं। ऐसे में Users को उनका हक मिलना जरूरी है। लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी एडवर्टाइजिंग कंपनी Google अपने लाभ का 100% हिस्सा खुद रखती है। अपने Users को कुछ नहीं देती। ऐसे में Google को Brave से सीख लेनी चाहिए।

10. Available For All Platforms

ब्रेव ब्राउजर को सबसे पहले 2018 में आइओएस (iOS) के लिए लॉन्च किया गया था और यह काफी सफल रहा। प्राइवेसी और सिक्योरिटी के साथ-साथ अपने अनोखे फीचर्स के कारण यह बेहद कम समय में पॉपुलर हो गया। और इसकी इसी सफलता को देखते हुए Developers ने इसे हर Popular Operating System के लिए उपलब्ध करवा दिया। आज के दिन ब्रेव ब्राउजर iOS, Android, Mac, Windows और Linux ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए उपलब्ध है। अकेले गूगल प्ले स्टोर पर इसे 10 मिलियन से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। अगर बाकी सबको भी मिला लिया जाए तो आज के दिन ब्रेव ब्राउजर के 250 करोड़ एक्टिव यूजर्स हैं। इतने कम समय में इतना बड़ा यूजर डेटाबेस कि बना लेना आसान बात नहीं है।

Download Brave Browser

बहुत से लोग App Download करने के लिए App के नाम के साथ Apk लिखकर उसे Google पर Search करते हैं। जैसे कि अगर किसी को ब्रेव ब्राउज़र Download करना होगा तो वह Brave Apk या Brave Browser Apk लिखकर Google पर Search करेगा। जबकि यह बहुत ही गलत तरीका है। App और Software हमेशा Authorised Platform से ही डाउनलोड करना चाहिए।

Third Party Websites से डाउनलोड किए गए Apps और Softwares में Virus और Malicious Code छिपे हो सकते हैं। इसीलिए ब्रेव ब्राउज़र डाउनलोड करने के लिए Android यूजर्स Google Play Store और Desktop यूजर्स Brave Software की ऑफिशियल वेबसाइट का प्रयोग करें।

Brave Browser : सारांश

आजकल इंटरनेट पर प्राइवेसी की समस्या एक बड़ी समस्या बन गई है। आए दिन डाटा चोरी की खबरें सुनने को मिलती हैंं। ऐसे में Brave Browser तो लोगों को पसंद आना ही था क्योंकि यह एक प्राइवेसी सेंट्रिक ब्राउजर है। और दूसरी सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह यूजर्स का भरोसा जीतने में पूरी तरह कामयाब रहा है। यानि कि यूजर्स को Brave Browser पर पूरा भरोसा है कि यह पूर्णतः सुरक्षित, गोपनीय और फास्ट वेब ब्राउजर है। इसलिए Brave Browser लोगों को इतना ज्यादा पसंद आ रहा है।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए):-

Comment