You are here : HomeExplanationANT/ANT+

ANT/ANT+ क्या है? यह कैसे काम करता है? इसे कैसे इस्तेमाल करें?

ANT/ANT+-Kya-Hai-Samsung

अगर आप Samsung या Google Pixel फोन इस्तेमाल करते हैं! तो आपने अपने फोन में ANT और ANT+ नाम की Apps जरूर देखी होंगी? लेकिन क्या आपको पता है कि ये Apps क्या हैं? और क्यों दी गई हैं? अगर नहीं तो यह आर्टिकल खास आपके लिए है। क्योंकि इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में बातचित करने वाले हैं। इसीलिए अगर आप जानना चाहते हैं कि ANT/ANT+ क्या है? और इनका हमारे Phone में क्या उपयोग है? तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़िएगा।

ANT/ANT+

एएनटी और एएनटी प्लस, Samsung और Google Pixel के फोन्स में आसानी से देखने को मिल जाती हैं। लेकिन बाकी कंपनियों के फोन्स में ये मुश्किल से ही देखने को मिलती हैं। जब आप अपने फोन की Settings में Apps सेक्शन में जाते हैं। तो वहाँ आपको ये दोनों Apps मिल जाती हैं। लेकिन फोन की Main Menu में ये आपको कहीं दिखाई नहीं देती।

अवश्य पढ़ें: Adaptive Battery फीचर क्या है और यह कैसे काम करता है?

यानि कि बाकी ऐप्स (जैसे कि Facebook, WhatsApp, Instagram आदि) की तरह आप इन्हें इस्तेमाल नहीं कर सकते। इसीलिए जब कोई यूजर पहली बार इन ऐप्स को देखता है! तो उसके मन में यह सवाल जरूर उठता है कि आखिर ये Apps क्यों और किसलिए दी गई हैं? इनका उपयोग क्या है? और इनका इस्तेमाल कहाँ और किस काम में होता है? वगैरह-वगैरह। अगर आप भी इन सवालों को लेकर परेशान हैं, तो इस आर्टिकल को पूरा पढिए। आपको सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा

ANT/ANT+ क्या है?

ANT एक कम दूरी की Wireless Sensor Network Technology है। जो Fixed और Mobile Devices के बीच Data का आदान-प्रदान करने और Personal Area Network स्थापित करने में काम आती है। इसकी रेंज 30 मीटर होती है। और यह बहुत ही कम पॉवर पर काम करती है। यानि कि एक छोटे से बैटरी सेल की मदद से सालों काम करती है। इसीलिए छोटे उपकरणों में इसका विशेष रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

हालांकि ANT को 2003 में कनाडाई कंपनी Dynastream Innovations द्वारा विकसित किया गया था। और 2004 में इसका Low-Power Standard ANT+ भी डायनास्ट्रीम इनोवेशंस द्वारा ही पेश किया गया था। लेकिन 2006 में Garmin Canada ने इसका अधिग्रहण कर लिया। तब से यह Garmin Canada की एक Subsidiary Company के रूप में काम कर रही है।

अवश्य पढ़ें: Kernel क्या है? इसका हमारे Phone में क्या उपयोग है? Explanation

आपको बताना चाहूँगा कि ANT एक Wireless Networking Protocol है। जो 2.4GHz ISM Band पर संचालित होता है। यह एक Ultra Low-Power और Short Range Protocol है। जो Real Time में Data को Transmit और Monitor करता है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल Sports और Fitness Sensors में किया जाता है।

ANT/ANT+ कैसे काम करता है?

अब सवाल यह है कि ANT/ANT+ काम कैसे करता है? How does ANT/ANT+ work? तो इसके लिए आपको पहले ANT Wireless Communication को समझना होगा। यानि कि इसमें किस तरह डाटा का आदान-प्रदान किया जाता है? और किस तरह Data को Transmit और Receive किया जाता है, इसके बारे में अच्छे-से समझना होगा। तभी आपको इसका काम करने का तरीका समझ में आएगा। तो आइए, ANT और ANT+ दोनों के बारे में समझते हैं।

ANT

एक ANT Channel में एक से अधिक Transmiting Nodes और Receiving Nodes हो सकते हैं। यह पूरी तरह Network Topology पर निर्भर करता है। इसके अलावा कोई भी नोड Data Packets को Transmit और Receive कर सकता है। और अगर बात करें Massaging की, तो इसमें मैसेजिंग के ये तीन तरीके हैंं :- 

अवश्य पढ़ें: Developer Options क्या है? इसे कैसे Use करें? टॉप फीचर्स

1. Broadcast

यह एक नोड से दूसरे नोड के लिए एक One-Way Communication है। जो डाटा पैकेट प्राप्त करने की पुष्टि नहीं करता। लेकिन फिर भी Receiving Node, Transmitting Nodes को संदेश भेज सकता है। इस तकनीकी का सबसे ज्यादा इस्तेमाल Sensor Applications में होता है। क्योंकि यह सेंसर एप्लीकेशन्स के लिए काफी Suitable है। साथ ही Operation के मामले में काफी किफायती भी है।

2. Acknowledged

यह Data Packets को रिसीव करने की पुष्टि करता है। और Transmitter को बताता है कि Data Packets सफलतापूर्वक रिसीव हुए या नहीं? हालांकि Fail होने पर डाटा पैकेट्स को Retransmit नहीं करता। लेकिन Success और Failed का Status बता देता है। इसीलिए यह तकनीकी Applications को Control करने के लिए काफी Suitable है। 

3. Burst

यह एक Multi-Message Transmission तकनीकी है। जो Full Data Bandwidth का उपयोग करती है। इसमें Corrupted Data Packets को Retransmit किया जाता है। यानि कि खराब डाटा पैकेट्स को फिर से भेजा जाता है। और यह Process तब तक चलती रहती है जब तक कि काम पूरा नहीं हो जाता। 

अवश्य पढ़ें: OTP (One Time Password) क्या है? यह कैसे काम करता है?

आमतौर पर इस तकनीकी का इस्तेमाल वहाँ किया जाता है, जहाँ Data की Integrity सबसे महत्वपूर्ण हो। क्योंकि इसमें Data का Loss नहीं होता। जो Data Packets खंडित हो जाते हैं, उन्हें फिर से भेजा जाता है। इसीलिए पूरा डाटा रिसीव होता है। यह तकनीकी Data Block Transfer के लिए सबसे अनुकूल है।

ANT+

यह पहला Ultra-Low Power Wireless Standard है। जो 2004 में पेश किया गया था। यह एक Interoperability Function है, जो ANT+ Devices को Networking की सुविधा देता है। ताकि वे Sensor Data को Collect और Interpret कर सकें। आमतौर पर इसका इस्तेमाल Sports और Fitness Monitoring Devices में किया जाता है। जैसे कि Heart Rate Sensor, Pedometer, Speed Monitor आदि।

अगर आप सोच रहे हैं कि ANT+ Samsung के फोन्स में ही देखने को मिलता है, तो नहीं। ऐसा बिल्कुल नहीं है। ANT+ iPhone, Google Pixel, Google Nexus, Huawei P सीरीज, Huawei Mate सीरीज और कई अन्य High-end Smartphone में आराम से देखने को मिल जाता है। इसके अलावा ANT+ Dongle और USB Stick भी मिल जाता है।

How To Use ANT+

अब सवाल यह है कि ANT+ को इस्तेमाल कैसे करें? तो इसके लिए आपके पास एक ANT+ Phone या ANT+ USB Stick और एक ANT+ Sensor Device होना जरूरी है। सेंसर डिवाइस का मतलब है HR Monitor, Pedometer अथवा Weight Scale जैसा कोई डिवाइस। अगर आपके पास ये दोनों चीजें मौजूद हैं तो आप आगे बढ़ सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Cryptocurrency क्या है? यह कैसे काम करती है? Explanation

आपको बताना चाहूँगा कि ANT+ का उपयोग करने के लिए आपको कुछ Android Apps की जरूरत पड़ेगी। अगर आप ANT+ Phone इस्तेमाल कर रहे हैं। तो अपने फोन में ANT Radio Service और ANT+ Plugins ऐप को Install कर लीजिए। वहीं अगर आप USB Stick इस्तेमाल कर रहे हैं। तो इन दो ऐप्स के अलावा एक तीसरी ऐप्प ANT USB Service की भी जरूरत पड़ेगी। इसीलिए इन तीनों ऐप्स को Install कर लीजिए। ये आपको Google Play Store पर आसानी से मिल जाऐंगी

अब अपना ANT+ Phone ले लीजिए। और एक ANT+ Device (जैसे कि Heart Rate Monitor) ले लीजिए और उसे ANT+ की मदद से अपने Smartphone से कनेक्ट कर दीजिए। जैसे ही HR Monitor और Phone आपस में कनेक्ट होंगे। उनके बीच एक PAN (Personal Area Network) स्थापित हो जाएगा। और HR Monitor का Real-Time Data आपके फोन पर दिखाई देना शुरू हो जाएगा।

ANT+ vs Bluetooth

अब सवाल यह है कि Bluetooth vs ANT+ में क्या अंतर है? तो इन दोनों में काफी अंतर है। पहला और सबसे बड़ा अंतर तो यही है कि Bluetooth से एक बार में केवल एक Device को कनेक्ट किया जा सकता है। अगर दूसरे डिवाइस को कनेक्ट करेंगे, तो पहले डिवाइस को Disconnect करना पड़ेगा। और उसके बाद दूसरे डिवाइस को Pair करना पड़ेगा। लेकिन ANT+ के साथ ऐसा नहीं है। इससे एक बार में Multiple Devices को कनेक्ट किया जा सकता है।

अवश्य पढ़ें: Internet क्या है? यह कैसे काम करता है? इंटरनेट का मालिक कौन हैं?

दूसरा अंतर यह है कि ब्लूटूथ को ज्यादा ऊर्जा की जरूरत पड़ती है। लेकिन एएनटी+ बहुत ही कम ऊर्जा में सालों काम कर सकता है। इसके अलावा Bluetooth की रेंज 100 मीटर होती है। जबकि ANT+ की Range सिर्फ 30 मीटर तक होती है। हालांकि दोनों का काम करने का तरीका लगभग एक जैसा ही है। लेकिन फिर भी दोनों में काफी फर्क है।

ANT/ANT+ के उपयोग

वैसे तो ANT/ANT+ के कई सारे उपयोग हैं। जैसे कि Sports, Fitness और Health संबंधी उपकरणों में इसका प्रमुखता से इस्तेमाल होता है। लेकिन कई High-End Smartphones में भी ANT+ का Support देखने को मिलता है। जैसे कि Samsung और Google Pixel के Smartphones. अगर उदाहरण की बात करें, तो ये कुछ ऐसे उपकरण हैं, जो ANT+ के साथ आते हैं:-

  • Heart Rate Monitors
  • Cycling Power Meters
  • Pedometers
  • Speed Monitors
  • Distance Monitors
  • Weight Scales
  • Smartwatches
  • ANT USB Sticks
  • Personal Area Networks

अवश्य पढ़ें: PVC Aadhaar Card क्या है? इसे घर बैठे कैसे Order करें?

इसके अलावा कई तरह के ANT+ Sensors और ANT+ Accessories भी उपलब्ध है। आपको बताना चाहूँगा कि ANT+ Network सुरक्षा के लिए AES-64 Bit और AES-128 Bit Encryption का उपयोग करता है। इसीलिए इसके Network को तोड़ना और Data चोरी करना बहुत ही मुश्किल है।

ANT+ Certificatation

एएनटी प्लस की सार-संभाल और देखरेख का जिम्मा ANT+ Alliance के पास है। इसीलिए एएनटी+ उपकरणों को Standard Device Profile के अनुपालन हेतु ANT+ Alliance से Certificate लेना पड़ता है। आपको बता दें कि एएनटी+ एलायंस को ANT Wireless द्वारा Manage किया जाता है। और एएनटी वायरलेस Dynastream Innovations का ही एक प्रभाग है। जिसे 2006 में Garmin Canada द्वारा अधिग्रहित कर लिया गया था। 

Summary

ANT एक Wireless Networking Protocol है। जो ANT+ Devices के बीच Wireless Communication के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसकी मदद से Personal Area Network स्थापित किया जा सकता है। और Data का आदान-प्रदान किया जाता है। इस तकनीकी का इस्तेमाल सबसे ज्यादा इस्तेमाल Sports, Fitness और Health Monitoring Devices में किया जाता है।

उम्मीद है इस आर्टिकल के जरिए आपको ANT/ANT+ Kya Hai? यह Wireless Network Protocol किस तरह काम करता है? और इसका इस्तेमाल कहाँ और किस काम में होता है? इसके बारे में काफी उपयोगी जानकारी मिली होगी। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम (वेबसाइट) को Subscribe कर लीजिए। ताकि जब भी हम कोई नया आर्टिकल पब्लिश करें, आपको उसकी सूचना मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

Comment