You are here : HomeExplanationWeb Hosting

Web Hosting क्या है? इसे कैसे व कहाँ से खरीदें? टॉप फीचर्स

Web-Hosting-Kya-Hai

अगर आप अपने Blog या Website के लिए Web Hosting खरीदने की सोच रहे हैं! तो आप बिलकुल सही जगह हैं। क्योंकि इस आर्टिकल में आपको वेब होस्टिंग के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी। साथ ही Web Hosting क्या है? यह कितने प्रकार की होती है? किस तरह काम करती है? एक अच्छे होस्टिंग प्लान में क्या-क्या होना चाहिए? और Hosting Plan खरीदते वक्त किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? इन तमाम सवालों का विस्तार से जवाब मिलेगा। इसीलिए इसे पूरा पढ़िएगा।

Web Hosting

एक ब्लॉग अथवा वेबसाइट के लिए Hosting बहुत मायने रखती है। क्योंकि पूरी वेबसाइट इसी पर टिकी होती है। इसीलिए होस्टिंग का चुनाव काफी सोच-समझकर करना पड़ता है। हालांकि होस्टिंग प्लान खरीदना कोई बड़ी नहीं है। कोई भी खरीद सकता है। लेकिन सही प्लान का चुनाव करना बहुत बड़ी बात है। क्योंकि इसमें Server, Bandwidth, Space और Uptime जैसी कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है। इसीलिए इन तमाम चीजों के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है।

अवश्य पढ़ें: Free Website अथवा Blog कैसे बनाऐं और उससे Earning कैसे करें?

अगर आप पहली बार होस्टिंग प्लान खरीदने जा रहे हैं। तो आपको यह जरूर पता होना चाहिए कि एक अच्छे Hosting Plan में कौन-कौनसे फीचर्स होते हैं? और एक ब्लॉग या वेबसाइट के लिए उनकी क्या अहमियत होती है? क्योंकि जब तक आपको इसके बारे में जानकारी नहीं होगी। तब तक आप अपने लिए एक Best Hosting Plan का चुनाव नहीं कर पाऐंगे? इसीलिए, आइए! Web Hosting के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Web Hosting क्या है?

वेब होस्टिंग World Wide Web पर मौजूद वह जगह होती है। जहाँ एक वेबसाइट को Store करके जाता है। और 24 घंटे Serve किया जाता है। अर्थात यह वर्ल्ड वाइड वेब पर मौजूद एक Online Space होता है। जहाँ एक वेबसाइट की तमाम Files को स्टोर करके रखा जाता है। और जब कोई User किसी File के लिए Request करता है। तो उसे वह फाईल उपलब्ध करवाई जाती है।

अगर आसान भाषा में कहें तो World Wide Web पर सूचनाओं को Websites के रूप में रखा जाता है। और इसके लिए प्रत्येक वेबसाइट को Space (जगह) की जरूरत पड़ती है। यानि कि जिस तरह घर बनाने के लिए जमीन की जरूरत पड़ती है। वैसे ही एक वेबसाइट को भी अपनी फाईलेें रखने के लिए जगह की जरूरत पड़ती है। जिसे Web Hosting कहा जाता है।

अवश्य पढ़ें: Domain क्या है? एक Blog और Website के लिए डोमेन का महत्व

अगर मैं आपसे पूछूँ कि आप इस वक्त यह जो आर्टिकल आप पढ़ रहे हैं। यह असल में कहाँ रखा हुआ है? तो आप क्या जवाब देंगे? कमेंट बॉक्स में बताइएगा जरूर। खैर, अगर आपने हमारे Browser और World Wide Web वाले आर्टिकल्स पढ़े हैं। तो आपको पता होगा कि यह आर्टिकल वर्ल्ड वाइड वेब पर टेकसेवी डॉट कॉम के सर्वर में रखा हुआ है। और आपके Browser की मदद से आपकी स्क्रीन पर दिखाई दे रहा है। 

Web Hosting की कार्यप्रणाली

जब आपको किसी वेबसाइट पर विजिट करना होता है। तो आप क्या करते हैं? जाहिर-सी बात है Web Browser ओपन करते होंगे। और उस वेबसाइट का Domain Name (एड्रेस) टाईप करके Enter दबाते होंगे। और ऐसा करते ही वह वेबसाइट ओपन हो जाती होगी। हैं ना? लेकिन क्या आपको पता है कि Enter दबाने और वेबसाइट के ओपन होने के बीच क्या-क्या हुआ होगा? नहीं? चलिए कोई बात नहीं। मैं बताता हूँ।

असल में आपके एंटर दबाते ही जो डोमेन नेम था। वह IP Address में बदल गया। और आपकी Request उस वेबसाइट के Server तक पहुंच गई। क्योंकि IP Address असल में उस सर्वर का एड्रेस था। इसीलिए आपकी Request कहीं और न जाकर, सिर्फ उसी सर्वर के पास गई। और जैसे ही सर्वर ने Request पढ़ी। तुरंत उस Page को खोजा, और आपके ब्राऊज़र को भेज दिया। इस तरह वह पेज आपकी कम्प्यूटर स्क्रीन तक पहुंचा।

अवश्य पढ़ें: Domain Register करते वक़्त भूलकर भी न करें ये 5 गलतियाँ, वरना

असल में प्रत्येक Website का एक Web Server होता है। और प्रत्येक Web Server का एक यूनिक IP Address होता है। जो वेबसाइट के Domain Name से Linked होता है। यानि कि World Wide Web पर अनगिनत Websites और Web Servers मौजूद हैं। ऐसे में एक वेब सर्वर को खोजने के लिए उसके IP Address का इस्तेमाल किया जाता है। 

Web Hosting के प्रकार

वैसे तो Web Hosting कई प्रकार की होती है। लेकिन अगर बात करें सबसे Popular और सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली होस्टिंग की। तो इस कैटेगरी में इन 4 प्रकार की Hostings का नाम आता है। पेश है Types of Web Hosting :-

1. Shared Hosting

शेयर्ड होस्टिंग का मतलब है – साझा होस्टिंग। यानि कि बहुत-सी वेबसाइट द्वारा मिलकर यूज की जाने वाली होस्टिंग। यह दरअसल एक सस्ती और पॉपुलर होस्टिंग है। जो नये Bloggers के लिए काफी अच्छी मानी जाती है। हालांकि इसमें Speed का थोड़ा Issue रहता है। लेकिन शुरुआत में Blog पर ज्यादा Traffic नहीं आता। इसीलिए कोई खास परेशानी नहीं होती। लेकिन जैसे-जैसे Traffic बढ़ने लगता है। Site Slow होती जाती है। और तब आपको अपना Hosting Plan Upgrade करना पड़ता है।

अवश्य पढ़ें: Traffic क्या है? अपने Blog पर ज्यादा से ज्यादा Traffic कैसे लें?

हालांकि Shared Hosting में Server, RAM, CPU सब कॉमन होता है। जिसे सारी Websites मिलकर यूज करती हैं। लेकिन Resources को इस तरह से Maintain किया जाता है कि सारी वेबसाइट्स को जरूरत के मुताबिक रिसोर्सेज मिल जाते हैं। फिर भी किसी वेबसाइट को ज्यादा रिसोर्सेज की जरूरत पड़ती है। तो बाकी वेबसाइट्स के Resources में कटौती करके उसकी जरूरत को पूरा कर दिया जाता है।

2. VPS (Virtual Private Server)

यह Shared Hosting से थोड़ी महंगी होती है। क्योंकि इसमें प्रत्येक वेबसाइट का एक Personal Server होता है। जिस पर सिर्फ उसी वेबसाइट का अधिकार होता है। इसीलिए Speed का कोई Issue नहीं रहता। इसके अलावा Resources को Share नहीं करना पड़ता। इसीलिए वेबसाइट के पास ज्यादा से ज्यादा रिसोर्सेज मौजूद होते हैं।

हालांकि VPS Hosting में हर वेबसाइट का अलग सर्वर होता है। लेकिन यह Virtual Server होता है, न Physical सर्वर। अब आप पूछेंगे कि यह वर्चुअल और फिजिकल सर्वर क्या बला है? तो फिजिकल सर्वर एक High Computing Power वाला Computer होता है। जिसे कई छोटे-छोटे Servers में बांट दिया जाता है। इन्हीं छोटे Servers को Virtual Servers कहा जाता है।

अवश्य पढ़ें: Internet क्या है? यह कैसे काम करता है? इंटरनेट का मालिक कौन हैं?

यह बिल्कुल वैसे ही है, जैसे 1TB Harddisk को 250 GB के चार अलग-अलग Folders में बांटना। इसमें सारे Servers वर्चुअली अलग-अलग होते हैं। लेकिन फिजिकली एक ही होते हैं। यानि कि जिस तरह एक होटल में कई सारे Room होते हैं। वैसे ही एक Computer में कई सारे Virtual Private Servers होते हैं।

3. Dedicated Hosting

यह बहुत ही महंगी होस्टिंग है। क्योंकि इसमें पूरा का पूरा Server (Computer) आपका होता है। यानि कि एक कमरे की बजाय पूरा का पूरा होटल आपका होता है। इसीलिए यह काफी महंगा पड़ता है। हालांकि High Traffic और eCommerce वेबसाइट्स के लिए Best है। लेकिन एक Blog के लिए उतनी उपयोगी नहीं है।

अगर Resources की बात करें तो Dedicated Hosting इस मामले में काफी संपन्न होती है। क्योंकि पूरे सर्वर पर सिर्फ एक ही Website का अधिकार होता है। ऐसे में वेबसाइट के पास RAM, CPU, Storage, Bandwidth, Security किसी भी चीज की कोई कमी नहीं होती। इसके अलावा Customization के इतने सारे विकल्प मिलते हैं कि पूछिए मत। क्योंकि Server का पूरा Control (Root Access) आपके पास होता है। ऐसे में आप जैसे चाहें, Customize कर सकते हैं।

अवश्य पढ़ें: Keyword Research क्या है? कीवर्ड रिसर्च कैसे करें? – SEO

हालांकि Dedicated Hosting को खरीदना बहुत आसान है, लेकिन Manage करना उतना मुश्किल है। क्योंकि इसके लिए Technical Knowledge की जरूरत पड़ती है। इसीलिए अगर आपको तकनीकी ज्ञान नहीं तो आप इसे Manage नहीं कर सकते। ऐसी स्थिति में आपको अलग-से एक Expert हायर करना पड़ेगा।

4. Cloud Web Hosting

यह एक नई तरह की होस्टिंग है, जो आजकल काफी पॉपुलर हो रही है। इसमें कई सारे Server (Group of Servers) मिलकर एक वेबसाइट के लिए काम करते हैं। इसीलिए Website की Performance लाजवाब होती है। हालांकि यह काफी महंगी होती है। लेकिन Service और Security के मामले में Best होती है।

वहीं अगर Shared, VPS और Dedicated Hosting की बात करें। तो इन तीनों की एक कॉमन समस्या है। दरअसल इनमें Resources की एक Limit होती है। जिसके पार होते ही वेबसाइट काम करना बंद कर देती है। यानि कि जब कोई Content Viral हो जाता है। और बेहिसाब Traffic आने लगता है, तो Server Down हो जाता है। क्योंकि Traffic को संभालने के लिए Resources नहीं बचते।

अवश्य पढ़ें: Youtube Community Guidelines Strike क्या है? इससे कैसे बचें?

ऐसे में वेबसाइट काफी Slow हो जाती है। या फिर काम करना बंद कर देती है। लेकिन Cloud Hosting में यह समस्या नहीं है। क्योंकि इसमें कई सारे Servers मिलकर काम करते हैं। इसीलिए भारी से भारी Traffic को भी आसानी से हैंडल कर लेते हैं।

Linux Vs Windows Hosting

जब आप किसी Hosting Provider की वेबसाइट पर जाते हैं। तो वहाँ आपको दो ऑप्शन्स देखने को मिलते हैं। एक, Linux Hosting, और दूसरा Windows Hosting. हालांकि इन दोनों में कोई ज्यादा फर्क नहीं है। लेकिन जो इंसान पहली बार होस्टिंग खरीदता है। उसे यह समझ में नहीं आता कि इन दोनों में से किसे चुनें? और क्यों? तो आइए, जानते हैं कि Linux Vs Windows होस्टिंग क्या है? और इन दोनों में क्या फर्क है?

Linux Web Hosting

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि Linux एक Open-source Operating System है। जो बिल्कुल फ्री है। यानि कि इसके लिए न तो आपको कोई पैसा देना पड़ता है। और न ही Licence खरीदना पड़ता है। इसे आप मुफ्त में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसीलिए Linux Hosting काफी सस्ती होती है।

अवश्य पढ़ें: Supercomputer क्या है? दुनिया के टॉप सुपर कम्प्यूटर्स और भारत

अब आप पूछेंगे कि जब Linux OS फ्री है तो फिर Hosting के पैसे क्यों लिए जाते हैं? तो इसका जवाब यह है कि Hosting Providers आपको एक कंपलीट Package बनाकर देते हैं। यानि कि आपकी जरूरत के हिसाब से हर Feature एड करके देते हैं। जिसमें cPanel भी शामिल होता है। इसीलिए आपको पैसे देने पड़ते हैं। हालांकि इसके बावजूद Linux Hosting काफी सस्ती होती है। 

Windows Web Hosting

विंडोज होस्टिंग थोड़ी महंगी होती है। क्योंकि Windows Microsoft का Product है। इसीलिए इसे खरीदना पड़ता है। यानि कि Microsoft से License लेना पड़ता है। इसीलिए इसकी कीमत थोड़ी ज्यादा होती है। हालांकि Windows Hosting महंगी जरूर होती है। लेकिन यह Linux Hosting से ज्यादा Secure होती है। इसीलिए सुरक्षा के लिहाज से यह काफी अच्छी मानी जाती है।

Web Hosting Features

अब सवाल यह है कि एक Hosting Plan में क्या-क्या होना चाहिए? और एक होस्टिंग प्लान खरीदते वक्त किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? तो आइए! जानते है वेब होस्टिंग के सबसे महत्वपूर्ण और टॉप फीचर्स के बारे में। Top Features of Web Hosting :-

Bandwidth

बैंडविड्थ, होस्टिंग का सबसे महत्वपूर्ण फीचर है। यह प्रति सैकंड Process किए जाने वाले Data की मात्रा को दर्शाता है। यानि कि जब कोई यूजर आपकी Website पर विजिट करता है। तो उसके और वेबसाइट के बीच एक सैकंड में Transfer होने वाले Data की मात्रा को Bandwidth कहा जाता है। यह मात्रा जितनी ज्यादा होती है, वेबसाइट उतनी ही Fast Load होती है। क्योंकि कम समय में ज्यादा से ज्यादा Data Transfer होने के कारण बड़े से बड़ा Webpage भी झट-से लोड हो जाता है।

अवश्य पढ़ें: Brave Browser लोगों को इतना पसंद क्यों आ रहा है? – 10 कारण

लेकिन अगर Bandwidth Low है और साइट पर Traffic बढ़ गया। तो Loading Speed काफी कम हो जाएगी। इसीलिए ऐसा होस्टिंग प्लान चुनें, जिसमें Unlimited Bandwidth हो। हालांकि ज्यादातर होस्टिंग प्रोवाइडर्स Unlimited Bandwidth ही देते है। लेकिन अगर आप कोई सस्ता प्लान खरीद रहे हैं। तो आपको 4 GB, 5 GB या 10 GB Monthly Bandwidth भी देखने को मिल सकती है। इसीलिए चैक कर लें।

Storage

जिस तरह एक Smartphone में Photos, Videos और Songs वगैरह रखने के लिए Storage की जरूरत पड़ती है। वैसे ही एक वेबसाइट को भी अपनी फाईलें रखने के लिए Storage की जरूरत पड़ती है। लेकिन वेबसाइट के लिए आपको Unlimited Storage का ऑप्शन भी मिल जाता है। इसीलिए अगर आप Photo, Video, Song या फिर Software Website बनाना चाहते हैं। तो Unlimited Storage आपके लिए सबसे Best Option है।

हालांकि एक नॉर्मल Blog के लिए Unlimited Storage की जरूरत नहीं पड़ती। क्योंकि ब्लॉग पर ज्यादा Data नहीं होता। सिर्फ कुछ HTML Pages और थोड़ी-बहुत Photos होती हैं, जो ज्यादा जगह नहीं घेरती। इसीलिए एक ब्लॉग के लिए 500 GB Storage काफी होता है। बाकी आप जितना ज्यादा Storage लेंगे, उतना ही ज्यादा महंगा पड़ेगा।

Uptime

एक वेबसाइट के Online रहने के टाईम को Uptime कहा जाता है। यानि कि जितनी देर वेबसाइट Online रहती है, वह उसका Uptime और जितनी देर Down (Offline) रहती है, वह Downtime कहलाता है।

अवश्य पढ़ें: OTP (One Time Password) क्या है? यह कैसे काम करता है?

हालांकि वैसे तो एक वेबसाइट 24 घंटे Live (Online) रहती है। लेकिन कभी-कभार तकनीकी समस्या के कारण Server Down हो जाता है। जिसकी वजह से वेबसाइट Offline हो जाती है। लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता है। लगभग ‘ना’ के बराबर। फिर भी ऐसा होता है। इसीलिए कोई भी Hosting Service Provider 100% Uptime की गारंटी नहीं देता। हाँ, 99.99% अपटाईम की गारंटी कई होस्टिंग प्रोवाइडर्स देते हैं, जो कि सबसे Best अपटाईम है। इसीलिए ऐसे होस्टिंग प्लान का चुनाव करें, जिसमें Highest Uptime की गारंटी हो।

Backup

यह सबसे महत्वपूर्ण फीचर्स में से एक है, जो हर वेबसाइट के लिए अनिवार्य है। क्योंकि इसकी मदद से खत्म हो चुकी वेबसाइट को भी फिर से जिंदा किया जा सकता है। जी हाँ, खत्म हो चुकी वेबसाइट को फिर से जिंदा किया जा सकता है। और Delete हो चुकी तमाम Files को फिर से Restore किया जा सकता है। इसीलिए एक होस्टिंग प्लान में इस फीचर का होना अनिवार्य है।

Customer Support

जरा सोचिए कि अगर आपके Server में कोई तकनीकी समस्या आ गई। और आपकी वेबसाइट ऑफलाइन हो गई तो आप क्या करेंगे? जाहिर-सी बात है उसी वक्त Customer Support Team से बात करेंगे और मदद मांगेगे। लेकिन क्या हो अगर Customer Support Team आपको 2 घंटे तक जवाब ही न दे?

अवश्य पढ़ें: Password Safety : पासवर्ड Hacking के तरीके व बचने के उपाय

हालांकि वैसे तो हर होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर 24×7 Customer Service का दावा करता है। लेकिन हर होस्टिंग प्रोवाइडर इस दावे पर ख़रा भी उतरे, यह जरूरी नहीं है। इसीलिए आप जिस भी होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर से होस्टिंग खरीदें। उसकी कस्टमर सर्विस के बारे में जरूर पता करें। इसके लिए आप Customers के Reviews पढ़ सकते हैं।

Web Hosting कहाँ से खरीदें?

अब सवाल यह है Web Hosting कहाँ से खरीदें? और क्यों? तो इसके लिए मैं आपको 5 सबसे पॉपुलर और विश्वसनीय Hosting Providers के बारे में बता रहा हूँ। जो इस क्षेत्र में कई सालों से काम कर रहे हैं। आप इनमें से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं। और चाहें तो किसी और होस्टिंग प्रोवाइडर का भी चुनाव कर सकते हैं। खैर, ये हैं Top-5 Hosting Providers :-

1. WordPress.com

अगर आपको Technical Knowledge नहीं है। तो WordPress आपके लिए सबसे Best है। क्योंकि इसमें आपको ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं पड़ती। सब-कुछ Setup किया हुआ मिलता है। साथ ही 24×7 Customer Support, Real-Time Backup और गजब की Security मिलती हैं। इसके अलावा अगर आपको आधी रात को भी मदद की जरूरत पड़ गई। तो WordPress Support Team आपको हर वक्त तैयार मिलेगी।

अवश्य पढ़ें: Bloggers असफल होकर Blogging क्यों छोड़ देते हैं? – 7 कारण

हालांकि WordPress.com पर आपको Customization की उतनी आजादी नहीं मिलती। जितनी कि WordPress.org पर मिलती है। लेकिन यहाँ आपको जो Web Development Tools और CMS Tools मिलते हैं। वे और कहीं नहीं मिलते।

इसीलिए अगर आपको Server, Database, MySQL, phpMyAdmin आदि के बारे में बिल्कुल भी Knowledge नहीं है। तो वर्डप्रेस डॉट कॉम आपके लिए सबसे बेस्ट हैं। क्योंकि इसमें आपको इन चीजों के बारे में जानने की कोई जरूरत नहीं है। आप बिना किसी झंझट के एक Feature Rich और Secure Website बना सकते हैं। साथ ही अगर आप पहली बार Hosting Plan खरीदेंगे, तो आपको 25$ Bonus भी मिलेगा।

2. Hostgator

होस्टगेटर एक बेहद पॉपुलर और विश्वसनीय Hosting Provider है। जो वाजिब कीमत में बढ़िया सर्विस मुहैया करवाता है। अगर आप Hindi Blog बनाना चाहते हैं। और आपकी Target Audience India से है। तो आप Indian Server चुन सकते हैं। इससे आपका Blog काफी Fast Load होगा। 

इसके अलावा Hostgator आपको 24×7 Customer Support और Backup जैसी सभी जरूरी सुविधाएं देता है। साथ ही 45 दिन की Money Back Guarantee भी देता है। अगर आपने कोई होस्टिंग प्लान खरीदा और पसंद नहीं आया। तो आप उसे वापिस कर सकते हैं और अपने पैसे ले सकते हैं। यह सुविधा आपको वर्डप्रेस और बाकी पॉपुलर Hosting Providers भी मुहैया करवाते हैं।

3. Bluehost

Bluehost सबसे बढ़िया होस्टिंग प्रोवाइडर्स में से एक है। और इसकी सर्विस इतनी अच्छी है कि WordPress भी इसका समर्थन करता है। आपको बताना चाहूँगा कि वर्डप्रेस आधिकारिक रूप से Bluehost का समर्थन करता है। और इसे WordPress Hosting के लिए सबसे Best मानता है। ऐसे में आप खुद समझ सकते हैं कि ब्लूहोस्ट की सर्विस कितनी अच्छी होगी?

अवश्य पढ़ें: 5G Phones के नाम पर बेवकूफ बना रही हैं स्मार्टफोन कंपनियां

Bluehost India के लिए सबसे अच्छा होस्टिंग प्रोवाइडर माना जाता है। क्योंकि इसका Indian Server, US Server से करीब 10 गुना Fast है। इसके अलावा Bluehost आपको SSD Storage, Backup, Marketing Tools और ढ़ेर सारे Web Development Tools मुहैया करवाता है। जिनकी मदद से आप एक अच्छी Professional Website बना सकते हैं।

4. Hostinger

Hostinger सबसे सस्ते होस्टिंग प्रोवाइडर्स में से एक है। इसका शुरुआती प्लान सिर्फ ₹59/- महीने का है। उस पर 70% तक Discount मिल जाता है। यानि कि यह सबसे Cheapest Hosting मुहैया करवाता है। लेकिन इसके बावजूद इसकी सर्विस बहुत अच्छी है। अगर आप बेहद कम कीमत में अच्छा होस्टिंग प्लान लेने की सोच रहे हैं। तो Hostinger के Plans जरूर चैक करें।

5. Godaddy

वैसे तो Godaddy को एक Domain Registrar Company के रूप में जाना जाता है। लेकिन Domains के साथ-साथ यह Hosting Service भी मुहैया करवाती है। अगर आप चाहें तो Godaddy से डोमेन और होस्टिंग दोनों खरीद सकते हैं। हालांकि डोमेन अलग से खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती। क्योंकि Hosting के साथ Domain Free मिल जाता है।

अवश्य पढ़ें: Domain Mapping क्या है? डोमेन को Blog से कैसे कनेक्ट करें?

खैर, Godaddy Hosting Plans न ज्यादा महंगे हैं और न ज्यादा सस्ते। अगर शुरुआती प्लान की बात करें तो यह ₹99/- प्रतिमाह से शुरू होता है। जिसमें 256 MB RAM और 30 GB Storage के साथ Single Website Host करने की सुविधा मिलती है। लेकिन इसके आपको Domain अलग से खरीदना पड़ता है। क्योंकि इसके साथ Free Domain नहीं मिलता।

कौनसा Hosting Plan खरीदें?

अब आप सोच रहे होंगे कि इतने सारे Hosting Providers हैं। और सबके अलग-अलग Plans हैं। ऐसे में कौनसा प्लान खरीदें? तो यह दरअसल आपकी वेबसाइट पर निर्भर करता है। अगर आप एक Blog Website बनाना चाहते हैं, तो आप शुरुआती प्लान ले सकते हैं। और बाद में जरूरत के हिसाब से Upgrade कर सकते हैं। लेकिन वहीं अगर आप एक बढिया Professional Website बनाना चाहते हैं। तो इसके लिए कम से कम Midrange Plan की जरूरत पड़ेगी।

लेकिन अगर आप एक Storage अथवा e-Commerce Website बनाना चाहते हैं। तो आपको Flagship Plan लेना पड़ेगा। क्योंकि इस तरह की वेबसाइट्स के लिए Unlimited Storage, Unlimited Bandwidth और High CPU Power के साथ-साथ Fast Speed और बढ़िया Security की जरूरत पड़ती है। जो कि सिर्फ Flagship Plan में ही देखने को मिल सकता है।

Web Hosting : Summary

उम्मीद है इस आर्टिकल के जरिए आपको Web Hosting Kya Hai? यह कैसे काम करती है? और इसे कैसे व कहाँ से खरीदें? इसके बारे में काफी उपयोगी जानकारी मिली होगी। साथ ही वेब होस्टिंग के प्रकार और Features के बारे में भी जानने को मिला होगा। अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया तो इसे Like और Share कीजिए। और ऐसे ही ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स के लिए टेकसेवी डॉट कॉम को Subscribe कर लीजिए। ताकि जैसे ही हम कोई नया आर्टिकल पब्लिश करें, आपको उसकी सूचना मिल जाए।

अवश्य पढ़ें (खास आपके लिए) :-

“Web Hosting क्या है? इसे कैसे व कहाँ से खरीदें? टॉप फीचर्स” पर 1 विचार

Comment